Download Bhajan as .txt File Download Bhajan as IMAGE File

मुथरा में श्याम बस अवध में राम,
नाम है दो पर एक ही काम,

मुथरा में श्याम बस अवध में राम,
नाम है दो पर एक ही काम,
भीड़ पड़े जब जब  भगतों पे ,
आते है बस यह ही काम,
बोलो भगतों रे जय हो तेरी जय श्री राम,
जय हो तेरी जय घनश्याम,

एक तो है बंसी बजैया,और दूजे है धनुष तुरैया
राधा जी के साथ में विराजे घनश्याम ,
सीतामाता के साथ विराजे राम,
दवापर में घनस्याम जी आये तरेता में आये श्री राम,
बोलो भगतों रे जय ........

एक तो चोरी से माखन खावे,
दूजे झूठे बेर शबरी के खावे,
हनुमान के मन भए श्री राम,
सुदामा से यारी निभाए घनश्याम
नाम जपो राम सिया का चाहे बोलो राधे श्याम
बोलो भगतों रे जय .........

एक मथुरा में कंस को मरे दूजा लंका में रावन संगरे
श्याम को भजो या भजो श्री राम,
राम ही श्याम श्याम ही है राम,
भव सागर से पार लगए ऐ राही प्रबु का नाम,



mathura main shyam base avadh me ram



Krishna Bhajans App

Bhajan Lyrics View All

दिल लूटके ले गया नी सहेलियो मेरा
मैं तक्दी रह गयी नी सहेलियो लगदा
यशोमती मैया से बोले नंदलाला,
राधा क्यूँ गोरी, मैं क्यूँ काला
दुनिया का बन कर देख लिया, श्यामा का बन
राधा नाम में कितनी शक्ति है, इस राह पर
राधा ढूंढ रही किसी ने मेरा श्याम देखा
श्याम देखा घनश्याम देखा
मेरा यार यशुदा कुंवर हो चूका है
वो दिल हो चूका है जिगर हो चूका है
तेरी मुरली की धुन सुनने मैं बरसाने से
मैं बरसाने से आयी हूँ, मैं वृषभानु की
कहना कहना आन पड़ी मैं तेरे द्वार ।
मुझे चाकर समझ निहार ॥
तू राधे राधे गा ,
तोहे मिल जाएं सांवरियामिल जाएं
तीनो लोकन से न्यारी राधा रानी हमारी।
राधा रानी हमारी, राधा रानी हमारी॥
दुनिया से मैं हारा तो आया तेरे द्वार,
यहाँ से गर जो हरा कहाँ जाऊँगा सरकार
श्री राधा हमारी गोरी गोरी, के नवल
यो तो कालो नहीं है मतवारो, जगत उज्य
प्रीतम बोलो कब आओगे॥
बालम बोलो कब आओगे॥
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से
गोविन्द नाम लेकर, फिर प्राण तन से
दिल की हर धड़कन से तेरा नाम निकलता है
तेरे दर्शन को मोहन तेरा दास तरसता है
हम राम जी के, राम जी हमारे हैं
वो तो दशरथ राज दुलारे हैं
राधिका गोरी से ब्रिज की छोरी से ,
मैया करादे मेरो ब्याह,
मुझे चढ़ गया राधा रंग रंग, मुझे चढ़
श्री राधा नाम का रंग रंग, श्री राधा
मुझे चाहिए बस सहारा तुम्हारा,
के नैनों में गोविन्द नज़ारा तुम्हार
तेरी मंद मंद मुस्कनिया पे ,बलिहार
तेरी मंद मंद मुस्कनिया पे ,बलिहार
हम प्रेम दीवानी हैं, वो प्रेम दीवाना।
ऐ उधो हमे ज्ञान की पोथी ना सुनाना॥
ज़रा छलके ज़रा छलके वृदावन देखो
ज़रा हटके ज़रा हटके ज़माने से देखो
दाता एक राम, भिखारी सारी दुनिया ।
राम एक देवता, पुजारी सारी दुनिया ॥
अपने दिल का दरवाजा हम खोल के सोते है
सपने में आ जाना मईया,ये बोल के सोते है
वृदावन जाने को जी चाहता है,
राधे राधे गाने को जी चाहता है,
जीवन खतम हुआ तो जीने का ढंग आया
जब शमा बुझ गयी तो महफ़िल में रंग आया
मोहे आन मिलो श्याम, बहुत दिन बीत गए।
बहुत दिन बीत गए, बहुत युग बीत गए ॥
हम प्रेम नगर के बंजारिन है
जप ताप और साधन क्या जाने
राधे मोरी बंसी कहा खो गयी,
कोई ना बताये और शाम हो गयी,
श्यामा तेरे चरणों की गर धूल जो मिल
सच कहता हूँ मेरी तकदीर बदल जाए॥
जग में सुन्दर है दो नाम, चाहे कृष्ण
बोलो राम राम राम, बोलो श्याम श्याम