Share this page on following platforms.

Home Gurus Rajendra Das Ji

Rajendra das ji maharaj GauBhagwat

LIVE - Gobhagwat Katha by Rajendra Das Ji - 8 April 2016 || Day 1

LIVE - Gobhagwat Katha by Rajendra Das Ji - 9 April 2016 || Day 2

LIVE - Gobhagwat Katha by Rajendra Das Ji - 10 April 2016 || Day 3

LIVE - Gobhagwat Katha by Rajendra Das Ji - 11 April 2016 || Day 4

LIVE - Gobhagwat Katha by Rajendra Das Ji - 12 April 2016 || Day 5

LIVE - Gobhagwat Katha by Rajendra Das Ji - 13 April 2016 || Day 6

LIVE - Gobhagwat Katha by Rajendra Das Ji - 14 April 2016 || Day 7

Contents of this list:

LIVE - Gobhagwat Katha by Rajendra Das Ji - 8 April 2016 || Day 1
LIVE - Gobhagwat Katha by Rajendra Das Ji - 9 April 2016 || Day 2
LIVE - Gobhagwat Katha by Rajendra Das Ji - 10 April 2016 || Day 3
LIVE - Gobhagwat Katha by Rajendra Das Ji - 11 April 2016 || Day 4
LIVE - Gobhagwat Katha by Rajendra Das Ji - 12 April 2016 || Day 5
LIVE - Gobhagwat Katha by Rajendra Das Ji - 13 April 2016 || Day 6
LIVE - Gobhagwat Katha by Rajendra Das Ji - 14 April 2016 || Day 7

Bhajan Lyrics View All

हम हाथ उठाकर कह देंगे हम हो गये राधा
राधा राधा राधा राधा
मेरी विनती यही है राधा रानी, कृपा
मुझे तेरा ही सहारा महारानी, चरणों से
दिल की हर धड़कन से तेरा नाम निकलता है
तेरे दर्शन को मोहन तेरा दास तरसता है
वृंदावन में हुकुम चले बरसाने वाली का,
कान्हा भी दीवाना है श्री श्यामा
राधा ढूंढ रही किसी ने मेरा श्याम देखा
श्याम देखा घनश्याम देखा
करदो करदो बेडा पार, राधे अलबेली सरकार।
राधे अलबेली सरकार, राधे अलबेली
श्यामा प्यारी मेरे साथ हैं,
फिर डरने की क्या बात है
मुझे चाहिए बस सहारा तुम्हारा,
के नैनों में गोविन्द नज़ारा तुम्हार
तू कितनी अच्ची है, तू कितनी भोली है,
ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ ।
सारी दुनियां है दीवानी, राधा रानी आप
कौन है, जिस पर नहीं है, मेहरबानी आप की
ਮੇਰੇ ਕਰਮਾਂ ਵੱਲ ਨਾ ਵੇਖਿਓ ਜੀ,
ਕਰਮਾਂ ਤੋਂ ਸ਼ਾਰਮਾਈ ਹੋਈ ਆਂ
नी मैं दूध काहे नाल रिडका चाटी चो
लै गया नन्द किशोर लै गया,
सब के संकट दूर करेगी, यह बरसाने वाली,
बजाओ राधा नाम की ताली ।
सांवरिया है सेठ ,मेरी राधा जी सेठानी
यह तो सारी दुनिया जाने है
मुँह फेर जिधर देखु मुझे तू ही नज़र आये
हम छोड़के दर तेरा अब और किधर जाये
बृज के नन्द लाला राधा के सांवरिया
सभी दुख: दूर हुए जब तेरा नाम लिया
तेरे दर पे आके ज़िन्दगी मेरी
यह तो तेरी नज़र का कमाल है,
वृन्दावन के बांके बिहारी,
हमसे पर्दा करो ना मुरारी ।
अपनी वाणी में अमृत घोल
अपनी वाणी में अमृत घोल
मेरी रसना से राधा राधा नाम निकले,
हर घडी हर पल, हर घडी हर पल।
ज़िंदगी मे हज़ारो का मेला जुड़ा
हंस जब जब उड़ा तब अकेला उड़ा
जग में सुन्दर है दो नाम, चाहे कृष्ण
बोलो राम राम राम, बोलो श्याम श्याम
ये सारे खेल तुम्हारे है
जग कहता खेल नसीबों का
वृदावन जाने को जी चाहता है,
राधे राधे गाने को जी चाहता है,
जय राधे राधे, राधे राधे
जय राधे राधे, राधे राधे
दुनिया से मैं हारा तो आया तेरे द्वार,
यहाँ से गर जो हरा कहाँ जाऊँगा सरकार
साँवरिया ऐसी तान सुना,
ऐसी तान सुना मेरे मोहन, मैं नाचू तू गा
राधिका गोरी से ब्रिज की छोरी से ,
मैया करादे मेरो ब्याह,
ये तो बतादो बरसानेवाली,मैं कैसे
तेरी कृपा से है यह जीवन है मेरा,कैसे
मन चल वृंदावन धाम, रटेंगे राधे राधे
मिलेंगे कुंज बिहारी, ओढ़ के कांबल