Share this page on following platforms.
Download Bhajan as .txt File Download Bhajan as IMAGE File

मेरे नटवर नन्द किशोर, प्यारे आ जाओ माखन चोर
प्यारे आ जाओ, प्यारे आ जाओ

मेरे नटवर नन्द किशोर, प्यारे आ जाओ माखन चोर
प्यारे आ जाओ, प्यारे आ जाओ

मेरे मोहन चले आओ, तेरी राधा बुलाती है
तेरे बिन मेरा जी ना लगे, तेरी याद सताती है

प्रभु प्रेम के अक्षर ढाई  पड़े, पड़ना फिर आगे को वेद है क्या
हसना कभी अश्रु विमोचन है, उर कंप शरीर में सेद है क्या
जब प्रेम परस्पर है हममे, चलो आओ मिले अब खेद है क्या
तुम हो हम में, हम हैं तुम में, तुम में हम में फिर भेद है क्या

तेरा दर्शन पाने को मेरे नैना तरसते हैं
तेरी याद में यह श्यामा, दिन रात बरसते हैं
यह विरह की अग्न्नी, मुझ रह रह जलती हैं

भूलने वाले से कोई कहदे जरा,
यूँ किसी को सताने से क्या फ़ायदा
जब मेरे दिल की दुनिया बसाते नहीं,
हर घडी याद आने से क्या फायदा

चार तिनके जलाने से क्या फ़ायदा,
मिट सका ना मेरा वजूद
मुझ पे बिजली गिराते तो कुछ बात थी,
आशिआना जलाने से क्या फ़ायदा
देखते देखते तुम बदलते गए,
आते आते बड़ा इन्कलाब आ गया
सहते सहते सितम से मैं घबरा गया,
जान ले लो रुलाने से क्या फ़ायदा
तुने अंजामे उल्फत को देखा नहीं,
कोई होशिआरी भी काम आ ना सकी
आँख लडती गयी, राज़ खुलते गए,
हाल-ए-दिल को छुपाने से क्या फ़ायदा

चरणों की दासी हूँ, चरणों में ही रहना है
जल्दी से चले आओ, श्याम तुमसे ही कहना है
कहीं दम ना निकल जाए, मेरी नींद उड़ जाती है

द्वापर तो बीत गया, कलयुग भी जा रहा है
अपनों को कोई ऐसे भला क्यूँ तड़पाता है



mere natvar nand kishor pyare aa jao makhan chor



Bhajan Lyrics View All

मेरी करुणामयी सरकार पता नहीं क्या दे
क्या दे दे भई, क्या दे दे
ये तो बतादो बरसानेवाली,मैं कैसे
तेरी कृपा से है यह जीवन है मेरा,कैसे
श्यामा प्यारी मेरे साथ हैं,
फिर डरने की क्या बात है
बांके बिहारी की देख छटा,
मेरो मन है गयो लटा पटा।
मेरी करुणामयी सरकार, मिला दो ठाकुर से
कृपा करो भानु दुलारी, श्री राधे
राधा नाम की लगाई फुलवारी, के पत्ता
के पत्ता पत्ता श्याम बोलता, के पत्ता
ज़रा छलके ज़रा छलके वृदावन देखो
ज़रा हटके ज़रा हटके ज़माने से देखो
मीठे रस से भरी रे, राधा रानी लागे,
मने कारो कारो जमुनाजी रो पानी लागे
राधे मोरी बंसी कहा खो गयी,
कोई ना बताये और शाम हो गयी,
ज़िंदगी मे हज़ारो का मेला जुड़ा
हंस जब जब उड़ा तब अकेला उड़ा
वृन्दावन के बांके बिहारी,
हमसे पर्दा करो ना मुरारी ।
श्यामा तेरे चरणों की गर धूल जो मिल
सच कहता हूँ मेरी तकदीर बदल जाए॥
दिल लूटके ले गया नी सहेलियो मेरा
मैं तक्दी रह गयी नी सहेलियो लगदा
मुझे रास आ गया है,
तेरे दर पे सर झुकाना
कहना कहना आन पड़ी मैं तेरे द्वार ।
मुझे चाकर समझ निहार ॥
नटवर नागर नंदा, भजो रे मन गोविंदा
शयाम सुंदर मुख चंदा, भजो रे मन
राधे तु कितनी प्यारी है ॥
तेरे संग में बांके बिहारी कृष्ण
राधे राधे बोल, राधे राधे बोल,
बरसाने मे दोल, के मुख से राधे राधे बोल,
जग में सुन्दर है दो नाम, चाहे कृष्ण
बोलो राम राम राम, बोलो श्याम श्याम
वास देदो किशोरी जी बरसाना,
छोडो छोडो जी छोडो जी तरसाना ।
सब के संकट दूर करेगी, यह बरसाने वाली,
बजाओ राधा नाम की ताली ।
राधिका गोरी से ब्रिज की छोरी से ,
मैया करादे मेरो ब्याह,
कोई कहे गोविंदा कोई गोपाला,
मैं तो कहूँ सांवरिया बांसुरी वाला ।
मुझे रास आ गया है, तेरे दर पे सर झुकाना
तुझे मिल गया पुजारी, मुझे मिल गया
राधा कट दी है गलिआं दे मोड़ आज मेरे
श्याम ने आना घनश्याम ने आना
आँखों को इंतज़ार है सरकार आपका
ना जाने होगा कब हमें दीदार आपका
दाता एक राम, भिखारी सारी दुनिया ।
राम एक देवता, पुजारी सारी दुनिया ॥
वृदावन जाने को जी चाहता है,
राधे राधे गाने को जी चाहता है,
इक तारा वाजदा जी हर दम गोविन्द
जग ताने देंदा ए, तै मैनु कोई फरक नहीं
राधा ढूंढ रही किसी ने मेरा श्याम देखा
श्याम देखा घनश्याम देखा