Share this page on following platforms.

Home Gurus Shridharacharyaji

Guru Purnima Sandesh 2015

Guru Purnima Sandesh 2015 by Swami Avdheshanand Giri Ji Maharaj

Guru Purnima Sandesh 2015 by Sri Sri Ravi Shankar Ji

Guru Purnima Sandesh 2015 by Shri Sanjeev Krishna Thakur Ji

Guru Purnima Sandesh 2015 by Param Pujya Bhaishri Rameshbhai Oza

Guru Purnima Sandesh 2015 by Shri Krishna Chandra Shastriji (Shri Thakurji)

Guru Purnima Sandesh 2015 by Swami Shri Govind Dev Giri ji Maharaj

Guru Purnima Sandesh 2015 by Swami Shridharacharyaji Maharaj

Guru Purnima Sandesh 2015 by Swami Krishnanand ji Maharaj

Contents of this list:

Guru Purnima Sandesh 2015 by Swami Avdheshanand Giri Ji Maharaj
Guru Purnima Sandesh 2015 by Sri Sri Ravi Shankar Ji
Guru Purnima Sandesh 2015 by Shri Sanjeev Krishna Thakur Ji
Guru Purnima Sandesh 2015 by Param Pujya Bhaishri Rameshbhai Oza
Guru Purnima Sandesh 2015 by Shri Krishna Chandra Shastriji (Shri Thakurji)
Guru Purnima Sandesh 2015 by Swami Shri Govind Dev Giri ji Maharaj
Guru Purnima Sandesh 2015 by Swami Shridharacharyaji Maharaj
Guru Purnima Sandesh 2015 by Swami Krishnanand ji Maharaj

Bhajan Lyrics View All

तुम रूठे रहो मोहन,
हम तुमको मन लेंगे
सावरे से मिलने का सत्संग ही बहाना है ।
सारे दुःख दूर हुए, दिल बना दीवाना है ।
श्याम बुलाये राधा नहीं आये,
आजा मेरी प्यारी राधे बागो में झूला
श्यामा तेरे चरणों की गर धूल जो मिल
सच कहता हूँ मेरी तकदीर बदल जाए॥
बृज के नन्द लाला राधा के सांवरिया
सभी दुख: दूर हुए जब तेरा नाम लिया
मेरी रसना से राधा राधा नाम निकले,
हर घडी हर पल, हर घडी हर पल।
श्री राधा हमारी गोरी गोरी, के नवल
यो तो कालो नहीं है मतवारो, जगत उज्य
मन चल वृंदावन धाम, रटेंगे राधे राधे
मिलेंगे कुंज बिहारी, ओढ़ के कांबल
राधा कट दी है गलिआं दे मोड़ आज मेरे
श्याम ने आना घनश्याम ने आना
हम हाथ उठाकर कह देंगे हम हो गये राधा
राधा राधा राधा राधा
कहना कहना आन पड़ी मैं तेरे द्वार ।
मुझे चाकर समझ निहार ॥
सारी दुनियां है दीवानी, राधा रानी आप
कौन है, जिस पर नहीं है, मेहरबानी आप की
यह मेरी अर्जी है,
मैं वैसी बन जाऊं जो तेरी मर्ज़ी है
करदो करदो बेडा पार, राधे अलबेली सरकार।
राधे अलबेली सरकार, राधे अलबेली
सांवरिया है सेठ ,मेरी राधा जी सेठानी
यह तो सारी दुनिया जाने है
हम प्रेम दीवानी हैं, वो प्रेम दीवाना।
ऐ उधो हमे ज्ञान की पोथी ना सुनाना॥
वास देदो किशोरी जी बरसाना,
छोडो छोडो जी छोडो जी तरसाना ।
ज़री की पगड़ी बाँधे, सुंदर आँखों वाला,
कितना सुंदर लागे बिहारी कितना लागे
लाली की सुनके मैं आयी
कीरत मैया दे दे बधाई
तेरी मुरली की धुन सुनने मैं बरसाने से
मैं बरसाने से आयी हूँ, मैं वृषभानु की
दुनिया का बन कर देख लिया, श्यामा का बन
राधा नाम में कितनी शक्ति है, इस राह पर
राधे राधे बोल, राधे राधे बोल,
बरसाने मे दोल, के मुख से राधे राधे बोल,
कोई कहे गोविंदा कोई गोपाला,
मैं तो कहूँ सांवरिया बांसुरी वाला ।
राधा ढूंढ रही किसी ने मेरा श्याम देखा
श्याम देखा घनश्याम देखा
दिल लूटके ले गया नी सहेलियो मेरा
मैं तक्दी रह गयी नी सहेलियो लगदा
तेरे दर की भीख से है,
मेरा आज तक गुज़ारा
हर पल तेरे साथ मैं रहता हूँ,
डरने की क्या बात? जब मैं बैठा हूँ
राधिका गोरी से ब्रिज की छोरी से ,
मैया करादे मेरो ब्याह,
जग में सुन्दर है दो नाम, चाहे कृष्ण
बोलो राम राम राम, बोलो श्याम श्याम
दाता एक राम, भिखारी सारी दुनिया ।
राम एक देवता, पुजारी सारी दुनिया ॥