Share this page on following platforms.

Home Gurus Pundarik ji

Katha

The Shortest Path to God - Kripaluji Maharaj speaks at Jagannath Puri [Subtitled]

The Shortest Path to God - Kripaluji Maharaj speaks at Jagannath Puri [Subtitled]

The Shortest Path to God - Kripaluji Maharaj speaks at Jagannath Puri [Subtitled]

Jagadguru Kripaluji Maharaj - 2010 Brahmapur Speech [Eng Subtitles]

Shrimad Bhagwat Katha by Shri Rajendra Das Ji Maharaj (Muzaffarpur) Day 02

Shreemad Bhagwat Katha - Pundrik Goswamiji Maharaj - Vrindavan (Day 2)

Dwarka, Gujarat (27 July 2015) | Shrimad Bhagwat Katha | Shri Indresh Upadhyay

Ram Naumi Lecture - Jagadguru Shri Kripalu Ji Maharaj (Hindi)

The Ultimate Goal of Life - Kripaluji Maharaj [Subtitled]

Shrimad Bhagwat Katha by Shri Rajendra Das Ji Maharaj (Muzaffarpur) Day 04

SANSKAR LIVE - SHRI RAJENDRA DAS JI - SHRIMAD BHAGVAT GO KATHA ( RAJASTHAN ) - DAY 4

Shrimad Bhagwad Katha - Pundrik Ji Maharaj - Day 2

Contents of this list:

The Shortest Path to God - Kripaluji Maharaj speaks at Jagannath Puri [Subtitled]
The Shortest Path to God - Kripaluji Maharaj speaks at Jagannath Puri [Subtitled]
The Shortest Path to God - Kripaluji Maharaj speaks at Jagannath Puri [Subtitled]
Jagadguru Kripaluji Maharaj - 2010 Brahmapur Speech [Eng Subtitles]
Shrimad Bhagwat Katha by Shri Rajendra Das Ji Maharaj (Muzaffarpur) Day 02
Shreemad Bhagwat Katha - Pundrik Goswamiji Maharaj - Vrindavan (Day 2)
Dwarka, Gujarat (27 July 2015) | Shrimad Bhagwat Katha | Shri Indresh Upadhyay
Ram Naumi Lecture - Jagadguru Shri Kripalu Ji Maharaj (Hindi)
The Ultimate Goal of Life - Kripaluji Maharaj [Subtitled]
Shrimad Bhagwat Katha by Shri Rajendra Das Ji Maharaj (Muzaffarpur) Day 04
SANSKAR LIVE - SHRI RAJENDRA DAS JI - SHRIMAD BHAGVAT GO KATHA ( RAJASTHAN ) - DAY 4
Shrimad Bhagwad Katha - Pundrik Ji Maharaj - Day 2

Bhajan Lyrics View All

जय राधे राधे, राधे राधे
जय राधे राधे, राधे राधे
प्रभु कर कृपा पावँरी दीन्हि
सादर भारत शीश धरी लीन्ही
रंगीलो राधावल्लभ लाल, जै जै जै श्री
विहरत संग लाडली बाल, जै जै जै श्री
ज़िंदगी मे हज़ारो का मेला जुड़ा
हंस जब जब उड़ा तब अकेला उड़ा
Ye Saare Khel Tumhare Hai Jag
Kahta Khel Naseebo Ka
तमन्ना यही है के उड के बरसाने आयुं मैं
आके बरसाने में तेरे दिल की हसरतो को
दुनिया का बन कर देख लिया, श्यामा का बन
राधा नाम में कितनी शक्ति है, इस राह पर
मेरा यार यशुदा कुंवर हो चूका है
वो दिल हो चूका है जिगर हो चूका है
तू राधे राधे गा ,
तोहे मिल जाएं सांवरियामिल जाएं
हे राम, हे राम, हे राम, हे राम
जग में साचे तेरो नाम । हे राम...
मुझे रास आ गया है, तेरे दर पे सर झुकाना
तुझे मिल गया पुजारी, मुझे मिल गया
राधे राधे बोल, श्याम भागे चले आयंगे।
एक बार आ गए तो कबू नहीं जायेंगे ॥
दिल लूटके ले गया नी सहेलियो मेरा
मैं तक्दी रह गयी नी सहेलियो लगदा
यशोमती मैया से बोले नंदलाला,
राधा क्यूँ गोरी, मैं क्यूँ काला
हम हाथ उठाकर कह देंगे हम हो गये राधा
राधा राधा राधा राधा
हम प्रेम दीवानी हैं, वो प्रेम दीवाना।
ऐ उधो हमे ज्ञान की पोथी ना सुनाना॥
राधा नाम की लगाई फुलवारी, के पत्ता
के पत्ता पत्ता श्याम बोलता, के पत्ता
किशोरी कुछ ऐसा इंतजाम हो जाए।
जुबा पे राधा राधा राधा नाम हो जाए॥
बोल कान्हा बोल गलत काम कैसे हो गया,
बिना शादी के तू राधे श्याम कैसे हो
साँवरिया ऐसी तान सुना,
ऐसी तान सुना मेरे मोहन, मैं नाचू तू गा
सारी दुनियां है दीवानी, राधा रानी आप
कौन है, जिस पर नहीं है, मेहरबानी आप की
राधे राधे बोल, राधे राधे बोल,
बरसाने मे दोल, के मुख से राधे राधे बोल,
एक दिन वो भोले भंडारी बन कर के ब्रिज
पारवती भी मना कर ना माने त्रिपुरारी,
हम प्रेम नगर के बंजारिन है
जप ताप और साधन क्या जाने
श्यामा तेरे चरणों की गर धूल जो मिल
सच कहता हूँ मेरी तकदीर बदल जाए॥
हम राम जी के, राम जी हमारे हैं
वो तो दशरथ राज दुलारे हैं
हर पल तेरे साथ मैं रहता हूँ,
डरने की क्या बात? जब मैं बैठा हूँ
राधा कट दी है गलिआं दे मोड़ आज मेरे
श्याम ने आना घनश्याम ने आना
दाता एक राम, भिखारी सारी दुनिया ।
राम एक देवता, पुजारी सारी दुनिया ॥
तुम रूठे रहो मोहन,
हम तुमको मन लेंगे