Share this page on following platforms.

Home Gurus Kirit Bhaiji

Kirit Bhaiji

Full Bhagwat Katha - Day 1: Part 1 of 6

Full Bhagwat Katha - Day 1: Part 3 of 6

Shri Kirit Bhai Maharaj - Ram katha - (Nasik) :- Day 1

Shri Kirit Bhai Maharaj - Ram katha - (Nasik) :- Day 6

Devi Bhagwat 005

Shri Kirit Bhaiji pravachan - Day3 - Part3.

Shri Kirit Bhaiji pravachan - Grihastha Ashram

Guru Poornima - Ahmedabad - Part 1

Guru Poornima - Ahmedabad - Part 3

Shri Kirit Bhai Maharaj - Ram katha - (Nasik) :- Day 5

Shri Kirit Bhai Maharaj - Ram katha - (Nasik) :- Day 4

Contents of this list:

Full Bhagwat Katha - Day 1: Part 1 of 6
Full Bhagwat Katha - Day 1: Part 3 of 6
Shri Kirit Bhai Maharaj - Ram katha - (Nasik) :- Day 1
Shri Kirit Bhai Maharaj - Ram katha - (Nasik) :- Day 6
Devi Bhagwat 005
Shri Kirit Bhaiji pravachan - Day3 - Part3.
Shri Kirit Bhaiji pravachan - Grihastha Ashram
Guru Poornima - Ahmedabad - Part 1
Guru Poornima - Ahmedabad - Part 3
Shri Kirit Bhai Maharaj - Ram katha - (Nasik) :- Day 5
Shri Kirit Bhai Maharaj - Ram katha - (Nasik) :- Day 4

Bhajan Lyrics View All

तू राधे राधे गा ,
तोहे मिल जाएं सांवरियामिल जाएं
हो मेरी लाडो का नाम श्री राधा
श्री राधा श्री राधा, श्री राधा श्री
हम प्रेम नगर के बंजारिन है
जप ताप और साधन क्या जाने
वृंदावन में हुकुम चले बरसाने वाली का,
कान्हा भी दीवाना है श्री श्यामा
वास देदो किशोरी जी बरसाना,
छोडो छोडो जी छोडो जी तरसाना ।
बोल कान्हा बोल गलत काम कैसे हो गया,
बिना शादी के तू राधे श्याम कैसे हो
सांवरिया है सेठ ,मेरी राधा जी सेठानी
यह तो सारी दुनिया जाने है
राधे तु कितनी प्यारी है ॥
तेरे संग में बांके बिहारी कृष्ण
तीनो लोकन से न्यारी राधा रानी हमारी।
राधा रानी हमारी, राधा रानी हमारी॥
हर साँस में हो सुमिरन तेरा,
यूँ बीत जाये जीवन मेरा
ज़रा छलके ज़रा छलके वृदावन देखो
ज़रा हटके ज़रा हटके ज़माने से देखो
मुझे रास आ गया है, तेरे दर पे सर झुकाना
तुझे मिल गया पुजारी, मुझे मिल गया
अच्युतम केशवं राम नारायणं,
कृष्ण दमोधराम वासुदेवं हरिं,
सारी दुनियां है दीवानी, राधा रानी आप
कौन है, जिस पर नहीं है, मेहरबानी आप की
सब के संकट दूर करेगी, यह बरसाने वाली,
बजाओ राधा नाम की ताली ।
ज़री की पगड़ी बाँधे, सुंदर आँखों वाला,
कितना सुंदर लागे बिहारी कितना लागे
जिनको जिनको सेठ बनाया वो क्या
उनसे तो प्यार है हमसे तकरार है ।
मेरा यार यशुदा कुंवर हो चूका है
वो दिल हो चूका है जिगर हो चूका है
श्री राधा हमारी गोरी गोरी, के नवल
यो तो कालो नहीं है मतवारो, जगत उज्य
राधा नाम की लगाई फुलवारी, के पत्ता
के पत्ता पत्ता श्याम बोलता, के पत्ता
यह मेरी अर्जी है,
मैं वैसी बन जाऊं जो तेरी मर्ज़ी है
कोई कहे गोविंदा, कोई गोपाला।
मैं तो कहुँ सांवरिया बाँसुरिया वाला॥
सांवरियो है सेठ, म्हारी राधा जी
यह तो जाने दुनिया सारी है
कोई पकड़ के मेरा हाथ रे,
मोहे वृन्दावन पहुंच देओ ।
राधे राधे बोल, राधे राधे बोल,
बरसाने मे दोल, के मुख से राधे राधे बोल,
कोई कहे गोविंदा कोई गोपाला,
मैं तो कहूँ सांवरिया बांसुरी वाला ।
ये सारे खेल तुम्हारे है
जग कहता खेल नसीबों का
राधिका गोरी से ब्रिज की छोरी से ,
मैया करादे मेरो ब्याह,
मुझे रास आ गया है,
तेरे दर पे सर झुकाना
किशोरी कुछ ऐसा इंतजाम हो जाए।
जुबा पे राधा राधा राधा नाम हो जाए॥