Share this page on following platforms.
Download Bhajan as .txt File Download Bhajan as IMAGE File

मेरी रसना से राधा राधा नाम निकले,
हर घडी हर पल, हर घडी हर पल।

मेरी रसना से राधा राधा नाम निकले,
हर घडी हर पल, हर घडी हर पल।

तेरी भक्ति के गीत मैं गाया करूँ,
ह्रदय को मैं शुद्ध बनाया करूँ ।
हर घडी हर पल, हर घडी हर पल,
तेरी याद में सुबहो और श्याम निकले,
मेरी रसना से राधा राधा नाम निकले॥

मैं तो राधा राधा ही ध्याया करूँ,
सच्ची श्रद्धा की अग्नि जलाया करूँ।
हर घडी हर पल, हर घडी हर पल।
तेरी मस्ती में दिन और रात निकले,
मेरी रसना से राधा राधा नाम निकले।

मन मंदिर में ज्योति जगा तुम देना,
मैल मन की मेरे तुम हटा ही देना।
हर घडी हर पल, हर घडी हर पल।
तेरे ध्यान में उम्र तमाम निकले,
मेरी रसना से राधा राधा नाम निकले॥

दिल में राधा ही नाम बसाऊ सदा,
सेवा कर्मो की भेंट चडाऊ सदा।
हर घडी हर पल, हर घडी हर पल।
नाम जपते ही अंतिम स्वास निकले,
मेरी रसना से राधा राधा नाम निकले॥

जय राधे राधे, जय राधे राधे,
श्री राधे राधे, श्री राधे राधे।
जय राधे राधे, जय राधे राधे,
श्री राधे राधे, श्री राधे राधे।

जय राधे राधे राधे, जय राधे राधे राधे,
श्री राधे राधे राधे, श्री राधे राधे राधे।
जय राधे राधे राधे, जय राधे राधे राधे,



meri rasna se radha radha naam nikle



Bhajan Lyrics View All

दुनिया से मैं हारा तो आया तेरे द्वार,
यहाँ से गर जो हरा कहाँ जाऊँगा सरकार
वास देदो किशोरी जी बरसाना,
छोडो छोडो जी छोडो जी तरसाना ।
ज़िंदगी मे हज़ारो का मेला जुड़ा
हंस जब जब उड़ा तब अकेला उड़ा
राधे मोरी बंसी कहा खो गयी,
कोई ना बताये और शाम हो गयी,
जीवन खतम हुआ तो जीने का ढंग आया
जब शमा बुझ गयी तो महफ़िल में रंग आया
हम प्रेम नगर के बंजारिन है
जप ताप और साधन क्या जाने
तीनो लोकन से न्यारी राधा रानी हमारी।
राधा रानी हमारी, राधा रानी हमारी॥
तेरे दर की भीख से है,
मेरा आज तक गुज़ारा
राधे राधे बोल, राधे राधे बोल,
बरसाने मे दोल, के मुख से राधे राधे बोल,
बहुत बड़ा दरबार तेरो बहुत बड़ा दरबार,
चाकर रखलो राधा रानी तेरा बहुत बड़ा
इक तारा वाजदा जी हर दम गोविन्द
जग ताने देंदा ए, तै मैनु कोई फरक नहीं
श्यामा प्यारी मेरे साथ हैं,
फिर डरने की क्या बात है
सब के संकट दूर करेगी, यह बरसाने वाली,
बजाओ राधा नाम की ताली ।
मुझे चढ़ गया राधा रंग रंग, मुझे चढ़
श्री राधा नाम का रंग रंग, श्री राधा
श्यामा तेरे चरणों की गर धूल जो मिल
सच कहता हूँ मेरी तकदीर बदल जाए॥
कैसे जिऊ मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही ना लागे तुम्हारे बिना
श्याम बुलाये राधा नहीं आये,
आजा मेरी प्यारी राधे बागो में झूला
कोई कहे गोविंदा कोई गोपाला,
मैं तो कहूँ सांवरिया बांसुरी वाला ।
राधिका गोरी से ब्रिज की छोरी से ,
मैया करादे मेरो ब्याह,
आँखों को इंतज़ार है सरकार आपका
ना जाने होगा कब हमें दीदार आपका
राधा नाम की लगाई फुलवारी, के पत्ता
के पत्ता पत्ता श्याम बोलता, के पत्ता
फूलों में सज रहे हैं, श्री वृन्दावन
और संग में सज रही है वृषभानु की
तेरे बगैर सांवरिया जिया नही जाये
तुम आके बांह पकड लो तो कोई बात बने‌॥
अच्युतम केशवं राम नारायणं,
कृष्ण दमोधराम वासुदेवं हरिं,
वृन्दावन के बांके बिहारी,
हमसे पर्दा करो ना मुरारी ।
हम प्रेम दीवानी हैं, वो प्रेम दीवाना।
ऐ उधो हमे ज्ञान की पोथी ना सुनाना॥
ज़रा छलके ज़रा छलके वृदावन देखो
ज़रा हटके ज़रा हटके ज़माने से देखो
अपनी वाणी में अमृत घोल
अपनी वाणी में अमृत घोल
जग में सुन्दर है दो नाम, चाहे कृष्ण
बोलो राम राम राम, बोलो श्याम श्याम
हर साँस में हो सुमिरन तेरा,
यूँ बीत जाये जीवन मेरा