Share this page on following platforms.

Home Singers Chitra Vichitraji

Bhajans

Rishiji - Tu Is Tarah Se Meri Zindagi Mein Shamil Hain

Banke Titli Main Udati Fira "Top Khatushyam Bhajan" Chitra Vichitra Ji Maharaj #Bhaktibhajan

Meri Vinti Yahi Hai Radha Rani || Chitra Vichitra || Beautiful Radha Rani Bhajan #Bhaktibhajan

Parde Mein Baithe Baithe.... Popular Krishan Bhajan || Chitra Vichitra Ji Maharaj

kali kamli wala mera yaar hai 02

Breath of Relaxation - Guided Meditation for Beginners

Contents of this list:

Rishiji - Tu Is Tarah Se Meri Zindagi Mein Shamil Hain
Banke Titli Main Udati Fira "Top Khatushyam Bhajan" Chitra Vichitra Ji Maharaj #Bhaktibhajan
Meri Vinti Yahi Hai Radha Rani || Chitra Vichitra || Beautiful Radha Rani Bhajan #Bhaktibhajan
Parde Mein Baithe Baithe.... Popular Krishan Bhajan || Chitra Vichitra Ji Maharaj
kali kamli wala mera yaar hai 02
Breath of Relaxation - Guided Meditation for Beginners

Bhajan Lyrics View All

नी मैं दूध काहे नाल रिडका चाटी चो
लै गया नन्द किशोर लै गया,
श्री राधा हमारी गोरी गोरी, के नवल
यो तो कालो नहीं है मतवारो, जगत उज्य
एक दिन वो भोले भंडारी बन कर के ब्रिज
पारवती भी मना कर ना माने त्रिपुरारी,
कोई पकड़ के मेरा हाथ रे,
मोहे वृन्दावन पहुंच देओ ।
दिल की हर धड़कन से तेरा नाम निकलता है
तेरे दर्शन को मोहन तेरा दास तरसता है
यशोमती मैया से बोले नंदलाला,
राधा क्यूँ गोरी, मैं क्यूँ काला
सावरे से मिलने का सत्संग ही बहाना है ।
सारे दुःख दूर हुए, दिल बना दीवाना है ।
एक कोर कृपा की करदो स्वामिनी श्री
दासी की झोली भर दो लाडली श्री राधे॥
तेरे दर पे आके ज़िन्दगी मेरी
यह तो तेरी नज़र का कमाल है,
वृंदावन में हुकुम चले बरसाने वाली का,
कान्हा भी दीवाना है श्री श्यामा
राधा नाम की लगाई फुलवारी, के पत्ता
के पत्ता पत्ता श्याम बोलता, के पत्ता
प्रीतम बोलो कब आओगे॥
बालम बोलो कब आओगे॥
सब के संकट दूर करेगी, यह बरसाने वाली,
बजाओ राधा नाम की ताली ।
कहना कहना आन पड़ी मैं तेरे द्वार ।
मुझे चाकर समझ निहार ॥
मेरा आपकी कृपा से,
सब काम हो रहा है
दुनिया से मैं हारा तो आया तेरे द्वार,
यहाँ से गर जो हरा कहाँ जाऊँगा सरकार
बहुत बड़ा दरबार तेरो बहुत बड़ा दरबार,
चाकर रखलो राधा रानी तेरा बहुत बड़ा
हम प्रेम नगर के बंजारिन है
जप ताप और साधन क्या जाने
राधे राधे बोल, श्याम भागे चले आयंगे।
एक बार आ गए तो कबू नहीं जायेंगे ॥
बांके बिहारी की देख छटा,
मेरो मन है गयो लटा पटा।
मेरी विनती यही है राधा रानी, कृपा
मुझे तेरा ही सहारा महारानी, चरणों से
हो मेरी लाडो का नाम श्री राधा
श्री राधा श्री राधा, श्री राधा श्री
कैसे जिऊ मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही ना लागे तुम्हारे बिना
मन चल वृंदावन धाम, रटेंगे राधे राधे
मिलेंगे कुंज बिहारी, ओढ़ के कांबल
वास देदो किशोरी जी बरसाना,
छोडो छोडो जी छोडो जी तरसाना ।
तेरे दर की भीख से है,
मेरा आज तक गुज़ारा
ना मैं मीरा ना मैं राधा,
फिर भी श्याम को पाना है ।
प्रभु कर कृपा पावँरी दीन्हि
सादर भारत शीश धरी लीन्ही
इक तारा वाजदा जी हर दम गोविन्द
जग ताने देंदा ए, तै मैनु कोई फरक नहीं
मीठे रस से भरी रे, राधा रानी लागे,
मने कारो कारो जमुनाजी रो पानी लागे