Share this page on following platforms.

Home Gurus Pundarik ji

Pundrik

Shrimad Bhagwat Katha - Pundrik Goswami Ji || Episode 22 || Jabalpur

Shrimad Bhagwat Katha - Pundrik Goswami Ji || Episode 20 || Jabalpur

Shrimad Bhagwat Katha - Pundrik Goswami Ji || Episode 23 || Jabalpur

Shrimad Bhagwat Katha - Pundrik Goswami Ji || Episode 24 || Jabalpur

Pujya Pundrik Goswami Ji (Day 2) Bhagwat Katha Ludhiana (Punjab)

Pujya Pundrik Goswami Ji (Day 5) Bhagwat Katha Ludhiana (Punjab)

Geeta Pravachan - Shri Pundrik Goswamiji Maharaj - Delhi (Day 3)

Geeta Pravachan - Shri Pundrik Goswamiji Maharaj - Delhi (Day 5)

Geeta Pravachan - Shri Pundrik Goswamiji Maharaj - Delhi (Day 2)

Geeta Pravachan - Shri Pundrik Goswamiji Maharaj - Delhi (Day 1)

Geeta Pravachan - Shri Pundrik Goswamiji Maharaj - Delhi (Day 4)

Contents of this list:

Shrimad Bhagwat Katha - Pundrik Goswami Ji || Episode 22 || Jabalpur
Shrimad Bhagwat Katha - Pundrik Goswami Ji || Episode 20 || Jabalpur
Shrimad Bhagwat Katha - Pundrik Goswami Ji || Episode 23 || Jabalpur
Shrimad Bhagwat Katha - Pundrik Goswami Ji || Episode 24 || Jabalpur
Pujya Pundrik Goswami Ji (Day 2) Bhagwat Katha Ludhiana (Punjab)
Pujya Pundrik Goswami Ji (Day 5) Bhagwat Katha Ludhiana (Punjab)
Geeta Pravachan - Shri Pundrik Goswamiji Maharaj - Delhi (Day 3)
Geeta Pravachan - Shri Pundrik Goswamiji Maharaj - Delhi (Day 5)
Geeta Pravachan - Shri Pundrik Goswamiji Maharaj - Delhi (Day 2)
Geeta Pravachan - Shri Pundrik Goswamiji Maharaj - Delhi (Day 1)
Geeta Pravachan - Shri Pundrik Goswamiji Maharaj - Delhi (Day 4)

Bhajan Lyrics View All

नटवर नागर नंदा, भजो रे मन गोविंदा
शयाम सुंदर मुख चंदा, भजो रे मन
दिल की हर धड़कन से तेरा नाम निकलता है
तेरे दर्शन को मोहन तेरा दास तरसता है
प्रीतम बोलो कब आओगे॥
बालम बोलो कब आओगे॥
कोई कहे गोविंदा कोई गोपाला,
मैं तो कहूँ सांवरिया बांसुरी वाला ।
मेरा यार यशुदा कुंवर हो चूका है
वो दिल हो चूका है जिगर हो चूका है
श्याम बुलाये राधा नहीं आये,
आजा मेरी प्यारी राधे बागो में झूला
राधे मोरी बंसी कहा खो गयी,
कोई ना बताये और शाम हो गयी,
कोई पकड़ के मेरा हाथ रे,
मोहे वृन्दावन पहुंच देओ ।
हम राम जी के, राम जी हमारे हैं
वो तो दशरथ राज दुलारे हैं
ज़िंदगी मे हज़ारो का मेला जुड़ा
हंस जब जब उड़ा तब अकेला उड़ा
दाता एक राम, भिखारी सारी दुनिया ।
राम एक देवता, पुजारी सारी दुनिया ॥
तू कितनी अच्ची है, तू कितनी भोली है,
ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ ।
प्रभु कर कृपा पावँरी दीन्हि
सादर भारत शीश धरी लीन्ही
मीठे रस से भरी रे, राधा रानी लागे,
मने कारो कारो जमुनाजी रो पानी लागे
कहना कहना आन पड़ी मैं तेरे द्वार ।
मुझे चाकर समझ निहार ॥
कैसे जिऊ मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही ना लागे तुम्हारे बिना
सावरे से मिलने का सत्संग ही बहाना है ।
सारे दुःख दूर हुए, दिल बना दीवाना है ।
फूलों में सज रहे हैं, श्री वृन्दावन
और संग में सज रही है वृषभानु की
अच्युतम केशवं राम नारायणं,
कृष्ण दमोधराम वासुदेवं हरिं,
सारी दुनियां है दीवानी, राधा रानी आप
कौन है, जिस पर नहीं है, मेहरबानी आप की
मुँह फेर जिधर देखु मुझे तू ही नज़र आये
हम छोड़के दर तेरा अब और किधर जाये
श्री राधा हमारी गोरी गोरी, के नवल
यो तो कालो नहीं है मतवारो, जगत उज्य
राधा कट दी है गलिआं दे मोड़ आज मेरे
श्याम ने आना घनश्याम ने आना
ना मैं मीरा ना मैं राधा,
फिर भी श्याम को पाना है ।
ਮੇਰੇ ਕਰਮਾਂ ਵੱਲ ਨਾ ਵੇਖਿਓ ਜੀ,
ਕਰਮਾਂ ਤੋਂ ਸ਼ਾਰਮਾਈ ਹੋਈ ਆਂ
दिल लूटके ले गया नी सहेलियो मेरा
मैं तक्दी रह गयी नी सहेलियो लगदा
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से
गोविन्द नाम लेकर, फिर प्राण तन से
वास देदो किशोरी जी बरसाना,
छोडो छोडो जी छोडो जी तरसाना ।
यशोमती मैया से बोले नंदलाला,
राधा क्यूँ गोरी, मैं क्यूँ काला
तेरे दर की भीख से है,
मेरा आज तक गुज़ारा