Share this page on following platforms.
Download Bhajan as .txt File Download Bhajan as IMAGE File

राधे प्रगट भाई बरसाने मंगल बजत बधाई है,
मंगल बजत बधाई है  मंगल बजत बधाई है ॥

राधे प्रगट भाई बरसाने मंगल बजत बधाई है,
मंगल बजत बधाई है  मंगल बजत बधाई है ॥
बजत बधाई है श्री राधे बजत बधाई है ॥

गोपी गोप सखी सब आई॥
सुनके कीरत लाली जाई ॥
रानी कीरत गोद खिलावे,मृद मुस्काई है।
राधे प्रगट भाई बरसाने मंगल बजत बधाई है,

भानु भवन की शोभा नयारी ॥
भूषण वसन बटात भारी ॥
श्री वृषभान सुता अति सूंदर ,वेद कहाई है
राधे प्रगट भाई बरसाने मंगल बजत बधाई है,

गोपी ग्वाल सब नाचे गावे॥
ब्रज वासी सब मंगल गावे ॥
ऐसी लाली और नहीं देखी ,करत बढ़ाई है
राधे प्रगट भाई बरसाने मंगल बजत बधाई है,

चिर जीवो वृषभानु दुलारी ॥
श्री बरसानो वास सुखहारी॥
राधे जू की मधुर बधाई माधव गयी है
राधे प्रगट भाई बरसाने मंगल बजत बधाई है,



radha prakat bhayi barsane mangal bajat bdhai mangal bajat badai mangal bajat badai



Bhajan Lyrics View All

ना मैं मीरा ना मैं राधा,
फिर भी श्याम को पाना है ।
हम प्रेम नगर के बंजारिन है
जप ताप और साधन क्या जाने
वृंदावन में हुकुम चले बरसाने वाली का,
कान्हा भी दीवाना है श्री श्यामा
जग में सुन्दर है दो नाम, चाहे कृष्ण
बोलो राम राम राम, बोलो श्याम श्याम
वृदावन जाने को जी चाहता है,
राधे राधे गाने को जी चाहता है,
तेरी मुरली की धुन सुनने मैं बरसाने से
मैं बरसाने से आयी हूँ, मैं वृषभानु की
दाता एक राम, भिखारी सारी दुनिया ।
राम एक देवता, पुजारी सारी दुनिया ॥
श्याम बुलाये राधा नहीं आये,
आजा मेरी प्यारी राधे बागो में झूला
अच्युतम केशवं राम नारायणं,
कृष्ण दमोधराम वासुदेवं हरिं,
मेरी विनती यही है राधा रानी, कृपा
मुझे तेरा ही सहारा महारानी, चरणों से
हो मेरी लाडो का नाम श्री राधा
श्री राधा श्री राधा, श्री राधा श्री
मुँह फेर जिधर देखु मुझे तू ही नज़र आये
हम छोड़के दर तेरा अब और किधर जाये
Ye Saare Khel Tumhare Hai Jag
Kahta Khel Naseebo Ka
यशोमती मैया से बोले नंदलाला,
राधा क्यूँ गोरी, मैं क्यूँ काला
दुनिया का बन कर देख लिया, श्यामा का बन
राधा नाम में कितनी शक्ति है, इस राह पर
हम प्रेम दीवानी हैं, वो प्रेम दीवाना।
ऐ उधो हमे ज्ञान की पोथी ना सुनाना॥
सांवरियो है सेठ, म्हारी राधा जी
यह तो जाने दुनिया सारी है
राधे तु कितनी प्यारी है ॥
तेरे संग में बांके बिहारी कृष्ण
कोई कहे गोविंदा, कोई गोपाला।
मैं तो कहुँ सांवरिया बाँसुरिया वाला॥
मेरा आपकी कृपा से,
सब काम हो रहा है
जय राधे राधे, राधे राधे
जय राधे राधे, राधे राधे
सब के संकट दूर करेगी, यह बरसाने वाली,
बजाओ राधा नाम की ताली ।
कान्हा की दीवानी बन जाउंगी,
दीवानी बन जाउंगी मस्तानी बन जाउंगी,
मोहे आन मिलो श्याम, बहुत दिन बीत गए।
बहुत दिन बीत गए, बहुत युग बीत गए ॥
तेरे बगैर सांवरिया जिया नही जाये
तुम आके बांह पकड लो तो कोई बात बने‌॥
इक तारा वाजदा जी हर दम गोविन्द
जग ताने देंदा ए, तै मैनु कोई फरक नहीं
राधा नाम की लगाई फुलवारी, के पत्ता
के पत्ता पत्ता श्याम बोलता, के पत्ता
कहना कहना आन पड़ी मैं तेरे द्वार ।
मुझे चाकर समझ निहार ॥
बोल कान्हा बोल गलत काम कैसे हो गया,
बिना शादी के तू राधे श्याम कैसे हो
बांके बिहारी की देख छटा,
मेरो मन है गयो लटा पटा।