Share this page on following platforms.

Home Gurus Rajendra Das Ji

Rajendra Das Ji Maharaj (Bhakt Maal Katha) Guna, Madhya Pradesh

Rajendra Das Ji Maharaj (Bhakt Maal Katha) Day 1 Part 1

Rajendra Das Ji Maharaj (Bhakt Maal Katha) Day 1 Part 2

Rajendra Das Ji Maharaj (Bhakt Maal Katha) Day 1 Part 3

Rajendra Das Ji Maharaj (Bhakt Maal Katha) Day 2 Part 1

Rajendra Das Ji Maharaj (Bhakt Maal Katha) Day 2 Part 2

Rajendra Das Ji Maharaj (Bhakt Maal Katha) Day 2 Part 3

Rajendra Das Ji Maharaj (Bhakt Maal Katha) Day 2 Part 4

Rajendra Das Ji Maharaj (Bhakt Maal Katha) Day 3 Part 1

Rajendra Das Ji Maharaj (Bhakt Maal Katha) Day 3 Part 2

Rajendra Das Ji Maharaj (Bhakt Maal Katha) Day 3 Part 3

Rajendra Das Ji Maharaj (Bhakt Maal Katha) Day 4 Part 1

Rajendra Das Ji Maharaj (Bhakt Maal Katha) Day 4 Part 2

Rajendra Das Ji Maharaj (Bhakt Maal Katha) Day 4 Part 3

Rajendra Das Ji Maharaj (Bhakt Maal Katha) Day 5 Part 1

Rajendra Das Ji Maharaj (Bhakt Maal Katha) Day 5 Part 2

Rajendra Das Ji Maharaj (Bhakt Maal Katha) Day 5 Part 3

Rajendra Das Ji Maharaj (Bhakt Maal Katha) Day 6 Part 1

Rajendra Das Ji Maharaj (Bhakt Maal Katha) Day 6 Part 2

Rajendra Das Ji Maharaj (Bhakt Maal Katha) Day 6 Part 3

Rajendra Das Ji Maharaj (Bhakt Maal Katha) Day 7 Part 1

Rajendra Das Ji Maharaj (Bhakt Maal Katha) Day 7 Part 2

Rajendra Das Ji Maharaj (Bhakt Maal Katha) Day 7 Part 3

Contents of this list:

Rajendra Das Ji Maharaj (Bhakt Maal Katha) Day 1 Part 1
Rajendra Das Ji Maharaj (Bhakt Maal Katha) Day 1 Part 2
Rajendra Das Ji Maharaj (Bhakt Maal Katha) Day 1 Part 3
Rajendra Das Ji Maharaj (Bhakt Maal Katha) Day 2 Part 1
Rajendra Das Ji Maharaj (Bhakt Maal Katha) Day 2 Part 2
Rajendra Das Ji Maharaj (Bhakt Maal Katha) Day 2 Part 3
Rajendra Das Ji Maharaj (Bhakt Maal Katha) Day 2 Part 4
Rajendra Das Ji Maharaj (Bhakt Maal Katha) Day 3 Part 1
Rajendra Das Ji Maharaj (Bhakt Maal Katha) Day 3 Part 2
Rajendra Das Ji Maharaj (Bhakt Maal Katha) Day 3 Part 3
Rajendra Das Ji Maharaj (Bhakt Maal Katha) Day 4 Part 1
Rajendra Das Ji Maharaj (Bhakt Maal Katha) Day 4 Part 2
Rajendra Das Ji Maharaj (Bhakt Maal Katha) Day 4 Part 3
Rajendra Das Ji Maharaj (Bhakt Maal Katha) Day 5 Part 1
Rajendra Das Ji Maharaj (Bhakt Maal Katha) Day 5 Part 2
Rajendra Das Ji Maharaj (Bhakt Maal Katha) Day 5 Part 3
Rajendra Das Ji Maharaj (Bhakt Maal Katha) Day 6 Part 1
Rajendra Das Ji Maharaj (Bhakt Maal Katha) Day 6 Part 2
Rajendra Das Ji Maharaj (Bhakt Maal Katha) Day 6 Part 3
Rajendra Das Ji Maharaj (Bhakt Maal Katha) Day 7 Part 1
Rajendra Das Ji Maharaj (Bhakt Maal Katha) Day 7 Part 2
Rajendra Das Ji Maharaj (Bhakt Maal Katha) Day 7 Part 3

Bhajan Lyrics View All

राधा नाम की लगाई फुलवारी, के पत्ता
के पत्ता पत्ता श्याम बोलता, के पत्ता
तू राधे राधे गा ,
तोहे मिल जाएं सांवरियामिल जाएं
मुझे चाहिए बस सहारा तुम्हारा,
के नैनों में गोविन्द नज़ारा तुम्हार
वास देदो किशोरी जी बरसाना,
छोडो छोडो जी छोडो जी तरसाना ।
राधिका गोरी से ब्रिज की छोरी से ,
मैया करादे मेरो ब्याह,
दिल की हर धड़कन से तेरा नाम निकलता है
तेरे दर्शन को मोहन तेरा दास तरसता है
तमन्ना यही है के उड के बरसाने आयुं मैं
आके बरसाने में तेरे दिल की हसरतो को
बहुत बड़ा दरबार तेरो बहुत बड़ा दरबार,
चाकर रखलो राधा रानी तेरा बहुत बड़ा
ये सारे खेल तुम्हारे है
जग कहता खेल नसीबों का
आँखों को इंतज़ार है सरकार आपका
ना जाने होगा कब हमें दीदार आपका
वृंदावन में हुकुम चले बरसाने वाली का,
कान्हा भी दीवाना है श्री श्यामा
साँवरिया ऐसी तान सुना,
ऐसी तान सुना मेरे मोहन, मैं नाचू तू गा
मेरी करुणामयी सरकार पता नहीं क्या दे
क्या दे दे भई, क्या दे दे
कहना कहना आन पड़ी मैं तेरे द्वार ।
मुझे चाकर समझ निहार ॥
हर साँस में हो सुमिरन तेरा,
यूँ बीत जाये जीवन मेरा
कोई पकड़ के मेरा हाथ रे,
मोहे वृन्दावन पहुंच देओ ।
तेरे बगैर सांवरिया जिया नही जाये
तुम आके बांह पकड लो तो कोई बात बने‌॥
हम राम जी के, राम जी हमारे हैं
वो तो दशरथ राज दुलारे हैं
अपनी वाणी में अमृत घोल
अपनी वाणी में अमृत घोल
लाडली अद्बुत नज़ारा तेरे बरसाने में
लाडली अब मन हमारा तेरे बरसाने में है।
हम हाथ उठाकर कह देंगे हम हो गये राधा
राधा राधा राधा राधा
मेरी विनती यही है राधा रानी, कृपा
मुझे तेरा ही सहारा महारानी, चरणों से
तुम रूठे रहो मोहन,
हम तुमको मन लेंगे
फूलों में सज रहे हैं, श्री वृन्दावन
और संग में सज रही है वृषभानु की
मुझे रास आ गया है,
तेरे दर पे सर झुकाना
जय राधे राधे, राधे राधे
जय राधे राधे, राधे राधे
तेरे दर की भीख से है,
मेरा आज तक गुज़ारा
ये तो बतादो बरसानेवाली,मैं कैसे
तेरी कृपा से है यह जीवन है मेरा,कैसे
एक कोर कृपा की करदो स्वामिनी श्री
दासी की झोली भर दो लाडली श्री राधे॥
मुँह फेर जिधर देखु मुझे तू ही नज़र आये
हम छोड़के दर तेरा अब और किधर जाये