Share this page on following platforms.

Home Gurus Gyananand Ji

GEETA SATSANG

SANSKAR LIVE - SHRI GYANANANDJI MAHARAJ - GITA SATSANG - JAPANI PARK (DELHI) - DAY 1

SANSKAR LIVE - SHRI GYANANANDJI MAHARAJ - GITA SATSANG - JAPANI PARK (DELHI) - DAY 2

SANSKAR LIVE - SHRI GYANANANDJI MAHARAJ - GITA SATSANG - JAPANI PARK (DELHI) - DAY 3

SANSKAR LIVE - SHRI GYANANANDJI MAHARAJ - GITA SATSANG - JAPANI PARK (DELHI) - DAY 4

SANSKAR LIVE - SHRI GYANANANDJI MAHARAJ - GITA SATSANG - JAPANI PARK (DELHI) - DAY 5

SANSKAR LIVE - SHRI GYANANANDJI MAHARAJ - GITA SATSANG - JAPANI PARK (DELHI) - DAY 6

LIVE - Gita Pravachan by Shri Gyananand Ji Maharaj - 16 May || Day 1

LIVE - Gita Pravachan by Shri Gyananand Ji Maharaj - 17 May || Day 2

LIVE - Gita Pravachan by Shri Gyananand Ji Maharaj - May || Day 3

LIVE - Gita Pravachan by Shri Gyananand Ji Maharaj - 19 May || Day 4

LIVE - Gita Pravachan by Shri Gyananand Ji Maharaj - 20 May || Day 5

Contents of this list:

SANSKAR LIVE - SHRI GYANANANDJI MAHARAJ - GITA SATSANG - JAPANI PARK (DELHI) - DAY 1
SANSKAR LIVE - SHRI GYANANANDJI MAHARAJ - GITA SATSANG - JAPANI PARK (DELHI) - DAY 2
SANSKAR LIVE - SHRI GYANANANDJI MAHARAJ - GITA SATSANG - JAPANI PARK (DELHI) - DAY 3
SANSKAR LIVE - SHRI GYANANANDJI MAHARAJ - GITA SATSANG - JAPANI PARK (DELHI) - DAY 4
SANSKAR LIVE - SHRI GYANANANDJI MAHARAJ - GITA SATSANG - JAPANI PARK (DELHI) - DAY 5
SANSKAR LIVE - SHRI GYANANANDJI MAHARAJ - GITA SATSANG - JAPANI PARK (DELHI) - DAY 6
LIVE - Gita Pravachan by Shri Gyananand Ji Maharaj - 16 May || Day 1
LIVE - Gita Pravachan by Shri Gyananand Ji Maharaj - 17 May || Day 2
LIVE - Gita Pravachan by Shri Gyananand Ji Maharaj - May || Day 3
LIVE - Gita Pravachan by Shri Gyananand Ji Maharaj - 19 May || Day 4
LIVE - Gita Pravachan by Shri Gyananand Ji Maharaj - 20 May || Day 5

Bhajan Lyrics View All

लाडली अद्बुत नज़ारा तेरे बरसाने में
लाडली अब मन हमारा तेरे बरसाने में है।
जय राधे राधे, राधे राधे
जय राधे राधे, राधे राधे
अच्युतम केशवं राम नारायणं,
कृष्ण दमोधराम वासुदेवं हरिं,
दुनिया से मैं हारा तो आया तेरे द्वार,
यहाँ से गर जो हरा कहाँ जाऊँगा सरकार
मेरा यार यशुदा कुंवर हो चूका है
वो दिल हो चूका है जिगर हो चूका है
जग में सुन्दर है दो नाम, चाहे कृष्ण
बोलो राम राम राम, बोलो श्याम श्याम
तेरे दर की भीख से है,
मेरा आज तक गुज़ारा
सांवरियो है सेठ, म्हारी राधा जी
यह तो जाने दुनिया सारी है
वृंदावन में हुकुम चले बरसाने वाली का,
कान्हा भी दीवाना है श्री श्यामा
ज़रा छलके ज़रा छलके वृदावन देखो
ज़रा हटके ज़रा हटके ज़माने से देखो
तू कितनी अच्ची है, तू कितनी भोली है,
ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ ।
वृदावन जाने को जी चाहता है,
राधे राधे गाने को जी चाहता है,
दिल की हर धड़कन से तेरा नाम निकलता है
तेरे दर्शन को मोहन तेरा दास तरसता है
तेरी मुरली की धुन सुनने मैं बरसाने से
मैं बरसाने से आयी हूँ, मैं वृषभानु की
कोई कहे गोविंदा, कोई गोपाला।
मैं तो कहुँ सांवरिया बाँसुरिया वाला॥
तेरी मंद मंद मुस्कनिया पे ,बलिहार
तेरी मंद मंद मुस्कनिया पे ,बलिहार
हम हाथ उठाकर कह देंगे हम हो गये राधा
राधा राधा राधा राधा
नटवर नागर नंदा, भजो रे मन गोविंदा
शयाम सुंदर मुख चंदा, भजो रे मन
सांवरिया है सेठ ,मेरी राधा जी सेठानी
यह तो सारी दुनिया जाने है
मेरी रसना से राधा राधा नाम निकले,
हर घडी हर पल, हर घडी हर पल।
राधा ढूंढ रही किसी ने मेरा श्याम देखा
श्याम देखा घनश्याम देखा
बृज के नन्द लाला राधा के सांवरिया
सभी दुख: दूर हुए जब तेरा नाम लिया
करदो करदो बेडा पार, राधे अलबेली सरकार।
राधे अलबेली सरकार, राधे अलबेली
हम राम जी के, राम जी हमारे हैं
वो तो दशरथ राज दुलारे हैं
ना मैं मीरा ना मैं राधा,
फिर भी श्याम को पाना है ।
ये तो बतादो बरसानेवाली,मैं कैसे
तेरी कृपा से है यह जीवन है मेरा,कैसे
अपने दिल का दरवाजा हम खोल के सोते है
सपने में आ जाना मईया,ये बोल के सोते है
बहुत बड़ा दरबार तेरो बहुत बड़ा दरबार,
चाकर रखलो राधा रानी तेरा बहुत बड़ा
यशोमती मैया से बोले नंदलाला,
राधा क्यूँ गोरी, मैं क्यूँ काला
राधे मोरी बंसी कहा खो गयी,
कोई ना बताये और शाम हो गयी,