Share this page on following platforms.
Download Bhajan as .txt File Download Bhajan as IMAGE File

हो मेरी लाडो का नाम श्री राधा
श्री राधा श्री राधा, श्री राधा श्री राधा

हो मेरी लाडो का नाम श्री राधा
श्री राधा श्री राधा, श्री राधा श्री राधा
मेरी लाडो का नाम श्री राधा
पटरानी का नाम श्री राधा //०//

जमुना तट पर राधा राधा,
कुंज गलिन मे राधा राधा,
राधा बिना शाम आधा,
हो मेरी लाडो का नाम श्री राधा
पटरानी का नाम श्री राधा //१//

बरसाने मे राधा राधा
बंसी पट पे राधा राधा
राधा पुकारे शाम आजा
हो मेरी लाडो का नाम श्री राधा
पटरानी का नाम श्री राधा //२//

पनिया भारण गयी गोपिया, पीछे उनके गयो रे नंदलाल रे
कर रहे है छेड़खानी

राधा राधा राधा मेरी राधा महारानी देखो
शाम है दीवाना उसका गाए राधा राधा देखो

शरण पड़ा हू आके तेरे
तुमको भजता शाम सवरे
सुनके यही कहता शाम राधा
हो मेरी लाडो का नाम श्री राधा
पटरानी का नाम श्री राधा //३//


भटका हू मुझे राह दिखादे
चरनो मे मुझे अपनी जगा दे
नाम स्मरण बिना जीवन आधा
हो मेरी लाडो का नाम श्री राधा
पटरानी का नाम श्री राधा //४//



meri laado ka naam shri radha



Bhajan Lyrics View All

दिल लूटके ले गया नी सहेलियो मेरा
मैं तक्दी रह गयी नी सहेलियो लगदा
मुँह फेर जिधर देखु मुझे तू ही नज़र आये
हम छोड़के दर तेरा अब और किधर जाये
वृन्दावन के बांके बिहारी,
हमसे पर्दा करो ना मुरारी ।
तेरे दर की भीख से है,
मेरा आज तक गुज़ारा
वास देदो किशोरी जी बरसाना,
छोडो छोडो जी छोडो जी तरसाना ।
हर पल तेरे साथ मैं रहता हूँ,
डरने की क्या बात? जब मैं बैठा हूँ
ज़रा छलके ज़रा छलके वृदावन देखो
ज़रा हटके ज़रा हटके ज़माने से देखो
जय राधे राधे, राधे राधे
जय राधे राधे, राधे राधे
तेरी मुरली की धुन सुनने मैं बरसाने से
मैं बरसाने से आयी हूँ, मैं वृषभानु की
ज़री की पगड़ी बाँधे, सुंदर आँखों वाला,
कितना सुंदर लागे बिहारी कितना लागे
दुनिया से मैं हारा तो आया तेरे द्वार,
यहाँ से गर जो हरा कहाँ जाऊँगा सरकार
हम प्रेम दीवानी हैं, वो प्रेम दीवाना।
ऐ उधो हमे ज्ञान की पोथी ना सुनाना॥
राधा कट दी है गलिआं दे मोड़ आज मेरे
श्याम ने आना घनश्याम ने आना
कोई कहे गोविंदा, कोई गोपाला।
मैं तो कहुँ सांवरिया बाँसुरिया वाला॥
बृज के नन्द लाला राधा के सांवरिया
सभी दुख: दूर हुए जब तेरा नाम लिया
ये तो बतादो बरसानेवाली,मैं कैसे
तेरी कृपा से है यह जीवन है मेरा,कैसे
श्यामा तेरे चरणों की गर धूल जो मिल
सच कहता हूँ मेरी तकदीर बदल जाए॥
अपनी वाणी में अमृत घोल
अपनी वाणी में अमृत घोल
सावरे से मिलने का सत्संग ही बहाना है ।
सारे दुःख दूर हुए, दिल बना दीवाना है ।
हम हाथ उठाकर कह देंगे हम हो गये राधा
राधा राधा राधा राधा
राधिका गोरी से ब्रिज की छोरी से ,
मैया करादे मेरो ब्याह,
जग में सुन्दर है दो नाम, चाहे कृष्ण
बोलो राम राम राम, बोलो श्याम श्याम
बांके बिहारी की देख छटा,
मेरो मन है गयो लटा पटा।
एक दिन वो भोले भंडारी बन कर के ब्रिज
पारवती भी मना कर ना माने त्रिपुरारी,
कान्हा की दीवानी बन जाउंगी,
दीवानी बन जाउंगी मस्तानी बन जाउंगी,
श्याम बुलाये राधा नहीं आये,
आजा मेरी प्यारी राधे बागो में झूला
इक तारा वाजदा जी हर दम गोविन्द
जग ताने देंदा ए, तै मैनु कोई फरक नहीं
ना मैं मीरा ना मैं राधा,
फिर भी श्याम को पाना है ।
मुझे चढ़ गया राधा रंग रंग, मुझे चढ़
श्री राधा नाम का रंग रंग, श्री राधा
मीठे रस से भरी रे, राधा रानी लागे,
मने कारो कारो जमुनाजी रो पानी लागे