Download Bhajan as .txt File Download Bhajan as IMAGE File

अब भज राधे राधे राधे ये ही काम आवैंगी - २
काम आवैंगी की भव से पार लगावैंगी - २

अब भज राधे राधे राधे ये ही काम आवैंगी - २
काम आवैंगी की भव से पार लगावैंगी - २
अब भज राधे राधे राधे ये ही काम आवैंगी

श्यामा गोरी, नित्य-किशोरी, प्रीतम-जोरी, श्री राधे ।
प्राण पियारी, रूप-उजारि, अति-सुकुमारी, श्री राधे ।
जय राधे, जय राधे, ब्रजधाम निवासिनी श्री राधे ।
अब भज राधे राधे राधे ये ही काम आवैंगी - २
काम आवैंगी विपति के जाल नसावैंगी - २
अब भज राधे राधे राधे ये ही काम आवैंगी ।

राधे राधे राधे मुझे श्याम से मिला दे - २
श्याम से मिला दे मुझे कृष्ण से मिला दे - २
मिल जाये श्याम वही रस्ता बता दे - २
अब भज राधे राधे राधे ये ही काम आवैंगी - २
काम आवैंगी की तोहे श्याम मिलावैँगी - २
अब भज राधे राधे राधे ये ही काम आवैंगी ।

रमणी-रम्या, तरु-तर-तम्या, गुण-आगम्या श्री राधे - २
कंचन बेली, रति रस रेली, अति-अलबेली, श्री राधे ।
जय राधे, जय राधे, ब्रजधाम निवासिनी श्री राधे - २
अब भज राधे राधे राधे ये ही काम आवैंगी - २
काम आवैंगी विपति के जाल नसावैंगी - २
अब भज राधे राधे राधे ये ही काम आवैंगी ।

भजन गायक - सौरभ मधुकर



ab bhaj Radhe Radhe Radhe ye hi kaam aawengi with Hindi lyrics by Saurabh Madhukar



Krishna Bhajans App

Bhajan Lyrics View All

साँवरिया ऐसी तान सुना,
ऐसी तान सुना मेरे मोहन, मैं नाचू तू गा
मेरी रसना से राधा राधा नाम निकले,
हर घडी हर पल, हर घडी हर पल।
ज़री की पगड़ी बाँधे, सुंदर आँखों वाला,
कितना सुंदर लागे बिहारी कितना लागे
अच्युतम केशवं राम नारायणं,
कृष्ण दमोधराम वासुदेवं हरिं,
ज़िंदगी मे हज़ारो का मेला जुड़ा
हंस जब जब उड़ा तब अकेला उड़ा
मेरा आपकी कृपा से,
सब काम हो रहा है
जीवन खतम हुआ तो जीने का ढंग आया
जब शमा बुझ गयी तो महफ़िल में रंग आया
दुनिया का बन कर देख लिया, श्यामा का बन
राधा नाम में कितनी शक्ति है, इस राह पर
वृन्दावन के बांके बिहारी,
हमसे पर्दा करो ना मुरारी ।
प्रीतम बोलो कब आओगे॥
बालम बोलो कब आओगे॥
तू राधे राधे गा ,
तोहे मिल जाएं सांवरियामिल जाएं
यह मेरी अर्जी है,
मैं वैसी बन जाऊं जो तेरी मर्ज़ी है
Ye Saare Khel Tumhare Hai Jag
Kahta Khel Naseebo Ka
हम राम जी के, राम जी हमारे हैं
वो तो दशरथ राज दुलारे हैं
कोई कहे गोविंदा, कोई गोपाला।
मैं तो कहुँ सांवरिया बाँसुरिया वाला॥
लाडली अद्बुत नज़ारा तेरे बरसाने में
लाडली अब मन हमारा तेरे बरसाने में है।
तुम रूठे रहो मोहन,
हम तुमको मन लेंगे
नटवर नागर नंदा, भजो रे मन गोविंदा
शयाम सुंदर मुख चंदा, भजो रे मन
एक दिन वो भोले भंडारी बन कर के ब्रिज
पारवती भी मना कर ना माने त्रिपुरारी,
मेरी करुणामयी सरकार, मिला दो ठाकुर से
कृपा करो भानु दुलारी, श्री राधे
मुझे रास आ गया है, तेरे दर पे सर झुकाना
तुझे मिल गया पुजारी, मुझे मिल गया
हम प्रेम दीवानी हैं, वो प्रेम दीवाना।
ऐ उधो हमे ज्ञान की पोथी ना सुनाना॥
मेरी करुणामयी सरकार पता नहीं क्या दे
क्या दे दे भई, क्या दे दे
दिल की हर धड़कन से तेरा नाम निकलता है
तेरे दर्शन को मोहन तेरा दास तरसता है
वृंदावन में हुकुम चले बरसाने वाली का,
कान्हा भी दीवाना है श्री श्यामा
दुनिया से मैं हारा तो आया तेरे द्वार,
यहाँ से गर जो हरा कहाँ जाऊँगा सरकार
फूलों में सज रहे हैं, श्री वृन्दावन
और संग में सज रही है वृषभानु की
ज़रा छलके ज़रा छलके वृदावन देखो
ज़रा हटके ज़रा हटके ज़माने से देखो
राधा ढूंढ रही किसी ने मेरा श्याम देखा
श्याम देखा घनश्याम देखा
वृदावन जाने को जी चाहता है,
राधे राधे गाने को जी चाहता है,