Share this page on following platforms.

Home More Bhagwad Gita

Management Paradigms from Bhagavad Gita

Gita Leadership Lessons - Equanimity

Understanding Failed Leadership - Lessons from Bhagavad Gita

Why is the work place causing so much stress?

Spirituality in Business

Notion of Spirituality

Understanding Ancient Indian Wisdom Part 3

Understanding Ancient Indian Wisdom Part 2

Understanding Ancient Indian Wisdom Part 1

Management Paradigms from Bhagavad Gita

Business as a living organization

What should today's business organizations bother about?

What bothers today's working professionals the most?

Contents of this list:

Gita Leadership Lessons - Equanimity
Understanding Failed Leadership - Lessons from Bhagavad Gita
Why is the work place causing so much stress?
Spirituality in Business
Notion of Spirituality
Understanding Ancient Indian Wisdom Part 3
Understanding Ancient Indian Wisdom Part 2
Understanding Ancient Indian Wisdom Part 1
Management Paradigms from Bhagavad Gita
Business as a living organization
What should today's business organizations bother about?
What bothers today's working professionals the most?

Bhajan Lyrics View All

वृदावन जाने को जी चाहता है,
राधे राधे गाने को जी चाहता है,
यह मेरी अर्जी है,
मैं वैसी बन जाऊं जो तेरी मर्ज़ी है
फूलों में सज रहे हैं, श्री वृन्दावन
और संग में सज रही है वृषभानु की
मेरे जीवन की जुड़ गयी डोर, किशोरी तेरे
किशोरी तेरे चरणन में, महारानी तेरे
प्रीतम बोलो कब आओगे॥
बालम बोलो कब आओगे॥
दुनिया से मैं हारा तो आया तेरे द्वार,
यहाँ से गर जो हरा कहाँ जाऊँगा सरकार
तेरे दर पे आके ज़िन्दगी मेरी
यह तो तेरी नज़र का कमाल है,
मेरा यार यशुदा कुंवर हो चूका है
वो दिल हो चूका है जिगर हो चूका है
राधे तु कितनी प्यारी है ॥
तेरे संग में बांके बिहारी कृष्ण
हो मेरी लाडो का नाम श्री राधा
श्री राधा श्री राधा, श्री राधा श्री
मन चल वृंदावन धाम, रटेंगे राधे राधे
मिलेंगे कुंज बिहारी, ओढ़ के कांबल
दुनिया का बन कर देख लिया, श्यामा का बन
राधा नाम में कितनी शक्ति है, इस राह पर
कैसे जीऊं मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही न लगे श्यामा तेरे बिना
कैसे जिऊ मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही ना लागे तुम्हारे बिना
राधे राधे बोल, श्याम भागे चले आयंगे।
एक बार आ गए तो कबू नहीं जायेंगे ॥
नटवर नागर नंदा, भजो रे मन गोविंदा
शयाम सुंदर मुख चंदा, भजो रे मन
साँवरिया ऐसी तान सुना,
ऐसी तान सुना मेरे मोहन, मैं नाचू तू गा
रंगीलो राधावल्लभ लाल, जै जै जै श्री
विहरत संग लाडली बाल, जै जै जै श्री
मेरा आपकी कृपा से,
सब काम हो रहा है
लाली की सुनके मैं आयी
कीरत मैया दे दे बधाई
हम राम जी के, राम जी हमारे हैं
वो तो दशरथ राज दुलारे हैं
नी मैं दूध काहे नाल रिडका चाटी चो
लै गया नन्द किशोर लै गया,
यशोमती मैया से बोले नंदलाला,
राधा क्यूँ गोरी, मैं क्यूँ काला
मोहे आन मिलो श्याम, बहुत दिन बीत गए।
बहुत दिन बीत गए, बहुत युग बीत गए ॥
मुझे चढ़ गया राधा रंग रंग, मुझे चढ़
श्री राधा नाम का रंग रंग, श्री राधा
अपनी वाणी में अमृत घोल
अपनी वाणी में अमृत घोल
तेरे बगैर सांवरिया जिया नही जाये
तुम आके बांह पकड लो तो कोई बात बने‌॥
दिल लूटके ले गया नी सहेलियो मेरा
मैं तक्दी रह गयी नी सहेलियो लगदा
तू राधे राधे गा ,
तोहे मिल जाएं सांवरियामिल जाएं
मेरी करुणामयी सरकार पता नहीं क्या दे
क्या दे दे भई, क्या दे दे