Share this page on following platforms.
Download Bhajan as .txt File Download Bhajan as IMAGE File

मेरी रसना से राधा राधा नाम निकले,
हर घडी हर पल, हर घडी हर पल।

मेरी रसना से राधा राधा नाम निकले,
हर घडी हर पल, हर घडी हर पल।

तेरी भक्ति के गीत मैं गाया करूँ,
ह्रदय को मैं शुद्ध बनाया करूँ ।
हर घडी हर पल, हर घडी हर पल,
तेरी याद में सुबहो और श्याम निकले,
मेरी रसना से राधा राधा नाम निकले॥

मैं तो राधा राधा ही ध्याया करूँ,
सच्ची श्रद्धा की अग्नि जलाया करूँ।
हर घडी हर पल, हर घडी हर पल।
तेरी मस्ती में दिन और रात निकले,
मेरी रसना से राधा राधा नाम निकले।

मन मंदिर में ज्योति जगा तुम देना,
मैल मन की मेरे तुम हटा ही देना।
हर घडी हर पल, हर घडी हर पल।
तेरे ध्यान में उम्र तमाम निकले,
मेरी रसना से राधा राधा नाम निकले॥

दिल में राधा ही नाम बसाऊ सदा,
सेवा कर्मो की भेंट चडाऊ सदा।
हर घडी हर पल, हर घडी हर पल।
नाम जपते ही अंतिम स्वास निकले,
मेरी रसना से राधा राधा नाम निकले॥

जय राधे राधे, जय राधे राधे,
श्री राधे राधे, श्री राधे राधे।
जय राधे राधे, जय राधे राधे,
श्री राधे राधे, श्री राधे राधे।

जय राधे राधे राधे, जय राधे राधे राधे,
श्री राधे राधे राधे, श्री राधे राधे राधे।
जय राधे राधे राधे, जय राधे राधे राधे,



meri rasna se radha radha naam nikle



Bhajan Lyrics View All

श्री राधा हमारी गोरी गोरी, के नवल
यो तो कालो नहीं है मतवारो, जगत उज्य
वृदावन जाने को जी चाहता है,
राधे राधे गाने को जी चाहता है,
लाली की सुनके मैं आयी
कीरत मैया दे दे बधाई
फूलों में सज रहे हैं, श्री वृन्दावन
और संग में सज रही है वृषभानु की
ज़री की पगड़ी बाँधे, सुंदर आँखों वाला,
कितना सुंदर लागे बिहारी कितना लागे
हर साँस में हो सुमिरन तेरा,
यूँ बीत जाये जीवन मेरा
अपनी वाणी में अमृत घोल
अपनी वाणी में अमृत घोल
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से
गोविन्द नाम लेकर, फिर प्राण तन से
मुझे रास आ गया है, तेरे दर पे सर झुकाना
तुझे मिल गया पुजारी, मुझे मिल गया
लाडली अद्बुत नज़ारा तेरे बरसाने में
लाडली अब मन हमारा तेरे बरसाने में है।
नी मैं दूध काहे नाल रिडका चाटी चो
लै गया नन्द किशोर लै गया,
जय राधे राधे, राधे राधे
जय राधे राधे, राधे राधे
ਮੇਰੇ ਕਰਮਾਂ ਵੱਲ ਨਾ ਵੇਖਿਓ ਜੀ,
ਕਰਮਾਂ ਤੋਂ ਸ਼ਾਰਮਾਈ ਹੋਈ ਆਂ
आँखों को इंतज़ार है सरकार आपका
ना जाने होगा कब हमें दीदार आपका
मीठे रस से भरी रे, राधा रानी लागे,
मने कारो कारो जमुनाजी रो पानी लागे
मुझे चढ़ गया राधा रंग रंग, मुझे चढ़
श्री राधा नाम का रंग रंग, श्री राधा
प्रीतम बोलो कब आओगे॥
बालम बोलो कब आओगे॥
कोई कहे गोविंदा कोई गोपाला,
मैं तो कहूँ सांवरिया बांसुरी वाला ।
दुनिया का बन कर देख लिया, श्यामा का बन
राधा नाम में कितनी शक्ति है, इस राह पर
बृज के नन्द लाला राधा के सांवरिया
सभी दुख: दूर हुए जब तेरा नाम लिया
बहुत बड़ा दरबार तेरो बहुत बड़ा दरबार,
चाकर रखलो राधा रानी तेरा बहुत बड़ा
एक दिन वो भोले भंडारी बन कर के ब्रिज
पारवती भी मना कर ना माने त्रिपुरारी,
बोल कान्हा बोल गलत काम कैसे हो गया,
बिना शादी के तू राधे श्याम कैसे हो
हर पल तेरे साथ मैं रहता हूँ,
डरने की क्या बात? जब मैं बैठा हूँ
वास देदो किशोरी जी बरसाना,
छोडो छोडो जी छोडो जी तरसाना ।
वृंदावन में हुकुम चले बरसाने वाली का,
कान्हा भी दीवाना है श्री श्यामा
मेरा यार यशुदा कुंवर हो चूका है
वो दिल हो चूका है जिगर हो चूका है
जग में सुन्दर है दो नाम, चाहे कृष्ण
बोलो राम राम राम, बोलो श्याम श्याम
राधा नाम की लगाई फुलवारी, के पत्ता
के पत्ता पत्ता श्याम बोलता, के पत्ता
राधे तु कितनी प्यारी है ॥
तेरे संग में बांके बिहारी कृष्ण