Download Bhajan as .txt File Download Bhajan as IMAGE File

प्रीतम बोलो कब आओगे॥
बालम बोलो कब आओगे॥

प्रीतम बोलो कब आओगे॥
बालम बोलो कब आओगे॥
साजन बोलो कब आओगे॥

कब मन वीणा की झंकारों पर॥,
कोई अमर गीत बन छाओगे ॥,
प्रीतम बोलो कब आओगे ॥,
मोहन बोलो कब आओगे ॥,

बिना बोले इस दासी को ॥
हरि चरनन सो लिपटाओगे॥
प्रीतम बोलो कब आओगे॥,

मोहन बोलो कब आओगे॥,

यह प्यार भरा दिल रोता है॥,
थर्राते लम्बे साँसों में,
अंसुअन के माल पिरोता है,
अंधियारी सूनी कुंजो में,
रातों भर बाटें जोहता है,
हँसते, इठलाते , प्यार भरे,
प्रीतम बोलो कब आओगे,
मोहन बोलो कब आओगे ।
सुनी सुनी रातों में हम तुम्हें पुकारा करते हैं
प्रीतम बोलो कब आओगे,
मोहन बोलो कब आओगे ।

सब प्यार जगत का झूठा है,
कुछ मान भाग्य पर था अपने,
पर वो भी जैसे फूटा है ।
ओ बिगड़ी बनाने वाले श्याम,
क्या तू भी मुझसे रूठा है,
सब दूर करो झंझट मेरे,
प्रीतम बोलो कब आओगे ।
मोहन बोलो कब आओगे ।

जोगन आँचल फैला निकली,
जग लाज के बंधन तोड़ चली,
कुल तान की आन मिटा निकली,
सारे श्रृंगार बिखेर दिए,
एक भगवा भेष बना निकली,
मैं तेरी मोहन तेरी हूँ
मैं तेरी प्यारे तेरी हूँ
मैं जैसी हूँ अब तेरी हूँ
मैं तेरी मोहन तेरी हूँ
प्रीतम बोलो कब आओगे ।
मोहन बोलो कब आओगे

ये भुजा उठा कर गा निकली,
न जाने मोहन कहाँ छिपे
मैं दर दर अलख जगा निकली
अब बैठ गयी पथ में थक कर,
प्रीतम बोलो कब आओगे ।

क्यों नहीं आते मेरे मन मंदिर में
तुम प्रेम की ज्योत जगाने
क्यों नहीं आते मेरे ह्रदय कुञ्ज में
चोरी से छिप जाने  
क्यों नहीं आते मेरे मन मधुबन में
तुम सुन्दर तान सुनाने
क्यों नहीं आते मेरे अंगना
लूट लूट दधि खाने
मीरा के गिरधर लाल सही
राधा मुख चाँद चकोर सही
गोपिन के मदन गोपाल सही
नरसीं के सांवल सेठ सही
यशोदा मैया के लाल सही
तुम सूरदास के श्याम सही
तुलसी के राम कृपाल सही
जब सारा आलम सोता है
हम चुपके चुपके रोते हैं
रो रो कर अपने प्यारे के
कोमल चरणों को धोते हैं
कभी पलकों में आकर आशुँ
अखियों के झरोखों में छिप कर
अपने प्यारे की आने की
मेरे प्यारे
कान्हा रे -॥॥
प्रीतम बोलो कब आओगे



pritam bolo kab aaoge



Krishna Bhajans App

Bhajan Lyrics View All

मन चल वृंदावन धाम, रटेंगे राधे राधे
मिलेंगे कुंज बिहारी, ओढ़ के कांबल
मेरी करुणामयी सरकार पता नहीं क्या दे
क्या दे दे भई, क्या दे दे
तुम रूठे रहो मोहन,
हम तुमको मन लेंगे
वृन्दावन के बांके बिहारी,
हमसे पर्दा करो ना मुरारी ।
ज़िंदगी मे हज़ारो का मेला जुड़ा
हंस जब जब उड़ा तब अकेला उड़ा
करदो करदो बेडा पार, राधे अलबेली सरकार।
राधे अलबेली सरकार, राधे अलबेली
राधे तु कितनी प्यारी है ॥
तेरे संग में बांके बिहारी कृष्ण
साँवरिया ऐसी तान सुना,
ऐसी तान सुना मेरे मोहन, मैं नाचू तू गा
हर पल तेरे साथ मैं रहता हूँ,
डरने की क्या बात? जब मैं बैठा हूँ
हम प्रेम नगर के बंजारिन है
जप ताप और साधन क्या जाने
राधा ढूंढ रही किसी ने मेरा श्याम देखा
श्याम देखा घनश्याम देखा
तेरी मंद मंद मुस्कनिया पे ,बलिहार
तेरी मंद मंद मुस्कनिया पे ,बलिहार
बृज के नंदलाला राधा के सांवरिया,
सभी दुःख दूर हुए, जब तेरा नाम लिया।
मेरे जीवन की जुड़ गयी डोर, किशोरी तेरे
किशोरी तेरे चरणन में, महारानी तेरे
तेरे बगैर सांवरिया जिया नही जाये
तुम आके बांह पकड लो तो कोई बात बने‌॥
कैसे जीऊं मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही न लगे श्यामा तेरे बिना
मेरा यार यशुदा कुंवर हो चूका है
वो दिल हो चूका है जिगर हो चूका है
राधा नाम की लगाई फुलवारी, के पत्ता
के पत्ता पत्ता श्याम बोलता, के पत्ता
बहुत बड़ा दरबार तेरो बहुत बड़ा दरबार,
चाकर रखलो राधा रानी तेरा बहुत बड़ा
श्री राधा हमारी गोरी गोरी, के नवल
यो तो कालो नहीं है मतवारो, जगत उज्य
ना मैं मीरा ना मैं राधा,
फिर भी श्याम को पाना है ।
राधे राधे बोल, श्याम भागे चले आयंगे।
एक बार आ गए तो कबू नहीं जायेंगे ॥
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से
गोविन्द नाम लेकर, फिर प्राण तन से
अपनी वाणी में अमृत घोल
अपनी वाणी में अमृत घोल
राधे राधे बोल, राधे राधे बोल,
बरसाने मे दोल, के मुख से राधे राधे बोल,
तू कितनी अच्ची है, तू कितनी भोली है,
ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ ।
सावरे से मिलने का सत्संग ही बहाना है ।
सारे दुःख दूर हुए, दिल बना दीवाना है ।
आँखों को इंतज़ार है सरकार आपका
ना जाने होगा कब हमें दीदार आपका
मीठे रस से भरी रे, राधा रानी लागे,
मने कारो कारो जमुनाजी रो पानी लागे
राधा कट दी है गलिआं दे मोड़ आज मेरे
श्याम ने आना घनश्याम ने आना