Share this page on following platforms.

Home Katha Nani Bai Ro Mayro

Mayra

Nani Bai Ro Mayro- Volume 1

Nani Bai Ro Mayro by Jaya Kishori Ji at Raniganj

Nani Bai Ro Mayro by Jaya Kishori Organized by Narayan Seva

Pujya jaya kishori Ji NANI BAI Mayra (Part 1)

Sankirtan - Theto Kevo Babaji Sachi - Jaya Kishori

Pujya Jaya Kishori ji part-2

Pujya jaya kishori Ji NANI BAI Mayra (Part 5)

Nani bai ko mayro by Jaya Kishori

Indore, MP (26 January 2015) | Nani Bai Ro Mayro | Radhaswarupa Jaya Kishori Ji

0365 KRISHNA STORY -- SUDAMA STORY -- SUDAMA'S LIFESTYLE AND DEVOTION

Contents of this list:

Nani Bai Ro Mayro- Volume 1
Nani Bai Ro Mayro by Jaya Kishori Ji at Raniganj
Nani Bai Ro Mayro by Jaya Kishori Organized by Narayan Seva
Pujya jaya kishori Ji NANI BAI Mayra (Part 1)
Sankirtan - Theto Kevo Babaji Sachi - Jaya Kishori
Pujya Jaya Kishori ji part-2
Pujya jaya kishori Ji NANI BAI Mayra (Part 5)
Nani bai ko mayro by Jaya Kishori
Indore, MP (26 January 2015) | Nani Bai Ro Mayro | Radhaswarupa Jaya Kishori Ji
0365 KRISHNA STORY -- SUDAMA STORY -- SUDAMA'S LIFESTYLE AND DEVOTION

Bhajan Lyrics View All

हम प्रेम नगर के बंजारिन है
जप ताप और साधन क्या जाने
तेरे बगैर सांवरिया जिया नही जाये
तुम आके बांह पकड लो तो कोई बात बने‌॥
मुझे चाहिए बस सहारा तुम्हारा,
के नैनों में गोविन्द नज़ारा तुम्हार
राधे तु कितनी प्यारी है ॥
तेरे संग में बांके बिहारी कृष्ण
साँवरिया ऐसी तान सुना,
ऐसी तान सुना मेरे मोहन, मैं नाचू तू गा
करदो करदो बेडा पार, राधे अलबेली सरकार।
राधे अलबेली सरकार, राधे अलबेली
मेरी करुणामयी सरकार, मिला दो ठाकुर से
कृपा करो भानु दुलारी, श्री राधे
बृज के नन्द लाला राधा के सांवरिया
सभी दुख: दूर हुए जब तेरा नाम लिया
मुँह फेर जिधर देखु मुझे तू ही नज़र आये
हम छोड़के दर तेरा अब और किधर जाये
तेरे दर की भीख से है,
मेरा आज तक गुज़ारा
ज़िंदगी मे हज़ारो का मेला जुड़ा
हंस जब जब उड़ा तब अकेला उड़ा
वृंदावन में हुकुम चले बरसाने वाली का,
कान्हा भी दीवाना है श्री श्यामा
जग में सुन्दर है दो नाम, चाहे कृष्ण
बोलो राम राम राम, बोलो श्याम श्याम
बोल कान्हा बोल गलत काम कैसे हो गया,
बिना शादी के तू राधे श्याम कैसे हो
एक दिन वो भोले भंडारी बन कर के ब्रिज
पारवती भी मना कर ना माने त्रिपुरारी,
मुझे रास आ गया है, तेरे दर पे सर झुकाना
तुझे मिल गया पुजारी, मुझे मिल गया
आँखों को इंतज़ार है सरकार आपका
ना जाने होगा कब हमें दीदार आपका
जिनको जिनको सेठ बनाया वो क्या
उनसे तो प्यार है हमसे तकरार है ।
दाता एक राम, भिखारी सारी दुनिया ।
राम एक देवता, पुजारी सारी दुनिया ॥
ज़री की पगड़ी बाँधे, सुंदर आँखों वाला,
कितना सुंदर लागे बिहारी कितना लागे
हर पल तेरे साथ मैं रहता हूँ,
डरने की क्या बात? जब मैं बैठा हूँ
राधा कट दी है गलिआं दे मोड़ आज मेरे
श्याम ने आना घनश्याम ने आना
कैसे जिऊ मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही ना लागे तुम्हारे बिना
यह मेरी अर्जी है,
मैं वैसी बन जाऊं जो तेरी मर्ज़ी है
हर साँस में हो सुमिरन तेरा,
यूँ बीत जाये जीवन मेरा
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से
गोविन्द नाम लेकर, फिर प्राण तन से
अपनी वाणी में अमृत घोल
अपनी वाणी में अमृत घोल
सावरे से मिलने का सत्संग ही बहाना है ।
सारे दुःख दूर हुए, दिल बना दीवाना है ।
ये सारे खेल तुम्हारे है
जग कहता खेल नसीबों का
राधा ढूंढ रही किसी ने मेरा श्याम देखा
श्याम देखा घनश्याम देखा