Share this page on following platforms.

Home Gurus Sukhbodhananda

manase relax please

Inner Awakening

Inner Awakening

Swami Sukhabodhananda's Discourse on Bravery Part 1

e4m AdAsia 2011: Full Video: Global Ethos : Managing Unpredictability in Life & Business Part 4

e4m AdAsia 2011: Full Video: Global Ethos : Managing Unpredictability in Life & Business Part 5

e4m AdAsia 2011: Full Video: Global Ethos : Managing Unpredictability in Life & Business Part 4

e4m AdAsia 2011: Full Video: Global Ethos : Managing Unpredictability in Life & Business Part 3

e4m AdAsia 2011: Full Video: Global Ethos : Managing Unpredictability in Life & Business Part 2

e4m AdAsia 2011: Full Video: Global Ethos : Managing Unpredictability in Life & Business Part 1

e4m AdAsia 2011: Full Video: Global Ethos : Managing Unpredictability in Life & Business Part 3

e4m AdAsia 2011: Full Video: Global Ethos : Managing Unpredictability in Life & Business Part 2

e4m AdAsia 2011: Full Video: Global Ethos : Managing Unpredictability in Life & Business Part 1

Let TRUST rule over DOUBTS : Swami Sukhabodhananda @ AdAsia 2011

Contents of this list:

Deleted video
Deleted video
Deleted video
Deleted video
Deleted video
Deleted video
Deleted video
Deleted video
Deleted video
Inner Awakening
Inner Awakening
Swami Sukhabodhananda's Discourse on Bravery Part 1
e4m AdAsia 2011: Full Video: Global Ethos : Managing Unpredictability in Life & Business Part 4
e4m AdAsia 2011: Full Video: Global Ethos : Managing Unpredictability in Life & Business Part 5
e4m AdAsia 2011: Full Video: Global Ethos : Managing Unpredictability in Life & Business Part 4
e4m AdAsia 2011: Full Video: Global Ethos : Managing Unpredictability in Life & Business Part 3
e4m AdAsia 2011: Full Video: Global Ethos : Managing Unpredictability in Life & Business Part 2
e4m AdAsia 2011: Full Video: Global Ethos : Managing Unpredictability in Life & Business Part 1
e4m AdAsia 2011: Full Video: Global Ethos : Managing Unpredictability in Life & Business Part 3
e4m AdAsia 2011: Full Video: Global Ethos : Managing Unpredictability in Life & Business Part 2
e4m AdAsia 2011: Full Video: Global Ethos : Managing Unpredictability in Life & Business Part 1
Let TRUST rule over DOUBTS : Swami Sukhabodhananda @ AdAsia 2011

Bhajan Lyrics View All

सावरे से मिलने का सत्संग ही बहाना है ।
सारे दुःख दूर हुए, दिल बना दीवाना है ।
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से
गोविन्द नाम लेकर, फिर प्राण तन से
बोल कान्हा बोल गलत काम कैसे हो गया,
बिना शादी के तू राधे श्याम कैसे हो
ये तो बतादो बरसानेवाली,मैं कैसे
तेरी कृपा से है यह जीवन है मेरा,कैसे
मेरे जीवन की जुड़ गयी डोर, किशोरी तेरे
किशोरी तेरे चरणन में, महारानी तेरे
यह मेरी अर्जी है,
मैं वैसी बन जाऊं जो तेरी मर्ज़ी है
दिल लूटके ले गया नी सहेलियो मेरा
मैं तक्दी रह गयी नी सहेलियो लगदा
ज़िंदगी मे हज़ारो का मेला जुड़ा
हंस जब जब उड़ा तब अकेला उड़ा
आँखों को इंतज़ार है सरकार आपका
ना जाने होगा कब हमें दीदार आपका
श्री राधा हमारी गोरी गोरी, के नवल
यो तो कालो नहीं है मतवारो, जगत उज्य
कैसे जीऊं मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही न लगे श्यामा तेरे बिना
कहना कहना आन पड़ी मैं तेरे द्वार ।
मुझे चाकर समझ निहार ॥
मेरी करुणामयी सरकार, मिला दो ठाकुर से
कृपा करो भानु दुलारी, श्री राधे
तेरी मंद मंद मुस्कनिया पे ,बलिहार
तेरी मंद मंद मुस्कनिया पे ,बलिहार
मेरी विनती यही है राधा रानी, कृपा
मुझे तेरा ही सहारा महारानी, चरणों से
अपने दिल का दरवाजा हम खोल के सोते है
सपने में आ जाना मईया,ये बोल के सोते है
श्यामा तेरे चरणों की गर धूल जो मिल
सच कहता हूँ मेरी तकदीर बदल जाए॥
राधिका गोरी से ब्रिज की छोरी से ,
मैया करादे मेरो ब्याह,
मीठे रस से भरी रे, राधा रानी लागे,
मने कारो कारो जमुनाजी रो पानी लागे
तेरे बगैर सांवरिया जिया नही जाये
तुम आके बांह पकड लो तो कोई बात बने‌॥
मुझे रास आ गया है,
तेरे दर पे सर झुकाना
दुनिया से मैं हारा तो आया तेरे द्वार,
यहाँ से गर जो हरा कहाँ जाऊँगा सरकार
राधा नाम की लगाई फुलवारी, के पत्ता
के पत्ता पत्ता श्याम बोलता, के पत्ता
रंगीलो राधावल्लभ लाल, जै जै जै श्री
विहरत संग लाडली बाल, जै जै जै श्री
राधे मोरी बंसी कहा खो गयी,
कोई ना बताये और शाम हो गयी,
जीवन खतम हुआ तो जीने का ढंग आया
जब शमा बुझ गयी तो महफ़िल में रंग आया
जग में सुन्दर है दो नाम, चाहे कृष्ण
बोलो राम राम राम, बोलो श्याम श्याम
श्याम बुलाये राधा नहीं आये,
आजा मेरी प्यारी राधे बागो में झूला
बहुत बड़ा दरबार तेरो बहुत बड़ा दरबार,
चाकर रखलो राधा रानी तेरा बहुत बड़ा
राधा ढूंढ रही किसी ने मेरा श्याम देखा
श्याम देखा घनश्याम देखा