Share this page on following platforms.
Download Bhajan as .txt File Download Bhajan as IMAGE File

हर साँस में हो सुमिरन तेरा,
यूँ बीत जाये जीवन मेरा

हर साँस में हो सुमिरन तेरा,
यूँ बीत जाये जीवन मेरा

तेरी पूजा करते बीते साँझ सवेरा
यूँ बीत जाये जीवन मेरा

नैनो की खिड़की से तुमको पल पल मै निहारूँ
मन में बिठालू, तेरी आरती उतारूँ

डाले रहू तेरे चरणों में डेरा,
यूँ बीत जाए जीवन मेरा

हर साँस में हो सुमिरन तेरा,
यूँ बीत जाए जीवन मेरा

जो भी तेरा प्यारा हो, वो मेरे दिल का प्यारा हो
मेरे सर का ताज मेरी आँखों का तारा हो

सबमे निहारूँ रूप सुनहरा,
यूँ बीत जाए जीवन मेरा

हर साँस में हो सुमिरन तेरा,
यूँ बीत जाए जीवन मेरा

प्यार हो, सत्कार हो, एतबार हो तुम्हारा
सुख भी हो सारे और याद हो इशारा

हो आत्मा पर तेरा ही डेरा,
यूँ बीत जाए जीवन मेरा

हर साँस में हो सुमिरन तेरा,
यूँ बीत जाए जीवन मेरा

तेरी पूजा करते बीते साँझ सवेरा,
यूँ बीत जाए जीवन मेरा

हर साँस में हो सुमिरन तेरा,
यूँ बीत जाए जीवन मेरा

प्यारे यूँ बीत जाए जीवन मेरा

राधे राधे गोविन्द, गोविन्द राधे
राधे राधे गोविन्द, गोविन्द राधे

गोविन्द राधे, गोपाल राधे



har sans me ho sumaran tera yuu beet jaye jeewan mera



Bhajan Lyrics View All

मेरी करुणामयी सरकार, मिला दो ठाकुर से
कृपा करो भानु दुलारी, श्री राधे
दिल लूटके ले गया नी सहेलियो मेरा
मैं तक्दी रह गयी नी सहेलियो लगदा
कोई कहे गोविंदा कोई गोपाला,
मैं तो कहूँ सांवरिया बांसुरी वाला ।
एक कोर कृपा की करदो स्वामिनी श्री
दासी की झोली भर दो लाडली श्री राधे॥
जय राधे राधे, राधे राधे
जय राधे राधे, राधे राधे
यशोमती मैया से बोले नंदलाला,
राधा क्यूँ गोरी, मैं क्यूँ काला
एक दिन वो भोले भंडारी बन कर के ब्रिज
पारवती भी मना कर ना माने त्रिपुरारी,
लाडली अद्बुत नज़ारा तेरे बरसाने में
लाडली अब मन हमारा तेरे बरसाने में है।
वृन्दावन के बांके बिहारी,
हमसे पर्दा करो ना मुरारी ।
बृज के नन्द लाला राधा के सांवरिया
सभी दुख: दूर हुए जब तेरा नाम लिया
ज़रा छलके ज़रा छलके वृदावन देखो
ज़रा हटके ज़रा हटके ज़माने से देखो
सारी दुनियां है दीवानी, राधा रानी आप
कौन है, जिस पर नहीं है, मेहरबानी आप की
राधे मोरी बंसी कहा खो गयी,
कोई ना बताये और शाम हो गयी,
श्री राधा हमारी गोरी गोरी, के नवल
यो तो कालो नहीं है मतवारो, जगत उज्य
राधे राधे बोल, श्याम भागे चले आयंगे।
एक बार आ गए तो कबू नहीं जायेंगे ॥
राधा ढूंढ रही किसी ने मेरा श्याम देखा
श्याम देखा घनश्याम देखा
नी मैं दूध काहे नाल रिडका चाटी चो
लै गया नन्द किशोर लै गया,
ये सारे खेल तुम्हारे है
जग कहता खेल नसीबों का
दिल की हर धड़कन से तेरा नाम निकलता है
तेरे दर्शन को मोहन तेरा दास तरसता है
फूलों में सज रहे हैं, श्री वृन्दावन
और संग में सज रही है वृषभानु की
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से
गोविन्द नाम लेकर, फिर प्राण तन से
मेरा आपकी कृपा से,
सब काम हो रहा है
वास देदो किशोरी जी बरसाना,
छोडो छोडो जी छोडो जी तरसाना ।
जिनको जिनको सेठ बनाया वो क्या
उनसे तो प्यार है हमसे तकरार है ।
किशोरी कुछ ऐसा इंतजाम हो जाए।
जुबा पे राधा राधा राधा नाम हो जाए॥
हम राम जी के, राम जी हमारे हैं
वो तो दशरथ राज दुलारे हैं
अपनी वाणी में अमृत घोल
अपनी वाणी में अमृत घोल
तमन्ना यही है के उड के बरसाने आयुं मैं
आके बरसाने में तेरे दिल की हसरतो को
मेरी करुणामयी सरकार पता नहीं क्या दे
क्या दे दे भई, क्या दे दे
प्रभु कर कृपा पावँरी दीन्हि
सादर भारत शीश धरी लीन्ही