Share this page on following platforms.
Download Bhajan as .txt File Download Bhajan as IMAGE File

कोई कहे गोविंदा कोई गोपाला,
मैं तो कहूँ सांवरिया बांसुरी वाला ।

कोई कहे गोविंदा कोई गोपाला,
मैं तो कहूँ सांवरिया बांसुरी वाला ।

राधा ने श्याम कहा, मीरा ने नटवर ।
गवालों ने पुकारा तुम्हे कह कर गावाला ॥
कोई कहे गोविंदा...

गोविन्द बोलो हरो गोपला बोलो ।
राधा रमण हरी गोविन्द बोलो ॥

यशोदी जी कहती थी तुमको कन्हैया ।
दाऊ जी कहते थे तुमको नंदलाला ॥
कोई कहे गोविंदा...

घड़ियाल कह हर बुलाता दर्योधन ।
जल जलके तहत था तुमको है कला ॥
कोई कहे गोविंदा...

अर्जुन के बनवारी मीरा के मोहन ।
भक्तो ने पुकारा तुम्हे कह कर मुरली वाला ॥
कोई कहे गोविंदा...


ਕੋਈ ਕਹੇ ਗੋਵਿੰਦਾ, ਕੋਈ ਗੋਪਾਲਾ,
ਮੈਂ ਤੋਂ ਕਹੂੰ ਸਾਂਵਰੀਯਾ, ਬਾਂਸੁਰੀਆ ਵਾਲਾ ।
ਕੋਈ ਕਹੇ ਗੋਵਿੰਦਾ...

ਰਾਧਾ ਨੇ ਸ਼ਾਮ ਕਹਾ, ਮੀਰਾ ਨੇ ਨਟਵਰ ।
ਗਵਾਲੋਂ ਨੇ ਪੁਕਾਰਾ ਤੁਮ੍ਹੇ, ਕਹਿ ਕਰਕੇ ਗਵਾਲਾ ॥
ਕੋਈ ਕਹੇ ਗੋਵਿੰਦਾ...

ਗੋਵਿੰਦ ਬੋਲੋ, ਹਰੀ ਗੋਪਾਲ ਬੋਲੋ ।
ਰਾਧਾ ਰਮਨ ਹਰੀ, ਗੋਵਿੰਦ ਬੋਲੋ ॥

ਯਸ਼ੋਦਾ ਜੀ ਕਹਤੀ ਥੀ, ਤੁਮਕੋ ਕਨ੍ਹਈਆ ।
ਦਾਊਂ ਜੀ ਕਹਤੇ ਥੇ, ਤੁਮ੍ਹੇ ਨੰਦ ਲਾਲਾ ॥
ਕੋਈ ਕਹੇ ਗੋਵਿੰਦਾ...

ਘੜਿਆਲ ਕਹਿ ਕਰ, ਬੁਲਾਤਾ ਦੁਰਯੋਧਨ ।
ਜਲ ਜਲਕੇ ਕਹਤਾ ਥਾ, ਤੁਮਕੋ ਹੈ ਕਾਲਾ ॥
ਕੋਈ ਕਹੇ ਗੋਵਿੰਦਾ...

ਗੋਵਿੰਦ ਬੋਲੋ ਹਰੀ, ਗੋਪਾਲ ਬੋਲੋ ।
ਰਾਧਾ ਰਮਨ ਹਰੀ, ਗੋਵਿੰਦ ਬੋਲੋ ॥

ਅਰਜੁਨ ਕੇ ਬਨਵਾਰੀ, ਮੀਰਾਂ ਕੇ ਮੋਹਨ ।
ਭਕਤੋਂ ਨੇ ਪੁਕਾਰਾ ਤੁਮ੍ਹੇ, ਕਹਿ ਕੇ ਮੁਰਲੀ ਵਾਲਾ ॥



koi kahe govinda koi gopala main to kaun saanwariya murli wala



Bhajan Lyrics View All

हम राम जी के, राम जी हमारे हैं
वो तो दशरथ राज दुलारे हैं
यशोमती मैया से बोले नंदलाला,
राधा क्यूँ गोरी, मैं क्यूँ काला
राधे मोरी बंसी कहा खो गयी,
कोई ना बताये और शाम हो गयी,
मुझे रास आ गया है, तेरे दर पे सर झुकाना
तुझे मिल गया पुजारी, मुझे मिल गया
ज़रा छलके ज़रा छलके वृदावन देखो
ज़रा हटके ज़रा हटके ज़माने से देखो
सांवरियो है सेठ, म्हारी राधा जी
यह तो जाने दुनिया सारी है
कोई पकड़ के मेरा हाथ रे,
मोहे वृन्दावन पहुंच देओ ।
राधा कट दी है गलिआं दे मोड़ आज मेरे
श्याम ने आना घनश्याम ने आना
मोहे आन मिलो श्याम, बहुत दिन बीत गए।
बहुत दिन बीत गए, बहुत युग बीत गए ॥
दिल की हर धड़कन से तेरा नाम निकलता है
तेरे दर्शन को मोहन तेरा दास तरसता है
दुनिया से मैं हारा तो आया तेरे द्वार,
यहाँ से गर जो हरा कहाँ जाऊँगा सरकार
तमन्ना यही है के उड के बरसाने आयुं मैं
आके बरसाने में तेरे दिल की हसरतो को
श्री राधा हमारी गोरी गोरी, के नवल
यो तो कालो नहीं है मतवारो, जगत उज्य
एक कोर कृपा की करदो स्वामिनी श्री
दासी की झोली भर दो लाडली श्री राधे॥
अपने दिल का दरवाजा हम खोल के सोते है
सपने में आ जाना मईया,ये बोल के सोते है
हम हाथ उठाकर कह देंगे हम हो गये राधा
राधा राधा राधा राधा
तेरी मुरली की धुन सुनने मैं बरसाने से
मैं बरसाने से आयी हूँ, मैं वृषभानु की
बहुत बड़ा दरबार तेरो बहुत बड़ा दरबार,
चाकर रखलो राधा रानी तेरा बहुत बड़ा
कान्हा की दीवानी बन जाउंगी,
दीवानी बन जाउंगी मस्तानी बन जाउंगी,
वृदावन जाने को जी चाहता है,
राधे राधे गाने को जी चाहता है,
राधिका गोरी से ब्रिज की छोरी से ,
मैया करादे मेरो ब्याह,
एक दिन वो भोले भंडारी बन कर के ब्रिज
पारवती भी मना कर ना माने त्रिपुरारी,
मुझे रास आ गया है,
तेरे दर पे सर झुकाना
कैसे जीऊं मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही न लगे श्यामा तेरे बिना
राधा ढूंढ रही किसी ने मेरा श्याम देखा
श्याम देखा घनश्याम देखा
जीवन खतम हुआ तो जीने का ढंग आया
जब शमा बुझ गयी तो महफ़िल में रंग आया
राधे राधे बोल, राधे राधे बोल,
बरसाने मे दोल, के मुख से राधे राधे बोल,
हम प्रेम दीवानी हैं, वो प्रेम दीवाना।
ऐ उधो हमे ज्ञान की पोथी ना सुनाना॥
ज़री की पगड़ी बाँधे, सुंदर आँखों वाला,
कितना सुंदर लागे बिहारी कितना लागे
बृज के नन्द लाला राधा के सांवरिया
सभी दुख: दूर हुए जब तेरा नाम लिया