Share this page on following platforms.
Download Bhajan as .txt File Download Bhajan as IMAGE File

ये तो बतादो बरसानेवाली,मैं कैसे तुम्हरी लगन छोड़ डुंगा,
तेरी कृपा से है यह जीवन है मेरा,कैसे तुम्ह

ये तो बतादो बरसानेवाली,मैं कैसे तुम्हरी लगन छोड़ डुंगा,
तेरी कृपा से है यह जीवन है मेरा,कैसे तुम्हारी लगन छोड़ डुंगा,

ना पूच्छा किये मैने अपराध क्या क्या,
क्या ये जमीन असमान हिल ना जाइए॥
जब तक श्री राधे शमा ना करोगी ॥
कैसे तुम्हरे चरण छोड दुंगा


बहुत ठोकरे  खा चुका जिंदगी मैं,
तमना तुम्हारे इक देवदार की है॥
जब तक श्री राधारानी दर्शन ना डोगि,
मैं कैसे तुम्हारा भजन छोड़ दुंगा॥

तेरो ना तारो  तुम्हारी है मर्जी,
इक दास की येही छोटी सी अर्जी॥
जन्म जन्म के पापी को कमल ना उबारा ,
तो इसी दर पे दम तोड़ दूंगा ॥



ye to baata do barsane vali main kasie tumhari sharn chod du ga



Bhajan Lyrics View All

दिल की हर धड़कन से तेरा नाम निकलता है
तेरे दर्शन को मोहन तेरा दास तरसता है
हो मेरी लाडो का नाम श्री राधा
श्री राधा श्री राधा, श्री राधा श्री
लाडली अद्बुत नज़ारा तेरे बरसाने में
लाडली अब मन हमारा तेरे बरसाने में है।
दुनिया का बन कर देख लिया, श्यामा का बन
राधा नाम में कितनी शक्ति है, इस राह पर
ना मैं मीरा ना मैं राधा,
फिर भी श्याम को पाना है ।
राधे तु कितनी प्यारी है ॥
तेरे संग में बांके बिहारी कृष्ण
हम राम जी के, राम जी हमारे हैं
वो तो दशरथ राज दुलारे हैं
राधिका गोरी से ब्रिज की छोरी से ,
मैया करादे मेरो ब्याह,
राधा ढूंढ रही किसी ने मेरा श्याम देखा
श्याम देखा घनश्याम देखा
बृज के नन्द लाला राधा के सांवरिया
सभी दुख: दूर हुए जब तेरा नाम लिया
वृंदावन में हुकुम चले बरसाने वाली का,
कान्हा भी दीवाना है श्री श्यामा
कान्हा की दीवानी बन जाउंगी,
दीवानी बन जाउंगी मस्तानी बन जाउंगी,
मुझे रास आ गया है, तेरे दर पे सर झुकाना
तुझे मिल गया पुजारी, मुझे मिल गया
सब के संकट दूर करेगी, यह बरसाने वाली,
बजाओ राधा नाम की ताली ।
तुम रूठे रहो मोहन,
हम तुमको मन लेंगे
नटवर नागर नंदा, भजो रे मन गोविंदा
शयाम सुंदर मुख चंदा, भजो रे मन
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से
गोविन्द नाम लेकर, फिर प्राण तन से
तेरे दर पे आके ज़िन्दगी मेरी
यह तो तेरी नज़र का कमाल है,
अच्युतम केशवं राम नारायणं,
कृष्ण दमोधराम वासुदेवं हरिं,
मीठे रस से भरी रे, राधा रानी लागे,
मने कारो कारो जमुनाजी रो पानी लागे
अपनी वाणी में अमृत घोल
अपनी वाणी में अमृत घोल
मुझे रास आ गया है,
तेरे दर पे सर झुकाना
मेरी विनती यही है राधा रानी, कृपा
मुझे तेरा ही सहारा महारानी, चरणों से
कैसे जीऊं मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही न लगे श्यामा तेरे बिना
राधे राधे बोल, राधे राधे बोल,
बरसाने मे दोल, के मुख से राधे राधे बोल,
ज़िंदगी मे हज़ारो का मेला जुड़ा
हंस जब जब उड़ा तब अकेला उड़ा
ये तो बतादो बरसानेवाली,मैं कैसे
तेरी कृपा से है यह जीवन है मेरा,कैसे
सांवरिया है सेठ ,मेरी राधा जी सेठानी
यह तो सारी दुनिया जाने है
कैसे जिऊ मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही ना लागे तुम्हारे बिना
एक कोर कृपा की करदो स्वामिनी श्री
दासी की झोली भर दो लाडली श्री राधे॥