Share this page on following platforms.
Download Bhajan as .txt File Download Bhajan as IMAGE File

मुझे चाहिए बस सहारा तुम्हारा,
के नैनों में गोविन्द नज़ारा तुम्हार

मुझे चाहिए बस सहारा तुम्हारा
के नैनों में गोविन्द नज़ारा तुम्हारा

मोहब्बत में तेरी हुआ मैं दीवाना,
रहे प्यार कायम हमारा तुम्हारा

तेरे साथ जोड़ी हैं जीवन की रहे
ना छूटे कभी साथ हमारा तुम्हारा

मैं माया के घेरे सभी तोड़ दूंगा
मेरे सर पे हो हाथ अगर ये तुम्हारा

में तेरा ही दास हूँ, तेरा रहूँगा
यह रिश्ता पुराना , हमारा तुम्हारा



Mujhe Chaahie Bas Sahaara Tumhaara,
Ke Nainon Mein Govind Nazaara Tumhaara

mujhe chaahie bas sahaara tumhaara
ke nainon mein govind nazaara tumhaara

mohabbat mein teree hua main deevaana,
rahe pyaar kaayam hamaara tumahara

tere saath jodee hain jeevan kee rahe
na chhoote kabhee saath hamaara tumhaara

main maaya ke ghere sabhee tod doonga
mere sar pe ho haath agar ye tumhaara

mein tera hee daas hoon, tera rahoonga
yah rishta puraana , hamaara tumhaara



Bhajan Lyrics View All

अपने दिल का दरवाजा हम खोल के सोते है
सपने में आ जाना मईया,ये बोल के सोते है
मुझे चढ़ गया राधा रंग रंग, मुझे चढ़
श्री राधा नाम का रंग रंग, श्री राधा
राधे मोरी बंसी कहा खो गयी,
कोई ना बताये और शाम हो गयी,
आँखों को इंतज़ार है सरकार आपका
ना जाने होगा कब हमें दीदार आपका
हम राम जी के, राम जी हमारे हैं
वो तो दशरथ राज दुलारे हैं
ये सारे खेल तुम्हारे है
जग कहता खेल नसीबों का
हम प्रेम दीवानी हैं, वो प्रेम दीवाना।
ऐ उधो हमे ज्ञान की पोथी ना सुनाना॥
वृंदावन में हुकुम चले बरसाने वाली का,
कान्हा भी दीवाना है श्री श्यामा
सांवरियो है सेठ, म्हारी राधा जी
यह तो जाने दुनिया सारी है
एक दिन वो भोले भंडारी बन कर के ब्रिज
पारवती भी मना कर ना माने त्रिपुरारी,
सारी दुनियां है दीवानी, राधा रानी आप
कौन है, जिस पर नहीं है, मेहरबानी आप की
बांके बिहारी की देख छटा,
मेरो मन है गयो लटा पटा।
नी मैं दूध काहे नाल रिडका चाटी चो
लै गया नन्द किशोर लै गया,
ना मैं मीरा ना मैं राधा,
फिर भी श्याम को पाना है ।
तेरे दर पे आके ज़िन्दगी मेरी
यह तो तेरी नज़र का कमाल है,
दाता एक राम, भिखारी सारी दुनिया ।
राम एक देवता, पुजारी सारी दुनिया ॥
श्री राधा हमारी गोरी गोरी, के नवल
यो तो कालो नहीं है मतवारो, जगत उज्य
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से
गोविन्द नाम लेकर, फिर प्राण तन से
कान्हा की दीवानी बन जाउंगी,
दीवानी बन जाउंगी मस्तानी बन जाउंगी,
जय राधे राधे, राधे राधे
जय राधे राधे, राधे राधे
राधा कट दी है गलिआं दे मोड़ आज मेरे
श्याम ने आना घनश्याम ने आना
फूलों में सज रहे हैं, श्री वृन्दावन
और संग में सज रही है वृषभानु की
ज़िंदगी मे हज़ारो का मेला जुड़ा
हंस जब जब उड़ा तब अकेला उड़ा
राधा ढूंढ रही किसी ने मेरा श्याम देखा
श्याम देखा घनश्याम देखा
तुम रूठे रहो मोहन,
हम तुमको मन लेंगे
ज़रा छलके ज़रा छलके वृदावन देखो
ज़रा हटके ज़रा हटके ज़माने से देखो
बृज के नन्द लाला राधा के सांवरिया
सभी दुख: दूर हुए जब तेरा नाम लिया
मन चल वृंदावन धाम, रटेंगे राधे राधे
मिलेंगे कुंज बिहारी, ओढ़ के कांबल
मुझे रास आ गया है, तेरे दर पे सर झुकाना
तुझे मिल गया पुजारी, मुझे मिल गया
कैसे जिऊ मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही ना लागे तुम्हारे बिना