Download Bhajan as .txt File Download Bhajan as IMAGE File

मोहे आन मिलो श्याम, बहुत दिन बीत गए।
बहुत दिन बीत गए, बहुत युग बीत गए ॥

मोहे आन मिलो श्याम, बहुत दिन बीत गए।
बहुत दिन बीत गए, बहुत युग बीत गए ॥

राह तकत के हारी अँखिआ, फिर भी आस लगाए यह अँखिआ ।
अब आई जीवन की श्याम, बहुत दिन बीत गए ॥

राधा की अँखियन के तारे, मन हर मोहन नन्द दुलारे,
मेरे मन में बस जाओ श्याम, बहुत दिन बीत गए ॥

ओ चित्त चोर मुरलिया बजा दे, तन मन की सुध बुध बिसरा दे ।
तुम भक्तो के हो सुखधाम, बहुत दिन बीत गए ॥

नरसी की थी हुंडी तारी, मुझको केवल आस तिहारी ।
तुम मीरा के गिरिधर श्याम, बहुत दिन बीत गए ॥

तू दाता मैं तेरा भिखारी, इष्टदेव तू मैं तेरा पुजारी ।
अब अनंत विकल भए प्राण, बहुत दिन बीत गए ॥

राधा की अखियन की तारे, मेरे भी बन जाओ सहारे।
ओ भक्तो के भगवान्, बहुत दिन बीत गए॥

मुरली वाले मुरली बजा जा, सोए हुए मेरे भाग्य जगा जा।
ओ मीरा के भगवान्, बहुत दिन बीत गए॥

मन मंदिर में रास रचा जा, रूप सांवला दरश दिखा जा।
जीवन की हो गयी श्याम, बहुत दिन बीत गए॥

नरसी भकत की हुंडी स्वीकारी, सांवल शाह बन आए मुरारी ।



mohe aan milo ghanshyam bahut din beet gaye



Krishna Bhajans App

Bhajan Lyrics View All

मीठे रस से भरी रे, राधा रानी लागे,
मने कारो कारो जमुनाजी रो पानी लागे
दाता एक राम, भिखारी सारी दुनिया ।
राम एक देवता, पुजारी सारी दुनिया ॥
मेरा आपकी कृपा से,
सब काम हो रहा है
मुझे चाहिए बस सहारा तुम्हारा,
के नैनों में गोविन्द नज़ारा तुम्हार
प्रीतम बोलो कब आओगे॥
बालम बोलो कब आओगे॥
करदो करदो बेडा पार, राधे अलबेली सरकार।
राधे अलबेली सरकार, राधे अलबेली
कोई पकड़ के मेरा हाथ रे,
मोहे वृन्दावन पहुंच देओ ।
राधा कट दी है गलिआं दे मोड़ आज मेरे
श्याम ने आना घनश्याम ने आना
कान्हा की दीवानी बन जाउंगी,
दीवानी बन जाउंगी मस्तानी बन जाउंगी,
प्रभु कर कृपा पावँरी दीन्हि
सादर भारत शीश धरी लीन्ही
राधिका गोरी से ब्रिज की छोरी से ,
मैया करादे मेरो ब्याह,
ये सारे खेल तुम्हारे है
जग कहता खेल नसीबों का
मुँह फेर जिधर देखु मुझे तू ही नज़र आये
हम छोड़के दर तेरा अब और किधर जाये
श्री राधा हमारी गोरी गोरी, के नवल
यो तो कालो नहीं है मतवारो, जगत उज्य
श्यामा तेरे चरणों की गर धूल जो मिल
सच कहता हूँ मेरी तकदीर बदल जाए॥
Ye Saare Khel Tumhare Hai Jag
Kahta Khel Naseebo Ka
अपनी वाणी में अमृत घोल
अपनी वाणी में अमृत घोल
मेरी विनती यही है राधा रानी, कृपा
मुझे तेरा ही सहारा महारानी, चरणों से
हे राम, हे राम, हे राम, हे राम
जग में साचे तेरो नाम । हे राम...
हर पल तेरे साथ मैं रहता हूँ,
डरने की क्या बात? जब मैं बैठा हूँ
कहना कहना आन पड़ी मैं तेरे द्वार ।
मुझे चाकर समझ निहार ॥
श्याम बुलाये राधा नहीं आये,
आजा मेरी प्यारी राधे बागो में झूला
कोई कहे गोविंदा कोई गोपाला,
मैं तो कहूँ सांवरिया बांसुरी वाला ।
तेरे बगैर सांवरिया जिया नही जाये
तुम आके बांह पकड लो तो कोई बात बने‌॥
राधे मोरी बंसी कहा खो गयी,
कोई ना बताये और शाम हो गयी,
श्यामा प्यारी मेरे साथ हैं,
फिर डरने की क्या बात है
दिल की हर धड़कन से तेरा नाम निकलता है
तेरे दर्शन को मोहन तेरा दास तरसता है
दुनिया का बन कर देख लिया, श्यामा का बन
राधा नाम में कितनी शक्ति है, इस राह पर
दुनिया से मैं हारा तो आया तेरे द्वार,
यहाँ से गर जो हरा कहाँ जाऊँगा सरकार
मोहे आन मिलो श्याम, बहुत दिन बीत गए।
बहुत दिन बीत गए, बहुत युग बीत गए ॥