Share this page on following platforms.

Home Gurus Radhakrishnaji

Radhakrishnaji maharaj

Vitthal Maza Maza - Very Pleasant Bhajan By Shri Radhakrishna ji Maharaj

Thamb Jara Tu Vari Vitthala - Bhajan

Sanvariyo Hai Seth Maro - Bhajan

Aajo Sanwariya - Bhajan

Hari Tuzya Murali ne Sare Re (Marathi Bhajan) by RadhaKrishnaji Maharaj Jodhpurwale

Mere Sir Pe Rak De - Bhajan

Manat Bharli Pandhari - Bhajan

Mere Sir pe Hath Rakh Do - Bhajan

Contents of this list:

Vitthal Maza Maza - Very Pleasant Bhajan By Shri Radhakrishna ji Maharaj
Thamb Jara Tu Vari Vitthala - Bhajan
Sanvariyo Hai Seth Maro - Bhajan
Aajo Sanwariya - Bhajan
Hari Tuzya Murali ne Sare Re (Marathi Bhajan) by RadhaKrishnaji Maharaj Jodhpurwale
Mere Sir Pe Rak De - Bhajan
Manat Bharli Pandhari - Bhajan
Mere Sir pe Hath Rakh Do - Bhajan

Bhajan Lyrics View All

ज़री की पगड़ी बाँधे, सुंदर आँखों वाला,
कितना सुंदर लागे बिहारी कितना लागे
कोई कहे गोविंदा कोई गोपाला,
मैं तो कहूँ सांवरिया बांसुरी वाला ।
तीनो लोकन से न्यारी राधा रानी हमारी।
राधा रानी हमारी, राधा रानी हमारी॥
एक कोर कृपा की करदो स्वामिनी श्री
दासी की झोली भर दो लाडली श्री राधे॥
Ye Saare Khel Tumhare Hai Jag
Kahta Khel Naseebo Ka
तेरे दर पे आके ज़िन्दगी मेरी
यह तो तेरी नज़र का कमाल है,
तेरे दर की भीख से है,
मेरा आज तक गुज़ारा
फूलों में सज रहे हैं, श्री वृन्दावन
और संग में सज रही है वृषभानु की
ना मैं मीरा ना मैं राधा,
फिर भी श्याम को पाना है ।
वृदावन जाने को जी चाहता है,
राधे राधे गाने को जी चाहता है,
मुँह फेर जिधर देखु मुझे तू ही नज़र आये
हम छोड़के दर तेरा अब और किधर जाये
हम हाथ उठाकर कह देंगे हम हो गये राधा
राधा राधा राधा राधा
मोहे आन मिलो श्याम, बहुत दिन बीत गए।
बहुत दिन बीत गए, बहुत युग बीत गए ॥
साँवरिया ऐसी तान सुना,
ऐसी तान सुना मेरे मोहन, मैं नाचू तू गा
हे राम, हे राम, हे राम, हे राम
जग में साचे तेरो नाम । हे राम...
लाली की सुनके मैं आयी
कीरत मैया दे दे बधाई
राधा ढूंढ रही किसी ने मेरा श्याम देखा
श्याम देखा घनश्याम देखा
सब के संकट दूर करेगी, यह बरसाने वाली,
बजाओ राधा नाम की ताली ।
हम प्रेम नगर के बंजारिन है
जप ताप और साधन क्या जाने
श्यामा प्यारी मेरे साथ हैं,
फिर डरने की क्या बात है
जीवन खतम हुआ तो जीने का ढंग आया
जब शमा बुझ गयी तो महफ़िल में रंग आया
राधे राधे बोल, राधे राधे बोल,
बरसाने मे दोल, के मुख से राधे राधे बोल,
मुझे रास आ गया है, तेरे दर पे सर झुकाना
तुझे मिल गया पुजारी, मुझे मिल गया
राधे तु कितनी प्यारी है ॥
तेरे संग में बांके बिहारी कृष्ण
आँखों को इंतज़ार है सरकार आपका
ना जाने होगा कब हमें दीदार आपका
बोल कान्हा बोल गलत काम कैसे हो गया,
बिना शादी के तू राधे श्याम कैसे हो
मुझे चाहिए बस सहारा तुम्हारा,
के नैनों में गोविन्द नज़ारा तुम्हार
नी मैं दूध काहे नाल रिडका चाटी चो
लै गया नन्द किशोर लै गया,
कोई पकड़ के मेरा हाथ रे,
मोहे वृन्दावन पहुंच देओ ।
कहना कहना आन पड़ी मैं तेरे द्वार ।
मुझे चाकर समझ निहार ॥