Share this page on following platforms.

Home Gurus Ravinandan shastri ji

Rakesh

ik sham sewa kunj wari ke naam frst cd part-3

no din navratri me mai

shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 44

shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 44

Amazing Dance by Desi Lady on Saat Samundar Paar

Amazing Dance by Desi Lady on Saat Samundar Paar

Contents of this list:

ik sham sewa kunj wari ke naam frst cd part-3
no din navratri me mai
shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 44
shri ravinandan shastri ji bhagwat katha part 44
Amazing Dance by Desi Lady on Saat Samundar Paar
Amazing Dance by Desi Lady on Saat Samundar Paar

Bhajan Lyrics View All

तुम रूठे रहो मोहन,
हम तुमको मन लेंगे
कोई कहे गोविंदा, कोई गोपाला।
मैं तो कहुँ सांवरिया बाँसुरिया वाला॥
सांवरियो है सेठ, म्हारी राधा जी
यह तो जाने दुनिया सारी है
सावरे से मिलने का सत्संग ही बहाना है ।
सारे दुःख दूर हुए, दिल बना दीवाना है ।
मेरा आपकी कृपा से,
सब काम हो रहा है
मीठे रस से भरी रे, राधा रानी लागे,
मने कारो कारो जमुनाजी रो पानी लागे
एक कोर कृपा की करदो स्वामिनी श्री
दासी की झोली भर दो लाडली श्री राधे॥
आँखों को इंतज़ार है सरकार आपका
ना जाने होगा कब हमें दीदार आपका
राधे तु कितनी प्यारी है ॥
तेरे संग में बांके बिहारी कृष्ण
सारी दुनियां है दीवानी, राधा रानी आप
कौन है, जिस पर नहीं है, मेहरबानी आप की
लाली की सुनके मैं आयी
कीरत मैया दे दे बधाई
जीवन खतम हुआ तो जीने का ढंग आया
जब शमा बुझ गयी तो महफ़िल में रंग आया
बोल कान्हा बोल गलत काम कैसे हो गया,
बिना शादी के तू राधे श्याम कैसे हो
ਮੇਰੇ ਕਰਮਾਂ ਵੱਲ ਨਾ ਵੇਖਿਓ ਜੀ,
ਕਰਮਾਂ ਤੋਂ ਸ਼ਾਰਮਾਈ ਹੋਈ ਆਂ
सब के संकट दूर करेगी, यह बरसाने वाली,
बजाओ राधा नाम की ताली ।
दिल लूटके ले गया नी सहेलियो मेरा
मैं तक्दी रह गयी नी सहेलियो लगदा
अपने दिल का दरवाजा हम खोल के सोते है
सपने में आ जाना मईया,ये बोल के सोते है
यह मेरी अर्जी है,
मैं वैसी बन जाऊं जो तेरी मर्ज़ी है
मुझे रास आ गया है, तेरे दर पे सर झुकाना
तुझे मिल गया पुजारी, मुझे मिल गया
ये तो बतादो बरसानेवाली,मैं कैसे
तेरी कृपा से है यह जीवन है मेरा,कैसे
प्रीतम बोलो कब आओगे॥
बालम बोलो कब आओगे॥
हर साँस में हो सुमिरन तेरा,
यूँ बीत जाये जीवन मेरा
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से
गोविन्द नाम लेकर, फिर प्राण तन से
वृदावन जाने को जी चाहता है,
राधे राधे गाने को जी चाहता है,
मुँह फेर जिधर देखु मुझे तू ही नज़र आये
हम छोड़के दर तेरा अब और किधर जाये
तेरे बगैर सांवरिया जिया नही जाये
तुम आके बांह पकड लो तो कोई बात बने‌॥
तीनो लोकन से न्यारी राधा रानी हमारी।
राधा रानी हमारी, राधा रानी हमारी॥
तमन्ना यही है के उड के बरसाने आयुं मैं
आके बरसाने में तेरे दिल की हसरतो को
दाता एक राम, भिखारी सारी दुनिया ।
राम एक देवता, पुजारी सारी दुनिया ॥
तू कितनी अच्ची है, तू कितनी भोली है,
ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ ।