Share this page on following platforms.

Home Gurus Pundarik ji

Pravachan Biyani College Night

Pravachan Biyani College Night Part 1 BY H.H SRI PUNDRIK GOSWAMI JI MAHARAJ

Pravachan Biyani College Night Part 2 by H.H SRI PUNDRIK GOSWAMI JI MAHARAJ

Pravachan Biyani College Night Part 3 by H.H SRI PUNDRIK GOSWAMI JI MAHARAJ

Pravachan Biyani College Night Part 4 by H.H SRI PUNDRIK GOSWAMI JI MAHARAJ

Pravachan Biyani College Night Part 5 by H.H SRI PUNDRIK GOSWAMI JI MAHARAJ

Pravachan Biyani College Night Part 6 by H.H SRI PUNDRIK GOSWAMI JI MAHARAJ

Pravachan Biyani College Night Part 7 by H.H SRI PUNDRIK GOSWAMI JI MAHARAJ

Pravachan Biyani College Night Part 8 by H.H SRI PUNDRIK GOSWAMI JI

Contents of this list:

Pravachan Biyani College Night Part 1 BY H.H SRI PUNDRIK GOSWAMI JI MAHARAJ
Pravachan Biyani College Night Part 2 by H.H SRI PUNDRIK GOSWAMI JI MAHARAJ
Pravachan Biyani College Night Part 3 by H.H SRI PUNDRIK GOSWAMI JI MAHARAJ
Pravachan Biyani College Night Part 4 by H.H SRI PUNDRIK GOSWAMI JI MAHARAJ
Pravachan Biyani College Night Part 5 by H.H SRI PUNDRIK GOSWAMI JI MAHARAJ
Pravachan Biyani College Night Part 6 by H.H SRI PUNDRIK GOSWAMI JI MAHARAJ
Pravachan Biyani College Night Part 7 by H.H SRI PUNDRIK GOSWAMI JI MAHARAJ
Pravachan Biyani College Night Part 8 by H.H SRI PUNDRIK GOSWAMI JI

Bhajan Lyrics View All

तेरी मंद मंद मुस्कनिया पे ,बलिहार
तेरी मंद मंद मुस्कनिया पे ,बलिहार
कैसे जिऊ मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही ना लागे तुम्हारे बिना
कोई पकड़ के मेरा हाथ रे,
मोहे वृन्दावन पहुंच देओ ।
कोई कहे गोविंदा, कोई गोपाला।
मैं तो कहुँ सांवरिया बाँसुरिया वाला॥
लाली की सुनके मैं आयी
कीरत मैया दे दे बधाई
सब के संकट दूर करेगी, यह बरसाने वाली,
बजाओ राधा नाम की ताली ।
हर पल तेरे साथ मैं रहता हूँ,
डरने की क्या बात? जब मैं बैठा हूँ
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से
गोविन्द नाम लेकर, फिर प्राण तन से
दिल की हर धड़कन से तेरा नाम निकलता है
तेरे दर्शन को मोहन तेरा दास तरसता है
मेरी रसना से राधा राधा नाम निकले,
हर घडी हर पल, हर घडी हर पल।
किशोरी कुछ ऐसा इंतजाम हो जाए।
जुबा पे राधा राधा राधा नाम हो जाए॥
रंगीलो राधावल्लभ लाल, जै जै जै श्री
विहरत संग लाडली बाल, जै जै जै श्री
सांवरिया है सेठ ,मेरी राधा जी सेठानी
यह तो सारी दुनिया जाने है
मुझे रास आ गया है, तेरे दर पे सर झुकाना
तुझे मिल गया पुजारी, मुझे मिल गया
हम राम जी के, राम जी हमारे हैं
वो तो दशरथ राज दुलारे हैं
बोल कान्हा बोल गलत काम कैसे हो गया,
बिना शादी के तू राधे श्याम कैसे हो
राधिका गोरी से ब्रिज की छोरी से ,
मैया करादे मेरो ब्याह,
राधा नाम की लगाई फुलवारी, के पत्ता
के पत्ता पत्ता श्याम बोलता, के पत्ता
वास देदो किशोरी जी बरसाना,
छोडो छोडो जी छोडो जी तरसाना ।
तेरे दर पे आके ज़िन्दगी मेरी
यह तो तेरी नज़र का कमाल है,
तमन्ना यही है के उड के बरसाने आयुं मैं
आके बरसाने में तेरे दिल की हसरतो को
मुझे चढ़ गया राधा रंग रंग, मुझे चढ़
श्री राधा नाम का रंग रंग, श्री राधा
बृज के नन्द लाला राधा के सांवरिया
सभी दुख: दूर हुए जब तेरा नाम लिया
राधे राधे बोल, श्याम भागे चले आयंगे।
एक बार आ गए तो कबू नहीं जायेंगे ॥
बांके बिहारी की देख छटा,
मेरो मन है गयो लटा पटा।
मन चल वृंदावन धाम, रटेंगे राधे राधे
मिलेंगे कुंज बिहारी, ओढ़ के कांबल
इक तारा वाजदा जी हर दम गोविन्द
जग ताने देंदा ए, तै मैनु कोई फरक नहीं
आँखों को इंतज़ार है सरकार आपका
ना जाने होगा कब हमें दीदार आपका
हर साँस में हो सुमिरन तेरा,
यूँ बीत जाये जीवन मेरा
हम प्रेम नगर के बंजारिन है
जप ताप और साधन क्या जाने