Share this page on following platforms.
Download Bhajan as .txt File Download Bhajan as IMAGE File

राधा कट दी है गलिआं दे मोड़ आज मेरे श्याम ने आना
श्याम ने आना घनश्याम ने आना

राधा कट दी है गलिआं दे मोड़ आज मेरे श्याम ने आना
श्याम ने आना घनश्याम ने आना
राधा कट दी....

लब लो नही सियो किथे कृष्ण मुरारी नु,
पीले पीताम्बर वाले बांके बिहारी नु
कदों आवे मेरे मखाना दा चोर,
आज मेरे श्याम ने आना,
राधा कट दी....

मोर मुक्त माथे तिलक सुहंदा,
तेरे बिना मेनू कोई होर नही बांदा,
मेरे तेरे बिन नही कोई होर
आज मेरे श्याम ने आना,

बंसी दी तान विच फूक जदों मार दा
दुश्ता नु मरदा ते भगता नु तार दा,
कनि पेंदा मेरे बंसी डा शोर,
आज मेरे श्याम ने आना,

श्याम दा विछोडा सथो चालिया नही जांदा,
मन मोह लेनदा जदों बंसी बजौन्दा
ओहदी बंसी विच नाच दे मोर,
आज मेरे श्याम ने आना,



radha kat di hai galiyan de mod aaj mere shyam ne aana



Bhajan Lyrics View All

मोहे आन मिलो श्याम, बहुत दिन बीत गए।
बहुत दिन बीत गए, बहुत युग बीत गए ॥
वृदावन जाने को जी चाहता है,
राधे राधे गाने को जी चाहता है,
जीवन खतम हुआ तो जीने का ढंग आया
जब शमा बुझ गयी तो महफ़िल में रंग आया
तेरी मंद मंद मुस्कनिया पे ,बलिहार
तेरी मंद मंद मुस्कनिया पे ,बलिहार
श्यामा प्यारी मेरे साथ हैं,
फिर डरने की क्या बात है
तू कितनी अच्ची है, तू कितनी भोली है,
ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ ।
ज़रा छलके ज़रा छलके वृदावन देखो
ज़रा हटके ज़रा हटके ज़माने से देखो
मेरी करुणामयी सरकार पता नहीं क्या दे
क्या दे दे भई, क्या दे दे
मुँह फेर जिधर देखु मुझे तू ही नज़र आये
हम छोड़के दर तेरा अब और किधर जाये
तमन्ना यही है के उड के बरसाने आयुं मैं
आके बरसाने में तेरे दिल की हसरतो को
मीठे रस से भरी रे, राधा रानी लागे,
मने कारो कारो जमुनाजी रो पानी लागे
कोई कहे गोविंदा कोई गोपाला,
मैं तो कहूँ सांवरिया बांसुरी वाला ।
जग में सुन्दर है दो नाम, चाहे कृष्ण
बोलो राम राम राम, बोलो श्याम श्याम
जय राधे राधे, राधे राधे
जय राधे राधे, राधे राधे
कोई कहे गोविंदा, कोई गोपाला।
मैं तो कहुँ सांवरिया बाँसुरिया वाला॥
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से
गोविन्द नाम लेकर, फिर प्राण तन से
बांके बिहारी की देख छटा,
मेरो मन है गयो लटा पटा।
सांवरिया है सेठ ,मेरी राधा जी सेठानी
यह तो सारी दुनिया जाने है
राधा ढूंढ रही किसी ने मेरा श्याम देखा
श्याम देखा घनश्याम देखा
हर पल तेरे साथ मैं रहता हूँ,
डरने की क्या बात? जब मैं बैठा हूँ
एक दिन वो भोले भंडारी बन कर के ब्रिज
पारवती भी मना कर ना माने त्रिपुरारी,
कैसे जिऊ मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही ना लागे तुम्हारे बिना
मेरा यार यशुदा कुंवर हो चूका है
वो दिल हो चूका है जिगर हो चूका है
कोई पकड़ के मेरा हाथ रे,
मोहे वृन्दावन पहुंच देओ ।
एक कोर कृपा की करदो स्वामिनी श्री
दासी की झोली भर दो लाडली श्री राधे॥
लाली की सुनके मैं आयी
कीरत मैया दे दे बधाई
हे राम, हे राम, हे राम, हे राम
जग में साचे तेरो नाम । हे राम...
हम प्रेम दीवानी हैं, वो प्रेम दीवाना।
ऐ उधो हमे ज्ञान की पोथी ना सुनाना॥
दुनिया का बन कर देख लिया, श्यामा का बन
राधा नाम में कितनी शक्ति है, इस राह पर
तीनो लोकन से न्यारी राधा रानी हमारी।
राधा रानी हमारी, राधा रानी हमारी॥