Share this page on following platforms.

Home Gurus Sri Thakurji

Bhajan by Thakur ji

Madhurashtakam by Bhagwat Bhaskar Shri Thakurji

Madhurashtakam by Bhagwat Bhaskar Shri Thakurji

Rudrashtakam - Shiva Stuti by Shri Thakurji

Krishna Bhajan - Teri Ankhiyan Hain Jadu Bhari by Shri Thakurji

Dil pyara hain magar dil pyara tu hain

Dekha Ajab Nazaaraa Darbar Mein Kanhaiya | Shri Vinod Agarwal Ji | Delhi Bhajan

Shyaam Hamrahi Ban Ke Rehana By Shri Vinod Aggarwal Part 2

Shyaam Hamrahi Ban Ke Rehana By Shri Vinod Aggarwal Part 3

VINOD AGGARWAL JI IN NOIDA-19 MARCH-2012

Contents of this list:

Madhurashtakam by Bhagwat Bhaskar Shri Thakurji
Madhurashtakam by Bhagwat Bhaskar Shri Thakurji
Rudrashtakam - Shiva Stuti by Shri Thakurji
Krishna Bhajan - Teri Ankhiyan Hain Jadu Bhari by Shri Thakurji
Dil pyara hain magar dil pyara tu hain
Dekha Ajab Nazaaraa Darbar Mein Kanhaiya | Shri Vinod Agarwal Ji | Delhi Bhajan
Shyaam Hamrahi Ban Ke Rehana By Shri Vinod Aggarwal Part 2
Shyaam Hamrahi Ban Ke Rehana By Shri Vinod Aggarwal Part 3
VINOD AGGARWAL JI IN NOIDA-19 MARCH-2012

Bhajan Lyrics View All

हम प्रेम दीवानी हैं, वो प्रेम दीवाना।
ऐ उधो हमे ज्ञान की पोथी ना सुनाना॥
मीठे रस से भरी रे, राधा रानी लागे,
मने कारो कारो जमुनाजी रो पानी लागे
हो मेरी लाडो का नाम श्री राधा
श्री राधा श्री राधा, श्री राधा श्री
मेरी रसना से राधा राधा नाम निकले,
हर घडी हर पल, हर घडी हर पल।
मेरा यार यशुदा कुंवर हो चूका है
वो दिल हो चूका है जिगर हो चूका है
मुझे चाहिए बस सहारा तुम्हारा,
के नैनों में गोविन्द नज़ारा तुम्हार
यशोमती मैया से बोले नंदलाला,
राधा क्यूँ गोरी, मैं क्यूँ काला
हर साँस में हो सुमिरन तेरा,
यूँ बीत जाये जीवन मेरा
ਮੇਰੇ ਕਰਮਾਂ ਵੱਲ ਨਾ ਵੇਖਿਓ ਜੀ,
ਕਰਮਾਂ ਤੋਂ ਸ਼ਾਰਮਾਈ ਹੋਈ ਆਂ
तेरी मुरली की धुन सुनने मैं बरसाने से
मैं बरसाने से आयी हूँ, मैं वृषभानु की
Ye Saare Khel Tumhare Hai Jag
Kahta Khel Naseebo Ka
ये सारे खेल तुम्हारे है
जग कहता खेल नसीबों का
सांवरिया है सेठ ,मेरी राधा जी सेठानी
यह तो सारी दुनिया जाने है
मेरा आपकी कृपा से,
सब काम हो रहा है
मोहे आन मिलो श्याम, बहुत दिन बीत गए।
बहुत दिन बीत गए, बहुत युग बीत गए ॥
फूलों में सज रहे हैं, श्री वृन्दावन
और संग में सज रही है वृषभानु की
हम प्रेम नगर के बंजारिन है
जप ताप और साधन क्या जाने
मेरे जीवन की जुड़ गयी डोर, किशोरी तेरे
किशोरी तेरे चरणन में, महारानी तेरे
कैसे जिऊ मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही ना लागे तुम्हारे बिना
मुझे चढ़ गया राधा रंग रंग, मुझे चढ़
श्री राधा नाम का रंग रंग, श्री राधा
मुँह फेर जिधर देखु मुझे तू ही नज़र आये
हम छोड़के दर तेरा अब और किधर जाये
वृंदावन में हुकुम चले बरसाने वाली का,
कान्हा भी दीवाना है श्री श्यामा
प्रीतम बोलो कब आओगे॥
बालम बोलो कब आओगे॥
राधा ढूंढ रही किसी ने मेरा श्याम देखा
श्याम देखा घनश्याम देखा
नी मैं दूध काहे नाल रिडका चाटी चो
लै गया नन्द किशोर लै गया,
दुनिया से मैं हारा तो आया तेरे द्वार,
यहाँ से गर जो हरा कहाँ जाऊँगा सरकार
हम हाथ उठाकर कह देंगे हम हो गये राधा
राधा राधा राधा राधा
मेरी करुणामयी सरकार पता नहीं क्या दे
क्या दे दे भई, क्या दे दे
तमन्ना यही है के उड के बरसाने आयुं मैं
आके बरसाने में तेरे दिल की हसरतो को
राधे राधे बोल, श्याम भागे चले आयंगे।
एक बार आ गए तो कबू नहीं जायेंगे ॥