Share this page on following platforms.

Home Gurus Gyananand Ji

Geeta Satsang-GyananandajiMaharaj-Gurgaû-18Dec2014

Gurgaon, Haryana( December 2014 ) | Geeta Satsang | Shri Gyananand Ji Maharaj

Gurgaon, Hariyana( 19 December 2014 ) | Geeta Satsang | Shri Gyananand Ji Maharaj

Gurgaon, Hariyana( 20 December 2014 ) | Geeta Satsang | Shri Gyananand Ji Maharaj

Gurgaon, Hariyana( 21 December 2014 ) | Geeta Satsang | Shri Gyananand Ji Maharaj

Contents of this list:

Gurgaon, Haryana( December 2014 ) | Geeta Satsang | Shri Gyananand Ji Maharaj
Gurgaon, Hariyana( 19 December 2014 ) | Geeta Satsang | Shri Gyananand Ji Maharaj
Gurgaon, Hariyana( 20 December 2014 ) | Geeta Satsang | Shri Gyananand Ji Maharaj
Gurgaon, Hariyana( 21 December 2014 ) | Geeta Satsang | Shri Gyananand Ji Maharaj

Bhajan Lyrics View All

मुझे रास आ गया है,
तेरे दर पे सर झुकाना
रंगीलो राधावल्लभ लाल, जै जै जै श्री
विहरत संग लाडली बाल, जै जै जै श्री
दिल लूटके ले गया नी सहेलियो मेरा
मैं तक्दी रह गयी नी सहेलियो लगदा
नी मैं दूध काहे नाल रिडका चाटी चो
लै गया नन्द किशोर लै गया,
ज़रा छलके ज़रा छलके वृदावन देखो
ज़रा हटके ज़रा हटके ज़माने से देखो
राधे मोरी बंसी कहा खो गयी,
कोई ना बताये और शाम हो गयी,
तू राधे राधे गा ,
तोहे मिल जाएं सांवरियामिल जाएं
मेरा यार यशुदा कुंवर हो चूका है
वो दिल हो चूका है जिगर हो चूका है
प्रभु कर कृपा पावँरी दीन्हि
सादर भारत शीश धरी लीन्ही
श्याम बुलाये राधा नहीं आये,
आजा मेरी प्यारी राधे बागो में झूला
हम प्रेम दीवानी हैं, वो प्रेम दीवाना।
ऐ उधो हमे ज्ञान की पोथी ना सुनाना॥
मुझे चाहिए बस सहारा तुम्हारा,
के नैनों में गोविन्द नज़ारा तुम्हार
कैसे जिऊ मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही ना लागे तुम्हारे बिना
तेरी मुरली की धुन सुनने मैं बरसाने से
मैं बरसाने से आयी हूँ, मैं वृषभानु की
अच्युतम केशवं राम नारायणं,
कृष्ण दमोधराम वासुदेवं हरिं,
यह मेरी अर्जी है,
मैं वैसी बन जाऊं जो तेरी मर्ज़ी है
हम हाथ उठाकर कह देंगे हम हो गये राधा
राधा राधा राधा राधा
मुँह फेर जिधर देखु मुझे तू ही नज़र आये
हम छोड़के दर तेरा अब और किधर जाये
वृंदावन में हुकुम चले बरसाने वाली का,
कान्हा भी दीवाना है श्री श्यामा
एक दिन वो भोले भंडारी बन कर के ब्रिज
पारवती भी मना कर ना माने त्रिपुरारी,
बहुत बड़ा दरबार तेरो बहुत बड़ा दरबार,
चाकर रखलो राधा रानी तेरा बहुत बड़ा
मुझे रास आ गया है, तेरे दर पे सर झुकाना
तुझे मिल गया पुजारी, मुझे मिल गया
सांवरिया है सेठ ,मेरी राधा जी सेठानी
यह तो सारी दुनिया जाने है
जीवन खतम हुआ तो जीने का ढंग आया
जब शमा बुझ गयी तो महफ़िल में रंग आया
जग में सुन्दर है दो नाम, चाहे कृष्ण
बोलो राम राम राम, बोलो श्याम श्याम
तेरे बगैर सांवरिया जिया नही जाये
तुम आके बांह पकड लो तो कोई बात बने‌॥
बांके बिहारी की देख छटा,
मेरो मन है गयो लटा पटा।
तीनो लोकन से न्यारी राधा रानी हमारी।
राधा रानी हमारी, राधा रानी हमारी॥
मन चल वृंदावन धाम, रटेंगे राधे राधे
मिलेंगे कुंज बिहारी, ओढ़ के कांबल
सांवरियो है सेठ, म्हारी राधा जी
यह तो जाने दुनिया सारी है