Share this page on following platforms.
Download Bhajan as .txt File Download Bhajan as IMAGE File

आँखों को इंतज़ार है सरकार आपका
ना जाने होगा कब हमें दीदार आपका

आँखों को इंतज़ार है सरकार आपका

ना जाने होगा कब हमें दीदार आपका


आया हूँ तेरे द्वार पे मुझको संभालिये

दर्शन की आस दिल में है, खली ना टालिए

घबरा के दम ना तोड़ दे बीमार आपका


सजदा कबूल हो न हो, दर पे पड़ा रहूँ

मैं तो इस दरबार के सन्मुख खड़ा रहूँ

जाऊं कहाँ मैं छोड़ के दरबार आपका


दासी की है ये आरज़ू इक बार देख ले

डाली से फूल टूट कर शायद न फिर खिले

इक रोज़ छोड़ जाएंगे ये संसार आपका



aankhon ko intazaar hai sarakaar aapaka
na jaane hoga kab hamen deedaar aapaka

aankhon ko intazaar hai sarakaar aapaka
na jaane hoga kab hamen deedaar aapaka

aaya hoon tere dvaar pe mujhako sambhaaliye
darshan kee aas dil mein hai, khalee na taalie
ghabara ke dam na tod de beemaar aapaka

sajada kabool ho na ho, dar pe pada rahoon
main to is darabaar ke sanmukh khada rahoon
jaoon kahaan main chhod ke darabaar aapaka

daasee kee hai ye aarazoo ik baar dekh le
daalee se phool toot kar shaayad na phir khile
ik roz chhod jaenge ye sansaar aapaka



Bhajan Lyrics View All

हम प्रेम दीवानी हैं, वो प्रेम दीवाना।
ऐ उधो हमे ज्ञान की पोथी ना सुनाना॥
ये सारे खेल तुम्हारे है
जग कहता खेल नसीबों का
किशोरी कुछ ऐसा इंतजाम हो जाए।
जुबा पे राधा राधा राधा नाम हो जाए॥
राधे मोरी बंसी कहा खो गयी,
कोई ना बताये और शाम हो गयी,
करदो करदो बेडा पार, राधे अलबेली सरकार।
राधे अलबेली सरकार, राधे अलबेली
ज़िंदगी मे हज़ारो का मेला जुड़ा
हंस जब जब उड़ा तब अकेला उड़ा
सांवरियो है सेठ, म्हारी राधा जी
यह तो जाने दुनिया सारी है
मोहे आन मिलो श्याम, बहुत दिन बीत गए।
बहुत दिन बीत गए, बहुत युग बीत गए ॥
जग में सुन्दर है दो नाम, चाहे कृष्ण
बोलो राम राम राम, बोलो श्याम श्याम
बृज के नन्द लाला राधा के सांवरिया
सभी दुख: दूर हुए जब तेरा नाम लिया
सब के संकट दूर करेगी, यह बरसाने वाली,
बजाओ राधा नाम की ताली ।
दिल की हर धड़कन से तेरा नाम निकलता है
तेरे दर्शन को मोहन तेरा दास तरसता है
एक दिन वो भोले भंडारी बन कर के ब्रिज
पारवती भी मना कर ना माने त्रिपुरारी,
राधा कट दी है गलिआं दे मोड़ आज मेरे
श्याम ने आना घनश्याम ने आना
सांवरिया है सेठ ,मेरी राधा जी सेठानी
यह तो सारी दुनिया जाने है
तू राधे राधे गा ,
तोहे मिल जाएं सांवरियामिल जाएं
मुझे चाहिए बस सहारा तुम्हारा,
के नैनों में गोविन्द नज़ारा तुम्हार
तमन्ना यही है के उड के बरसाने आयुं मैं
आके बरसाने में तेरे दिल की हसरतो को
श्याम बुलाये राधा नहीं आये,
आजा मेरी प्यारी राधे बागो में झूला
प्रभु कर कृपा पावँरी दीन्हि
सादर भारत शीश धरी लीन्ही
हो मेरी लाडो का नाम श्री राधा
श्री राधा श्री राधा, श्री राधा श्री
हर साँस में हो सुमिरन तेरा,
यूँ बीत जाये जीवन मेरा
प्रीतम बोलो कब आओगे॥
बालम बोलो कब आओगे॥
अपनी वाणी में अमृत घोल
अपनी वाणी में अमृत घोल
तू कितनी अच्ची है, तू कितनी भोली है,
ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ ।
राधिका गोरी से ब्रिज की छोरी से ,
मैया करादे मेरो ब्याह,
यशोमती मैया से बोले नंदलाला,
राधा क्यूँ गोरी, मैं क्यूँ काला
मेरी करुणामयी सरकार, मिला दो ठाकुर से
कृपा करो भानु दुलारी, श्री राधे
ज़री की पगड़ी बाँधे, सुंदर आँखों वाला,
कितना सुंदर लागे बिहारी कितना लागे
तेरे दर पे आके ज़िन्दगी मेरी
यह तो तेरी नज़र का कमाल है,