Share this page on following platforms.

Home Gurus Pundarik ji

Pravachan Biyani College Night

Pravachan Biyani College Night Part 1 BY H.H SRI PUNDRIK GOSWAMI JI MAHARAJ

Pravachan Biyani College Night Part 2 by H.H SRI PUNDRIK GOSWAMI JI MAHARAJ

Pravachan Biyani College Night Part 3 by H.H SRI PUNDRIK GOSWAMI JI MAHARAJ

Pravachan Biyani College Night Part 4 by H.H SRI PUNDRIK GOSWAMI JI MAHARAJ

Pravachan Biyani College Night Part 5 by H.H SRI PUNDRIK GOSWAMI JI MAHARAJ

Pravachan Biyani College Night Part 6 by H.H SRI PUNDRIK GOSWAMI JI MAHARAJ

Pravachan Biyani College Night Part 7 by H.H SRI PUNDRIK GOSWAMI JI MAHARAJ

Pravachan Biyani College Night Part 8 by H.H SRI PUNDRIK GOSWAMI JI

Contents of this list:

Pravachan Biyani College Night Part 1 BY H.H SRI PUNDRIK GOSWAMI JI MAHARAJ
Pravachan Biyani College Night Part 2 by H.H SRI PUNDRIK GOSWAMI JI MAHARAJ
Pravachan Biyani College Night Part 3 by H.H SRI PUNDRIK GOSWAMI JI MAHARAJ
Pravachan Biyani College Night Part 4 by H.H SRI PUNDRIK GOSWAMI JI MAHARAJ
Pravachan Biyani College Night Part 5 by H.H SRI PUNDRIK GOSWAMI JI MAHARAJ
Pravachan Biyani College Night Part 6 by H.H SRI PUNDRIK GOSWAMI JI MAHARAJ
Pravachan Biyani College Night Part 7 by H.H SRI PUNDRIK GOSWAMI JI MAHARAJ
Pravachan Biyani College Night Part 8 by H.H SRI PUNDRIK GOSWAMI JI

Bhajan Lyrics View All

हम प्रेम नगर के बंजारिन है
जप ताप और साधन क्या जाने
जीवन खतम हुआ तो जीने का ढंग आया
जब शमा बुझ गयी तो महफ़िल में रंग आया
प्रभु कर कृपा पावँरी दीन्हि
सादर भारत शीश धरी लीन्ही
कोई कहे गोविंदा, कोई गोपाला।
मैं तो कहुँ सांवरिया बाँसुरिया वाला॥
कैसे जिऊ मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही ना लागे तुम्हारे बिना
हम हाथ उठाकर कह देंगे हम हो गये राधा
राधा राधा राधा राधा
मेरे जीवन की जुड़ गयी डोर, किशोरी तेरे
किशोरी तेरे चरणन में, महारानी तेरे
हे राम, हे राम, हे राम, हे राम
जग में साचे तेरो नाम । हे राम...
अपनी वाणी में अमृत घोल
अपनी वाणी में अमृत घोल
हम प्रेम दीवानी हैं, वो प्रेम दीवाना।
ऐ उधो हमे ज्ञान की पोथी ना सुनाना॥
राधा नाम की लगाई फुलवारी, के पत्ता
के पत्ता पत्ता श्याम बोलता, के पत्ता
नी मैं दूध काहे नाल रिडका चाटी चो
लै गया नन्द किशोर लै गया,
ये तो बतादो बरसानेवाली,मैं कैसे
तेरी कृपा से है यह जीवन है मेरा,कैसे
मुझे चढ़ गया राधा रंग रंग, मुझे चढ़
श्री राधा नाम का रंग रंग, श्री राधा
दाता एक राम, भिखारी सारी दुनिया ।
राम एक देवता, पुजारी सारी दुनिया ॥
बोल कान्हा बोल गलत काम कैसे हो गया,
बिना शादी के तू राधे श्याम कैसे हो
जिनको जिनको सेठ बनाया वो क्या
उनसे तो प्यार है हमसे तकरार है ।
Ye Saare Khel Tumhare Hai Jag
Kahta Khel Naseebo Ka
वृदावन जाने को जी चाहता है,
राधे राधे गाने को जी चाहता है,
वृंदावन में हुकुम चले बरसाने वाली का,
कान्हा भी दीवाना है श्री श्यामा
मेरा आपकी कृपा से,
सब काम हो रहा है
एक कोर कृपा की करदो स्वामिनी श्री
दासी की झोली भर दो लाडली श्री राधे॥
फूलों में सज रहे हैं, श्री वृन्दावन
और संग में सज रही है वृषभानु की
कोई पकड़ के मेरा हाथ रे,
मोहे वृन्दावन पहुंच देओ ।
साँवरिया ऐसी तान सुना,
ऐसी तान सुना मेरे मोहन, मैं नाचू तू गा
श्यामा तेरे चरणों की गर धूल जो मिल
सच कहता हूँ मेरी तकदीर बदल जाए॥
रंगीलो राधावल्लभ लाल, जै जै जै श्री
विहरत संग लाडली बाल, जै जै जै श्री
जय राधे राधे, राधे राधे
जय राधे राधे, राधे राधे
ज़रा छलके ज़रा छलके वृदावन देखो
ज़रा हटके ज़रा हटके ज़माने से देखो
तीनो लोकन से न्यारी राधा रानी हमारी।
राधा रानी हमारी, राधा रानी हमारी॥