Share this page on following platforms.
Download Bhajan as .txt File Download Bhajan as IMAGE File

सब के संकट दूर करेगी, यह बरसाने वाली,
बजाओ राधा नाम की ताली ।

सब के संकट दूर करेगी, यह बरसाने वाली,
बजाओ राधा नाम की ताली ।

श्रृष्टि का आधार हैं राधा, करुना मयी सरकार हैं राधा,
राधा नाम है जिस रसना पर, उस ने भक्ति पा ली ।
बजाओ राधा नाम की ताली ॥

प्रेम सुधा बरसाने वाली, करुना रस छलकाने वाली,
तन मन शीतल कर जीवन में, भर देगी खुशहाली ।
बजाओ राधा नाम की ताली ॥

कृपा दृष्टि जिस पर कर देती, जीवन में खुशिया भर देती,
वन उपवन फूल खिले और महके डाली डाली ।
बजाओ राधा नाम की ताली ॥

ओर कोई फिर चाह करे क्यूँ, दुनिया की परवाह करे क्यूँ,
सांवरिया की स्वामिनी जब है ʻदासʼ तेरी रखवाली ।



bajaao raadha naam ki taali



Bhajan Lyrics View All

Ye Saare Khel Tumhare Hai Jag
Kahta Khel Naseebo Ka
श्री राधा हमारी गोरी गोरी, के नवल
यो तो कालो नहीं है मतवारो, जगत उज्य
फूलों में सज रहे हैं, श्री वृन्दावन
और संग में सज रही है वृषभानु की
प्रीतम बोलो कब आओगे॥
बालम बोलो कब आओगे॥
सांवरिया है सेठ ,मेरी राधा जी सेठानी
यह तो सारी दुनिया जाने है
मेरे जीवन की जुड़ गयी डोर, किशोरी तेरे
किशोरी तेरे चरणन में, महारानी तेरे
नटवर नागर नंदा, भजो रे मन गोविंदा
शयाम सुंदर मुख चंदा, भजो रे मन
हो मेरी लाडो का नाम श्री राधा
श्री राधा श्री राधा, श्री राधा श्री
तीनो लोकन से न्यारी राधा रानी हमारी।
राधा रानी हमारी, राधा रानी हमारी॥
मुझे चढ़ गया राधा रंग रंग, मुझे चढ़
श्री राधा नाम का रंग रंग, श्री राधा
अच्युतम केशवं राम नारायणं,
कृष्ण दमोधराम वासुदेवं हरिं,
तेरे दर पे आके ज़िन्दगी मेरी
यह तो तेरी नज़र का कमाल है,
दुनिया का बन कर देख लिया, श्यामा का बन
राधा नाम में कितनी शक्ति है, इस राह पर
प्रभु कर कृपा पावँरी दीन्हि
सादर भारत शीश धरी लीन्ही
एक दिन वो भोले भंडारी बन कर के ब्रिज
पारवती भी मना कर ना माने त्रिपुरारी,
हर साँस में हो सुमिरन तेरा,
यूँ बीत जाये जीवन मेरा
मुझे रास आ गया है,
तेरे दर पे सर झुकाना
जीवन खतम हुआ तो जीने का ढंग आया
जब शमा बुझ गयी तो महफ़िल में रंग आया
करदो करदो बेडा पार, राधे अलबेली सरकार।
राधे अलबेली सरकार, राधे अलबेली
जय राधे राधे, राधे राधे
जय राधे राधे, राधे राधे
आँखों को इंतज़ार है सरकार आपका
ना जाने होगा कब हमें दीदार आपका
अपनी वाणी में अमृत घोल
अपनी वाणी में अमृत घोल
वृंदावन में हुकुम चले बरसाने वाली का,
कान्हा भी दीवाना है श्री श्यामा
सारी दुनियां है दीवानी, राधा रानी आप
कौन है, जिस पर नहीं है, मेहरबानी आप की
रंगीलो राधावल्लभ लाल, जै जै जै श्री
विहरत संग लाडली बाल, जै जै जै श्री
ज़री की पगड़ी बाँधे, सुंदर आँखों वाला,
कितना सुंदर लागे बिहारी कितना लागे
मुँह फेर जिधर देखु मुझे तू ही नज़र आये
हम छोड़के दर तेरा अब और किधर जाये
ये तो बतादो बरसानेवाली,मैं कैसे
तेरी कृपा से है यह जीवन है मेरा,कैसे
बांके बिहारी की देख छटा,
मेरो मन है गयो लटा पटा।
कैसे जीऊं मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही न लगे श्यामा तेरे बिना