Share this page on following platforms.

Home More Bhagwad Gita

Bhagwad gita sanskrit text and parallel recitation

Bhagavad Gita: Sanskrit recitation with Sanskrit text - Chapter 01

Bhagavad Gita: Sanskrit recitation with Sanskrit text - Chapter 02

Bhagavad Gita: Sanskrit recitation with Sanskrit text - Chapter 03

Bhagavad Gita: Sanskrit recitation with Sanskrit text - Chapter 04

Bhagavad Gita: Sanskrit recitation with Sanskrit text - Chapter 05

Bhagavad Gita: Sanskrit recitation with Sanskrit text - Chapter 06

Bhagavad Gita: Sanskrit recitation with Sanskrit text - Chapter 07

Bhagavad Gita: Sanskrit recitation with Sanskrit text - Chapter 08

Bhagavad Gita: Sanskrit recitation with Sanskrit text - Chapter 09

Bhagavad Gita: Sanskrit recitation with Sanskrit text - Chapter 10

Bhagavad Gita: Sanskrit recitation with Sanskrit text - Chapter 12

Bhagavad Gita: Sanskrit recitation with Sanskrit text - Chapter 13

Bhagavad Gita: Sanskrit recitation with Sanskrit text - Chapter 14

Bhagavad Gita : Sanskrit recitation with Sanskrit text - Chapter 15

Bhagavad Gita: Sanskrit recitation with Sanskrit text - Chapter 16

Bhagavad Gita: Sanskrit recitation with Sanskrit text - Chapter 17

Contents of this list:

Bhagwad gita sanskrit text and paralell recitation. Great for learning Geeta.

Bhajan Lyrics View All

तेरी मुरली की धुन सुनने मैं बरसाने से
मैं बरसाने से आयी हूँ, मैं वृषभानु की
लाडली अद्बुत नज़ारा तेरे बरसाने में
लाडली अब मन हमारा तेरे बरसाने में है।
दिल लूटके ले गया नी सहेलियो मेरा
मैं तक्दी रह गयी नी सहेलियो लगदा
वृन्दावन के बांके बिहारी,
हमसे पर्दा करो ना मुरारी ।
नटवर नागर नंदा, भजो रे मन गोविंदा
शयाम सुंदर मुख चंदा, भजो रे मन
नी मैं दूध काहे नाल रिडका चाटी चो
लै गया नन्द किशोर लै गया,
ਮੇਰੇ ਕਰਮਾਂ ਵੱਲ ਨਾ ਵੇਖਿਓ ਜੀ,
ਕਰਮਾਂ ਤੋਂ ਸ਼ਾਰਮਾਈ ਹੋਈ ਆਂ
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से
गोविन्द नाम लेकर, फिर प्राण तन से
सांवरियो है सेठ, म्हारी राधा जी
यह तो जाने दुनिया सारी है
एक दिन वो भोले भंडारी बन कर के ब्रिज
पारवती भी मना कर ना माने त्रिपुरारी,
हम हाथ उठाकर कह देंगे हम हो गये राधा
राधा राधा राधा राधा
तमन्ना यही है के उड के बरसाने आयुं मैं
आके बरसाने में तेरे दिल की हसरतो को
फूलों में सज रहे हैं, श्री वृन्दावन
और संग में सज रही है वृषभानु की
कोई कहे गोविंदा कोई गोपाला,
मैं तो कहूँ सांवरिया बांसुरी वाला ।
हर साँस में हो सुमिरन तेरा,
यूँ बीत जाये जीवन मेरा
मीठे रस से भरी रे, राधा रानी लागे,
मने कारो कारो जमुनाजी रो पानी लागे
हर पल तेरे साथ मैं रहता हूँ,
डरने की क्या बात? जब मैं बैठा हूँ
वृंदावन में हुकुम चले बरसाने वाली का,
कान्हा भी दीवाना है श्री श्यामा
मेरे जीवन की जुड़ गयी डोर, किशोरी तेरे
किशोरी तेरे चरणन में, महारानी तेरे
जय राधे राधे, राधे राधे
जय राधे राधे, राधे राधे
मुँह फेर जिधर देखु मुझे तू ही नज़र आये
हम छोड़के दर तेरा अब और किधर जाये
श्यामा प्यारी मेरे साथ हैं,
फिर डरने की क्या बात है
मोहे आन मिलो श्याम, बहुत दिन बीत गए।
बहुत दिन बीत गए, बहुत युग बीत गए ॥
सावरे से मिलने का सत्संग ही बहाना है ।
सारे दुःख दूर हुए, दिल बना दीवाना है ।
तेरे दर पे आके ज़िन्दगी मेरी
यह तो तेरी नज़र का कमाल है,
ना मैं मीरा ना मैं राधा,
फिर भी श्याम को पाना है ।
कहना कहना आन पड़ी मैं तेरे द्वार ।
मुझे चाकर समझ निहार ॥
रंगीलो राधावल्लभ लाल, जै जै जै श्री
विहरत संग लाडली बाल, जै जै जै श्री
तुम रूठे रहो मोहन,
हम तुमको मन लेंगे
तीनो लोकन से न्यारी राधा रानी हमारी।
राधा रानी हमारी, राधा रानी हमारी॥