Share this page on following platforms.
Download Bhajan as .txt File Download Bhajan as IMAGE File

सबका एक सहारा मुरली वाला
कष्ट हरे जग का ननद का लाल

सबका एक सहारा मुरली वाला
कष्ट हरे जग का ननद का लाल

तूने ही श्याम जी रचा संसार है,
जाने न कोई मोहन तेरी लीला अपरम पार है
तूने ही, श्याम जी तूने ही...

गोकुल में जाके मोहन, कभी मथुरा में पुकारा
महा रास है रचाया, कहाँ वास है तुम्हारा
मन चाहता है मोहन मन में तुझे बसा लें
चरणों की धुल तेरी माथे पे हम लगा ले
करदे उधार मेरा तू जग का पालन हार है
तूने ही, श्याम जी तूने ही...

लीला रचाई बन के गैयों का रखवाला
गीता में भी दिया है हमे ज्ञान का उजाला
तन मन से जो भी तेरा इक बार तेरा हो गया है
तेरी दया से भव से वो पार हो गया है
तू ही तो है गिरिधर, सब का आधार है
तूने ही, श्याम जी तूने ही...



tune hi shyam ji racha sansar hai



Bhajan Lyrics View All

बहुत बड़ा दरबार तेरो बहुत बड़ा दरबार,
चाकर रखलो राधा रानी तेरा बहुत बड़ा
मोहे आन मिलो श्याम, बहुत दिन बीत गए।
बहुत दिन बीत गए, बहुत युग बीत गए ॥
हम राम जी के, राम जी हमारे हैं
वो तो दशरथ राज दुलारे हैं
कोई पकड़ के मेरा हाथ रे,
मोहे वृन्दावन पहुंच देओ ।
मीठे रस से भरी रे, राधा रानी लागे,
मने कारो कारो जमुनाजी रो पानी लागे
ज़रा छलके ज़रा छलके वृदावन देखो
ज़रा हटके ज़रा हटके ज़माने से देखो
प्रीतम बोलो कब आओगे॥
बालम बोलो कब आओगे॥
सब के संकट दूर करेगी, यह बरसाने वाली,
बजाओ राधा नाम की ताली ।
मेरी करुणामयी सरकार पता नहीं क्या दे
क्या दे दे भई, क्या दे दे
हे राम, हे राम, हे राम, हे राम
जग में साचे तेरो नाम । हे राम...
मेरी विनती यही है राधा रानी, कृपा
मुझे तेरा ही सहारा महारानी, चरणों से
राधे राधे बोल, राधे राधे बोल,
बरसाने मे दोल, के मुख से राधे राधे बोल,
अच्युतम केशवं राम नारायणं,
कृष्ण दमोधराम वासुदेवं हरिं,
ये सारे खेल तुम्हारे है
जग कहता खेल नसीबों का
फूलों में सज रहे हैं, श्री वृन्दावन
और संग में सज रही है वृषभानु की
साँवरिया ऐसी तान सुना,
ऐसी तान सुना मेरे मोहन, मैं नाचू तू गा
ना मैं मीरा ना मैं राधा,
फिर भी श्याम को पाना है ।
Ye Saare Khel Tumhare Hai Jag
Kahta Khel Naseebo Ka
कान्हा की दीवानी बन जाउंगी,
दीवानी बन जाउंगी मस्तानी बन जाउंगी,
ज़री की पगड़ी बाँधे, सुंदर आँखों वाला,
कितना सुंदर लागे बिहारी कितना लागे
राधिका गोरी से ब्रिज की छोरी से ,
मैया करादे मेरो ब्याह,
कैसे जिऊ मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही ना लागे तुम्हारे बिना
एक कोर कृपा की करदो स्वामिनी श्री
दासी की झोली भर दो लाडली श्री राधे॥
इक तारा वाजदा जी हर दम गोविन्द
जग ताने देंदा ए, तै मैनु कोई फरक नहीं
जग में सुन्दर है दो नाम, चाहे कृष्ण
बोलो राम राम राम, बोलो श्याम श्याम
ये तो बतादो बरसानेवाली,मैं कैसे
तेरी कृपा से है यह जीवन है मेरा,कैसे
यह मेरी अर्जी है,
मैं वैसी बन जाऊं जो तेरी मर्ज़ी है
मेरा आपकी कृपा से,
सब काम हो रहा है
मेरी रसना से राधा राधा नाम निकले,
हर घडी हर पल, हर घडी हर पल।
मुझे रास आ गया है,
तेरे दर पे सर झुकाना