Share this page on following platforms.

Home Bhajans Ram Bhajans

Pandit Bhimsen Joshi Bhajan

Jo Bhaje Hari Ko Sada So Hi Param Pada Pavega-Bhairavi Bhajan-Pandit Bhimsen Joshi

Chaturbhuj Jhulat - Pt. Bhimsen Joshi - Krishna Bhajan

Chalo Ri Murali - Pt. Bhimsen Joshi - Krishna Bhajan

"Baje Re Muraliya Baje" - Lord Krishna Bhazan

Jai Jai Ram Krishna Hare - Pt. Bhimsen Joshi

Madhukar Shyam - Pt. Bhimsen Joshi Bhajan

Ram Ka Gungaan Kariye - Pt Bhimsen Joshi & Lata Mangeshkar

Kripa Sarovar Kamal Manohar - Pt. Bhimsen Joshi Bhajan

Thumak Thumak

Raghuvar Tumko Meri Laaj - Pt. Bhimsen Joshi Bhajan

Prabhu ke Charanar - Pt. Bhimsen Joshi Bhajan 1/2

Prabhu ke Charanar - Pt. Bhimsen Joshi Bhajan 2/2

Aaj To Anand - Pandit Jasraj - Krishna Bhajan 1/2

Aaj To Anand - Pandit Jasraj - Krishna Bhajan 2/2

Pandit Kumar Gandharva sings Kabir - Sunta Hai Guru Gyani

Contents of this list:

Jo Bhaje Hari Ko Sada So Hi Param Pada Pavega-Bhairavi Bhajan-Pandit Bhimsen Joshi
Chaturbhuj Jhulat - Pt. Bhimsen Joshi - Krishna Bhajan
Chalo Ri Murali - Pt. Bhimsen Joshi - Krishna Bhajan
"Baje Re Muraliya Baje" - Lord Krishna Bhazan
Jai Jai Ram Krishna Hare - Pt. Bhimsen Joshi
Madhukar Shyam - Pt. Bhimsen Joshi Bhajan
Ram Ka Gungaan Kariye - Pt Bhimsen Joshi & Lata Mangeshkar
Kripa Sarovar Kamal Manohar - Pt. Bhimsen Joshi Bhajan
Thumak Thumak
Raghuvar Tumko Meri Laaj - Pt. Bhimsen Joshi Bhajan
Prabhu ke Charanar - Pt. Bhimsen Joshi Bhajan 1/2
Prabhu ke Charanar - Pt. Bhimsen Joshi Bhajan 2/2
Aaj To Anand - Pandit Jasraj - Krishna Bhajan 1/2
Aaj To Anand - Pandit Jasraj - Krishna Bhajan 2/2
Pandit Kumar Gandharva sings Kabir - Sunta Hai Guru Gyani

Bhajan Lyrics View All

अपने दिल का दरवाजा हम खोल के सोते है
सपने में आ जाना मईया,ये बोल के सोते है
ज़रा छलके ज़रा छलके वृदावन देखो
ज़रा हटके ज़रा हटके ज़माने से देखो
नटवर नागर नंदा, भजो रे मन गोविंदा
शयाम सुंदर मुख चंदा, भजो रे मन
कोई पकड़ के मेरा हाथ रे,
मोहे वृन्दावन पहुंच देओ ।
अच्युतम केशवं राम नारायणं,
कृष्ण दमोधराम वासुदेवं हरिं,
श्यामा प्यारी मेरे साथ हैं,
फिर डरने की क्या बात है
बहुत बड़ा दरबार तेरो बहुत बड़ा दरबार,
चाकर रखलो राधा रानी तेरा बहुत बड़ा
कहना कहना आन पड़ी मैं तेरे द्वार ।
मुझे चाकर समझ निहार ॥
राधे राधे बोल, श्याम भागे चले आयंगे।
एक बार आ गए तो कबू नहीं जायेंगे ॥
तेरे दर की भीख से है,
मेरा आज तक गुज़ारा
राधा कट दी है गलिआं दे मोड़ आज मेरे
श्याम ने आना घनश्याम ने आना
Ye Saare Khel Tumhare Hai Jag
Kahta Khel Naseebo Ka
नी मैं दूध काहे नाल रिडका चाटी चो
लै गया नन्द किशोर लै गया,
वृंदावन में हुकुम चले बरसाने वाली का,
कान्हा भी दीवाना है श्री श्यामा
राधिका गोरी से ब्रिज की छोरी से ,
मैया करादे मेरो ब्याह,
कान्हा की दीवानी बन जाउंगी,
दीवानी बन जाउंगी मस्तानी बन जाउंगी,
यह मेरी अर्जी है,
मैं वैसी बन जाऊं जो तेरी मर्ज़ी है
राधे राधे बोल, राधे राधे बोल,
बरसाने मे दोल, के मुख से राधे राधे बोल,
हम प्रेम दीवानी हैं, वो प्रेम दीवाना।
ऐ उधो हमे ज्ञान की पोथी ना सुनाना॥
यशोमती मैया से बोले नंदलाला,
राधा क्यूँ गोरी, मैं क्यूँ काला
मोहे आन मिलो श्याम, बहुत दिन बीत गए।
बहुत दिन बीत गए, बहुत युग बीत गए ॥
ਮੇਰੇ ਕਰਮਾਂ ਵੱਲ ਨਾ ਵੇਖਿਓ ਜੀ,
ਕਰਮਾਂ ਤੋਂ ਸ਼ਾਰਮਾਈ ਹੋਈ ਆਂ
लाडली अद्बुत नज़ारा तेरे बरसाने में
लाडली अब मन हमारा तेरे बरसाने में है।
ये सारे खेल तुम्हारे है
जग कहता खेल नसीबों का
सांवरिया है सेठ ,मेरी राधा जी सेठानी
यह तो सारी दुनिया जाने है
फूलों में सज रहे हैं, श्री वृन्दावन
और संग में सज रही है वृषभानु की
साँवरिया ऐसी तान सुना,
ऐसी तान सुना मेरे मोहन, मैं नाचू तू गा
राधा ढूंढ रही किसी ने मेरा श्याम देखा
श्याम देखा घनश्याम देखा
प्रभु कर कृपा पावँरी दीन्हि
सादर भारत शीश धरी लीन्ही
मुझे चाहिए बस सहारा तुम्हारा,
के नैनों में गोविन्द नज़ारा तुम्हार