Share this page on following platforms.
Download Bhajan as .txt File Download Bhajan as IMAGE File

जिनको जिनको सेठ बनाया वो क्या रिश्तेदार हैं,
उनसे तो प्यार है हमसे तकरार है ।

जिनको जिनको सेठ बनाया वो क्या रिश्तेदार हैं,
उनसे तो प्यार है हमसे तकरार है ।

वो भी बाबा कहते हैं हम भी बाबा कहते हैं,
वो भी सेवा करते हैं हम भी सेवा करते हैं ।
हम तो छोटे मोटे भिखारी वो क्या जागीरदार हैं,
उनसे तो प्यार है हमसे तकरार है ॥

वो भी परिवार तेरा ये भी है परिवार तेरा,
उनको भी आधार तेरा हमको भी आधार तेरा ।
हम तो तुम्हारे दर के नौकर वो क्या हिस्सेदार हैं,
उनसे तो प्यार है हमसे तकरार है ॥

वो भी दर पर जाते हैं हम भी दर पर जाते हैं,
वो भी मांग लाते हैं हम भी मांग के लाते हैं ।
देख देख कर झोली भरता तुं कैसा दातार है,
उनसे तो प्यार है हमसे तकरार है ॥

उनको भर भंडार दिया उनको छप्पर फाड़ दिया,
जब आई मेरी बारी अपना पल्ला झाड़ लिया ।
उनको भक्तों का तेरा साथ में चलता क्या व्यापार है,
उनसे तो प्यार है हमसे तकरार है ॥

वो भी लाल तुम्हारे हैं हम भी लाल तुम्हारे हैं,
तेरे पास क्या श्याम धनी दिल भी न्यारे न्यारे हैं ।
वही अकेले वारिसहम क्या झूठे दावेदार हैं,
उनसे तो प्यार है हमसे तकरार है ॥

किस्मत फर्क समझती है तुं भी फरक समझता क्या,
किस्मत से गर मिलता है फिर तुं झोली भरता क्या ।
श्याम धनी तक़दीर बदलता ये कहना बेकार है,
उनसे तो प्यार है हमसे तकरार है ॥

मर्ज़ी है मेरे श्याम की होना है सो होना है,
भेद तुम्हारे दिल में है इसी बात का रोना है ।
अलग अलग नज़रों से देखे तुं कैसी सरकार है,
उनसे तो प्यार है हमसे तकरार है ॥
 
जिनको सेठ बनाया है हल्ला यहीं मचाते हैं,
खाटू जाकर लाये हैं नीचा हमें दिखाते हैं ।
बनवारी बस इतना बता दे खाटू क्या दो चार हैं,



jinko jinko seth banaya wo kya rishtedaar hai unse to pyar hai humse takraar hai



Bhajan Lyrics View All

तेरे दर पे आके ज़िन्दगी मेरी
यह तो तेरी नज़र का कमाल है,
आँखों को इंतज़ार है सरकार आपका
ना जाने होगा कब हमें दीदार आपका
हम राम जी के, राम जी हमारे हैं
वो तो दशरथ राज दुलारे हैं
कान्हा की दीवानी बन जाउंगी,
दीवानी बन जाउंगी मस्तानी बन जाउंगी,
यह मेरी अर्जी है,
मैं वैसी बन जाऊं जो तेरी मर्ज़ी है
कैसे जीऊं मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही न लगे श्यामा तेरे बिना
हम प्रेम नगर के बंजारिन है
जप ताप और साधन क्या जाने
हर साँस में हो सुमिरन तेरा,
यूँ बीत जाये जीवन मेरा
अपने दिल का दरवाजा हम खोल के सोते है
सपने में आ जाना मईया,ये बोल के सोते है
राधे राधे बोल, राधे राधे बोल,
बरसाने मे दोल, के मुख से राधे राधे बोल,
दिल लूटके ले गया नी सहेलियो मेरा
मैं तक्दी रह गयी नी सहेलियो लगदा
प्रीतम बोलो कब आओगे॥
बालम बोलो कब आओगे॥
राधा नाम की लगाई फुलवारी, के पत्ता
के पत्ता पत्ता श्याम बोलता, के पत्ता
ज़री की पगड़ी बाँधे, सुंदर आँखों वाला,
कितना सुंदर लागे बिहारी कितना लागे
तू कितनी अच्ची है, तू कितनी भोली है,
ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ ।
एक दिन वो भोले भंडारी बन कर के ब्रिज
पारवती भी मना कर ना माने त्रिपुरारी,
जय राधे राधे, राधे राधे
जय राधे राधे, राधे राधे
एक कोर कृपा की करदो स्वामिनी श्री
दासी की झोली भर दो लाडली श्री राधे॥
बोल कान्हा बोल गलत काम कैसे हो गया,
बिना शादी के तू राधे श्याम कैसे हो
यशोमती मैया से बोले नंदलाला,
राधा क्यूँ गोरी, मैं क्यूँ काला
मोहे आन मिलो श्याम, बहुत दिन बीत गए।
बहुत दिन बीत गए, बहुत युग बीत गए ॥
मुझे रास आ गया है, तेरे दर पे सर झुकाना
तुझे मिल गया पुजारी, मुझे मिल गया
श्याम बुलाये राधा नहीं आये,
आजा मेरी प्यारी राधे बागो में झूला
अपनी वाणी में अमृत घोल
अपनी वाणी में अमृत घोल
तुम रूठे रहो मोहन,
हम तुमको मन लेंगे
मीठे रस से भरी रे, राधा रानी लागे,
मने कारो कारो जमुनाजी रो पानी लागे
राधा कट दी है गलिआं दे मोड़ आज मेरे
श्याम ने आना घनश्याम ने आना
राधे तु कितनी प्यारी है ॥
तेरे संग में बांके बिहारी कृष्ण
तमन्ना यही है के उड के बरसाने आयुं मैं
आके बरसाने में तेरे दिल की हसरतो को
श्री राधा हमारी गोरी गोरी, के नवल
यो तो कालो नहीं है मतवारो, जगत उज्य