Download Bhajan as .txt File Download Bhajan as IMAGE File

मई तो वृंदावन को जाो सखी मेरे नैना लगे बिहारी से,
मेरे नैना लगे बिहारी से, मेरे नैना लगे बिहारी से,

मई तो वृंदावन को जाो सखी मेरे नैना लगे बिहारी से,
मेरे नैना लगे बिहारी से, मेरे नैना लगे बिहारी से,
मई तो वृंदावन को जाो सखी मेरे नैना लगे बिहारी से,

घर मे खओ रूखी सुखी, घर मे खओ रूखी सुखी,
और माखन मिले बिहारी से, मेरे नैना लगे बिहारी से,
मई तो वृंदावन को जाो सखी मेरे नैना लगे बिहारी से,

घर मे पहनु फटे पूरणे, घर मे पहनु फटे पूरणे,
मोहे रेसम मिले बिहारी से, मेरे नैना लगे बिहारी से,
मई तो वृंदावन को जाो सखी मेरे नैना लगे बिहारी से,

घर मे सास ननादिया लदे है, घर मेी सास ननादिया लदे है,
मोहे आनंद मिले बिहारी से, मेरे नैना लगे बिहारी से,
मई तो वृंदावन को जाो सखी मेरे नैना लगे बिहारी से,

घर मे होये नीत किचकिच बाजी, घर मेी होये नीत किचकिच बाजी,
मोहे सत्संग मिले बिहारी से, मेरे नैना लगे बिहारी से,
मई तो वृंदावन को जाो सखी मेरे नैना लगे बिहारी से,

मई तो वृंदावन को जाो सखी मेरे नैना लगे बिहारी से,
मेरे नैना लगे बिहारी से, मेरे नैना लगे बिहारी से,
मेरे नैना लगे बिहारी से, मेरे नैना लगे बिहारी से,



mere naina lage bihari se mai to vridavan ko jo sakhi mere naina lage bihari se



Krishna Bhajans App

Bhajan Lyrics View All

हम प्रेम दीवानी हैं, वो प्रेम दीवाना।
ऐ उधो हमे ज्ञान की पोथी ना सुनाना॥
मुझे चढ़ गया राधा रंग रंग, मुझे चढ़
श्री राधा नाम का रंग रंग, श्री राधा
मुझे चाहिए बस सहारा तुम्हारा,
के नैनों में गोविन्द नज़ारा तुम्हार
मुँह फेर जिधर देखु मुझे तू ही नज़र आये
हम छोड़के दर तेरा अब और किधर जाये
वृन्दावन के बांके बिहारी,
हमसे पर्दा करो ना मुरारी ।
एक दिन वो भोले भंडारी बन कर के ब्रिज
पारवती भी मना कर ना माने त्रिपुरारी,
मेरी करुणामयी सरकार, मिला दो ठाकुर से
कृपा करो भानु दुलारी, श्री राधे
ज़रा छलके ज़रा छलके वृदावन देखो
ज़रा हटके ज़रा हटके ज़माने से देखो
बोल कान्हा बोल गलत काम कैसे हो गया,
बिना शादी के तू राधे श्याम कैसे हो
मन चल वृंदावन धाम, रटेंगे राधे राधे
मिलेंगे कुंज बिहारी, ओढ़ के कांबल
हे राम, हे राम, हे राम, हे राम
जग में साचे तेरो नाम । हे राम...
हर पल तेरे साथ मैं रहता हूँ,
डरने की क्या बात? जब मैं बैठा हूँ
अच्युतम केशवं राम नारायणं,
कृष्ण दमोधराम वासुदेवं हरिं,
राधा कट दी है गलिआं दे मोड़ आज मेरे
श्याम ने आना घनश्याम ने आना
तेरे बगैर सांवरिया जिया नही जाये
तुम आके बांह पकड लो तो कोई बात बने‌॥
दिल की हर धड़कन से तेरा नाम निकलता है
तेरे दर्शन को मोहन तेरा दास तरसता है
राधे राधे बोल, श्याम भागे चले आयंगे।
एक बार आ गए तो कबू नहीं जायेंगे ॥
बहुत बड़ा दरबार तेरो बहुत बड़ा दरबार,
चाकर रखलो राधा रानी तेरा बहुत बड़ा
कहना कहना आन पड़ी मैं तेरे द्वार ।
मुझे चाकर समझ निहार ॥
कोई कहे गोविंदा, कोई गोपाला।
मैं तो कहुँ सांवरिया बाँसुरिया वाला॥
कोई पकड़ के मेरा हाथ रे,
मोहे वृन्दावन पहुंच देओ ।
प्रभु कर कृपा पावँरी दीन्हि
सादर भारत शीश धरी लीन्ही
ज़री की पगड़ी बाँधे, सुंदर आँखों वाला,
कितना सुंदर लागे बिहारी कितना लागे
फूलों में सज रहे हैं, श्री वृन्दावन
और संग में सज रही है वृषभानु की
दाता एक राम, भिखारी सारी दुनिया ।
राम एक देवता, पुजारी सारी दुनिया ॥
जिनको जिनको सेठ बनाया वो क्या
उनसे तो प्यार है हमसे तकरार है ।
राधे मोरी बंसी कहा खो गयी,
कोई ना बताये और शाम हो गयी,
कैसे जीऊं मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही न लगे श्यामा तेरे बिना
राधा नाम की लगाई फुलवारी, के पत्ता
के पत्ता पत्ता श्याम बोलता, के पत्ता
ना मैं मीरा ना मैं राधा,
फिर भी श्याम को पाना है ।