Share this page on following platforms.
Download Bhajan as .txt File Download Bhajan as IMAGE File

मेरी करुणामयी सरकार पता नहीं क्या दे दे
क्या दे दे भई, क्या दे दे

मेरी करुणामयी सरकार पता नहीं क्या दे दे
क्या दे दे भई, क्या दे दे

जग से आशा छोड़ दे भैया,
श्यामा से आशा जोड़ ले भैया ।
तेरे भर देगी भण्डार,
पता नहीं क्या दे दे ॥

मांगे से तुम क्या पाओगे,
बिन मांगे सब पा जाओगे ॥
यह सच्ची साहूकार,
पता नहीं क्या दे दे ॥

वृन्दावन में बांके बिहारी,
बरसाने में श्यामा प्यारी ।
यह मेरे जीवन प्राणाधार,
पता नहीं क्या दे दे ॥

बाँध के गठड़ी, चल बरसाने,
राधा रानी के दर्शन पाने ।
तुझे करदे भाव से पार,
पता नहीं क्या देदे ॥

सारे जग की भाग्य विधाता
रखती है हर एक का खाता ।
मेरी श्याम लख दातार,



meri karunamayi sarkar pata nahi kya de de



Bhajan Lyrics View All

कोई पकड़ के मेरा हाथ रे,
मोहे वृन्दावन पहुंच देओ ।
आँखों को इंतज़ार है सरकार आपका
ना जाने होगा कब हमें दीदार आपका
किशोरी कुछ ऐसा इंतजाम हो जाए।
जुबा पे राधा राधा राधा नाम हो जाए॥
तीनो लोकन से न्यारी राधा रानी हमारी।
राधा रानी हमारी, राधा रानी हमारी॥
दुनिया का बन कर देख लिया, श्यामा का बन
राधा नाम में कितनी शक्ति है, इस राह पर
तू राधे राधे गा ,
तोहे मिल जाएं सांवरियामिल जाएं
हर पल तेरे साथ मैं रहता हूँ,
डरने की क्या बात? जब मैं बैठा हूँ
Ye Saare Khel Tumhare Hai Jag
Kahta Khel Naseebo Ka
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से
गोविन्द नाम लेकर, फिर प्राण तन से
ਮੇਰੇ ਕਰਮਾਂ ਵੱਲ ਨਾ ਵੇਖਿਓ ਜੀ,
ਕਰਮਾਂ ਤੋਂ ਸ਼ਾਰਮਾਈ ਹੋਈ ਆਂ
तेरे दर की भीख से है,
मेरा आज तक गुज़ारा
तेरे बगैर सांवरिया जिया नही जाये
तुम आके बांह पकड लो तो कोई बात बने‌॥
मुझे रास आ गया है, तेरे दर पे सर झुकाना
तुझे मिल गया पुजारी, मुझे मिल गया
राधिका गोरी से ब्रिज की छोरी से ,
मैया करादे मेरो ब्याह,
हम प्रेम नगर के बंजारिन है
जप ताप और साधन क्या जाने
ना मैं मीरा ना मैं राधा,
फिर भी श्याम को पाना है ।
राधा कट दी है गलिआं दे मोड़ आज मेरे
श्याम ने आना घनश्याम ने आना
कोई कहे गोविंदा, कोई गोपाला।
मैं तो कहुँ सांवरिया बाँसुरिया वाला॥
तमन्ना यही है के उड के बरसाने आयुं मैं
आके बरसाने में तेरे दिल की हसरतो को
सांवरियो है सेठ, म्हारी राधा जी
यह तो जाने दुनिया सारी है
करदो करदो बेडा पार, राधे अलबेली सरकार।
राधे अलबेली सरकार, राधे अलबेली
बृज के नन्द लाला राधा के सांवरिया
सभी दुख: दूर हुए जब तेरा नाम लिया
मुझे रास आ गया है,
तेरे दर पे सर झुकाना
अपने दिल का दरवाजा हम खोल के सोते है
सपने में आ जाना मईया,ये बोल के सोते है
यह मेरी अर्जी है,
मैं वैसी बन जाऊं जो तेरी मर्ज़ी है
नटवर नागर नंदा, भजो रे मन गोविंदा
शयाम सुंदर मुख चंदा, भजो रे मन
मेरा आपकी कृपा से,
सब काम हो रहा है
तेरी मंद मंद मुस्कनिया पे ,बलिहार
तेरी मंद मंद मुस्कनिया पे ,बलिहार
मेरी करुणामयी सरकार पता नहीं क्या दे
क्या दे दे भई, क्या दे दे
मोहे आन मिलो श्याम, बहुत दिन बीत गए।
बहुत दिन बीत गए, बहुत युग बीत गए ॥