Share this page on following platforms.
Download Bhajan as .txt File Download Bhajan as IMAGE File

मई तो वृंदावन को जाो सखी मेरे नैना लगे बिहारी से,
मेरे नैना लगे बिहारी से, मेरे नैना लगे बिहारी से,

मई तो वृंदावन को जाो सखी मेरे नैना लगे बिहारी से,
मेरे नैना लगे बिहारी से, मेरे नैना लगे बिहारी से,
मई तो वृंदावन को जाो सखी मेरे नैना लगे बिहारी से,

घर मे खओ रूखी सुखी, घर मे खओ रूखी सुखी,
और माखन मिले बिहारी से, मेरे नैना लगे बिहारी से,
मई तो वृंदावन को जाो सखी मेरे नैना लगे बिहारी से,

घर मे पहनु फटे पूरणे, घर मे पहनु फटे पूरणे,
मोहे रेसम मिले बिहारी से, मेरे नैना लगे बिहारी से,
मई तो वृंदावन को जाो सखी मेरे नैना लगे बिहारी से,

घर मे सास ननादिया लदे है, घर मेी सास ननादिया लदे है,
मोहे आनंद मिले बिहारी से, मेरे नैना लगे बिहारी से,
मई तो वृंदावन को जाो सखी मेरे नैना लगे बिहारी से,

घर मे होये नीत किचकिच बाजी, घर मेी होये नीत किचकिच बाजी,
मोहे सत्संग मिले बिहारी से, मेरे नैना लगे बिहारी से,
मई तो वृंदावन को जाो सखी मेरे नैना लगे बिहारी से,

मई तो वृंदावन को जाो सखी मेरे नैना लगे बिहारी से,
मेरे नैना लगे बिहारी से, मेरे नैना लगे बिहारी से,
मेरे नैना लगे बिहारी से, मेरे नैना लगे बिहारी से,



mere naina lage bihari se mai to vridavan ko jo sakhi mere naina lage bihari se



Bhajan Lyrics View All

तेरे बगैर सांवरिया जिया नही जाये
तुम आके बांह पकड लो तो कोई बात बने‌॥
साँवरिया ऐसी तान सुना,
ऐसी तान सुना मेरे मोहन, मैं नाचू तू गा
कान्हा की दीवानी बन जाउंगी,
दीवानी बन जाउंगी मस्तानी बन जाउंगी,
ना मैं मीरा ना मैं राधा,
फिर भी श्याम को पाना है ।
श्याम बुलाये राधा नहीं आये,
आजा मेरी प्यारी राधे बागो में झूला
कैसे जीऊं मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही न लगे श्यामा तेरे बिना
इक तारा वाजदा जी हर दम गोविन्द
जग ताने देंदा ए, तै मैनु कोई फरक नहीं
एक कोर कृपा की करदो स्वामिनी श्री
दासी की झोली भर दो लाडली श्री राधे॥
प्रभु कर कृपा पावँरी दीन्हि
सादर भारत शीश धरी लीन्ही
लाली की सुनके मैं आयी
कीरत मैया दे दे बधाई
बृज के नन्द लाला राधा के सांवरिया
सभी दुख: दूर हुए जब तेरा नाम लिया
मुझे रास आ गया है, तेरे दर पे सर झुकाना
तुझे मिल गया पुजारी, मुझे मिल गया
हो मेरी लाडो का नाम श्री राधा
श्री राधा श्री राधा, श्री राधा श्री
मुझे रास आ गया है,
तेरे दर पे सर झुकाना
सावरे से मिलने का सत्संग ही बहाना है ।
सारे दुःख दूर हुए, दिल बना दीवाना है ।
अपने दिल का दरवाजा हम खोल के सोते है
सपने में आ जाना मईया,ये बोल के सोते है
फूलों में सज रहे हैं, श्री वृन्दावन
और संग में सज रही है वृषभानु की
राधा नाम की लगाई फुलवारी, के पत्ता
के पत्ता पत्ता श्याम बोलता, के पत्ता
वृन्दावन के बांके बिहारी,
हमसे पर्दा करो ना मुरारी ।
तमन्ना यही है के उड के बरसाने आयुं मैं
आके बरसाने में तेरे दिल की हसरतो को
मेरी रसना से राधा राधा नाम निकले,
हर घडी हर पल, हर घडी हर पल।
कोई कहे गोविंदा कोई गोपाला,
मैं तो कहूँ सांवरिया बांसुरी वाला ।
मेरा यार यशुदा कुंवर हो चूका है
वो दिल हो चूका है जिगर हो चूका है
राधे राधे बोल, श्याम भागे चले आयंगे।
एक बार आ गए तो कबू नहीं जायेंगे ॥
एक दिन वो भोले भंडारी बन कर के ब्रिज
पारवती भी मना कर ना माने त्रिपुरारी,
जग में सुन्दर है दो नाम, चाहे कृष्ण
बोलो राम राम राम, बोलो श्याम श्याम
कहना कहना आन पड़ी मैं तेरे द्वार ।
मुझे चाकर समझ निहार ॥
ये तो बतादो बरसानेवाली,मैं कैसे
तेरी कृपा से है यह जीवन है मेरा,कैसे
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से
गोविन्द नाम लेकर, फिर प्राण तन से
कोई कहे गोविंदा, कोई गोपाला।
मैं तो कहुँ सांवरिया बाँसुरिया वाला॥