Share this page on following platforms.

Home Gurus Sukhbodhananda

Manase Relax Please

Inner Awakening

Inner Awakening

Swami Sukhabodhananda's Discourse on Bravery Part 1

e4m AdAsia 2011: Full Video: Global Ethos : Managing Unpredictability in Life & Business Part 4

e4m AdAsia 2011: Full Video: Global Ethos : Managing Unpredictability in Life & Business Part 5

e4m AdAsia 2011: Full Video: Global Ethos : Managing Unpredictability in Life & Business Part 4

e4m AdAsia 2011: Full Video: Global Ethos : Managing Unpredictability in Life & Business Part 3

e4m AdAsia 2011: Full Video: Global Ethos : Managing Unpredictability in Life & Business Part 2

e4m AdAsia 2011: Full Video: Global Ethos : Managing Unpredictability in Life & Business Part 1

e4m AdAsia 2011: Full Video: Global Ethos : Managing Unpredictability in Life & Business Part 3

e4m AdAsia 2011: Full Video: Global Ethos : Managing Unpredictability in Life & Business Part 2

e4m AdAsia 2011: Full Video: Global Ethos : Managing Unpredictability in Life & Business Part 1

Let TRUST rule over DOUBTS : Swami Sukhabodhananda @ AdAsia 2011

Contents of this list:

Deleted video
Deleted video
Deleted video
Deleted video
Deleted video
Deleted video
Deleted video
Deleted video
Deleted video
Inner Awakening
Inner Awakening
Swami Sukhabodhananda's Discourse on Bravery Part 1
e4m AdAsia 2011: Full Video: Global Ethos : Managing Unpredictability in Life & Business Part 4
e4m AdAsia 2011: Full Video: Global Ethos : Managing Unpredictability in Life & Business Part 5
e4m AdAsia 2011: Full Video: Global Ethos : Managing Unpredictability in Life & Business Part 4
e4m AdAsia 2011: Full Video: Global Ethos : Managing Unpredictability in Life & Business Part 3
e4m AdAsia 2011: Full Video: Global Ethos : Managing Unpredictability in Life & Business Part 2
e4m AdAsia 2011: Full Video: Global Ethos : Managing Unpredictability in Life & Business Part 1
e4m AdAsia 2011: Full Video: Global Ethos : Managing Unpredictability in Life & Business Part 3
e4m AdAsia 2011: Full Video: Global Ethos : Managing Unpredictability in Life & Business Part 2
e4m AdAsia 2011: Full Video: Global Ethos : Managing Unpredictability in Life & Business Part 1
Let TRUST rule over DOUBTS : Swami Sukhabodhananda @ AdAsia 2011

Bhajan Lyrics View All

प्रीतम बोलो कब आओगे॥
बालम बोलो कब आओगे॥
सब के संकट दूर करेगी, यह बरसाने वाली,
बजाओ राधा नाम की ताली ।
ना मैं मीरा ना मैं राधा,
फिर भी श्याम को पाना है ।
नटवर नागर नंदा, भजो रे मन गोविंदा
शयाम सुंदर मुख चंदा, भजो रे मन
हम राम जी के, राम जी हमारे हैं
वो तो दशरथ राज दुलारे हैं
मोहे आन मिलो श्याम, बहुत दिन बीत गए।
बहुत दिन बीत गए, बहुत युग बीत गए ॥
मेरी करुणामयी सरकार, मिला दो ठाकुर से
कृपा करो भानु दुलारी, श्री राधे
हम प्रेम नगर के बंजारिन है
जप ताप और साधन क्या जाने
तीनो लोकन से न्यारी राधा रानी हमारी।
राधा रानी हमारी, राधा रानी हमारी॥
फूलों में सज रहे हैं, श्री वृन्दावन
और संग में सज रही है वृषभानु की
राधे तु कितनी प्यारी है ॥
तेरे संग में बांके बिहारी कृष्ण
इक तारा वाजदा जी हर दम गोविन्द
जग ताने देंदा ए, तै मैनु कोई फरक नहीं
ज़री की पगड़ी बाँधे, सुंदर आँखों वाला,
कितना सुंदर लागे बिहारी कितना लागे
मेरी करुणामयी सरकार पता नहीं क्या दे
क्या दे दे भई, क्या दे दे
करदो करदो बेडा पार, राधे अलबेली सरकार।
राधे अलबेली सरकार, राधे अलबेली
हो मेरी लाडो का नाम श्री राधा
श्री राधा श्री राधा, श्री राधा श्री
तेरे दर पे आके ज़िन्दगी मेरी
यह तो तेरी नज़र का कमाल है,
वृंदावन में हुकुम चले बरसाने वाली का,
कान्हा भी दीवाना है श्री श्यामा
अच्युतम केशवं राम नारायणं,
कृष्ण दमोधराम वासुदेवं हरिं,
रंगीलो राधावल्लभ लाल, जै जै जै श्री
विहरत संग लाडली बाल, जै जै जै श्री
वृदावन जाने को जी चाहता है,
राधे राधे गाने को जी चाहता है,
किशोरी कुछ ऐसा इंतजाम हो जाए।
जुबा पे राधा राधा राधा नाम हो जाए॥
वृन्दावन के बांके बिहारी,
हमसे पर्दा करो ना मुरारी ।
कोई कहे गोविंदा, कोई गोपाला।
मैं तो कहुँ सांवरिया बाँसुरिया वाला॥
मुझे चाहिए बस सहारा तुम्हारा,
के नैनों में गोविन्द नज़ारा तुम्हार
बोल कान्हा बोल गलत काम कैसे हो गया,
बिना शादी के तू राधे श्याम कैसे हो
ਮੇਰੇ ਕਰਮਾਂ ਵੱਲ ਨਾ ਵੇਖਿਓ ਜੀ,
ਕਰਮਾਂ ਤੋਂ ਸ਼ਾਰਮਾਈ ਹੋਈ ਆਂ
तेरी मुरली की धुन सुनने मैं बरसाने से
मैं बरसाने से आयी हूँ, मैं वृषभानु की
मुझे चढ़ गया राधा रंग रंग, मुझे चढ़
श्री राधा नाम का रंग रंग, श्री राधा
मीठे रस से भरी रे, राधा रानी लागे,
मने कारो कारो जमुनाजी रो पानी लागे