Share this page on following platforms.
Download Bhajan as .txt File Download Bhajan as IMAGE File

गजानन म्हारे घर आओ, विनायक म्हारे घर आओ,
संग ल्याओ शुभ और लाभ गजानन रिद्ध-सिद्ध न ल्याओ.. गजानन म्हा

गजानन म्हारे घर आओ, विनायक म्हारे घर आओ,
संग ल्याओ शुभ और लाभ गजानन रिद्ध-सिद्ध न ल्याओ.. गजानन म्हारे घर आओ...
थे आओ प्रभु आओ गजानन ब्रह्मा जी न ल्याओ, विनायक ब्रह्मा जी न ल्याओ,
वेदाँ क संग गायत्री माँ, वेदाँ क संग गायत्री माँ,  सरस्वती न ल्याओ ! गजानन म्हारे घर आओ..
थे आओ प्रभु आओ गजानन, विष्णु जी न ल्याओ, विनायक  विष्णु जी न ल्याओ,
कहियो चक्र सुदर्शन संग म लक्ष्मी जी न ल्याओ...गजानन म्हारे घर आओ
थे आओ प्रभु आओ गजानन शिव जी न ल्याओ, विनायक शिव जी न ल्याओ,
डमरू और त्रिशूल क सागे, गौरां न ल्याओ...गजानन म्हारे घर आओ...
थे आओ प्रभु आओ गजानन राम जी न संग ल्याओ, विनायक राम जी न संग ल्याओ,
कहियो सेवक हनुमत संग म, सीता जी न ल्याओ...गजानन म्हारे घर आओ...
थे आओ प्रभु आओ गजानन, श्याम जी संग ल्याओ, विनायक श्याम जी न संग ल्याओ,
कहियो मुरली क संग राधा-रुक्मण न ल्याओ...गजानन म्हारे घर आओ...
खीर, चूरमो, लाडू, माखन, गुड़, मोदक जीमो, गजानन गुड़, मोदक जीमो,
छाछ, दही, अमरस का प्याला भर-भर क पीवो...गजानन म्हारे घर आओ...
रिद्धि-सिद्धि, शुभ-लाभ संग प्रभु म्हारे घर आज्यो, गजानन म्हारे घर आज्यो...



gajanan mhare ghar aavo



Bhajan Lyrics View All

प्रभु कर कृपा पावँरी दीन्हि
सादर भारत शीश धरी लीन्ही
मन चल वृंदावन धाम, रटेंगे राधे राधे
मिलेंगे कुंज बिहारी, ओढ़ के कांबल
वृदावन जाने को जी चाहता है,
राधे राधे गाने को जी चाहता है,
तेरी मुरली की धुन सुनने मैं बरसाने से
मैं बरसाने से आयी हूँ, मैं वृषभानु की
एक दिन वो भोले भंडारी बन कर के ब्रिज
पारवती भी मना कर ना माने त्रिपुरारी,
रंगीलो राधावल्लभ लाल, जै जै जै श्री
विहरत संग लाडली बाल, जै जै जै श्री
मेरी करुणामयी सरकार, मिला दो ठाकुर से
कृपा करो भानु दुलारी, श्री राधे
बांके बिहारी की देख छटा,
मेरो मन है गयो लटा पटा।
हम प्रेम नगर के बंजारिन है
जप ताप और साधन क्या जाने
सांवरिया है सेठ ,मेरी राधा जी सेठानी
यह तो सारी दुनिया जाने है
दिल की हर धड़कन से तेरा नाम निकलता है
तेरे दर्शन को मोहन तेरा दास तरसता है
अच्युतम केशवं राम नारायणं,
कृष्ण दमोधराम वासुदेवं हरिं,
करदो करदो बेडा पार, राधे अलबेली सरकार।
राधे अलबेली सरकार, राधे अलबेली
ना मैं मीरा ना मैं राधा,
फिर भी श्याम को पाना है ।
दाता एक राम, भिखारी सारी दुनिया ।
राम एक देवता, पुजारी सारी दुनिया ॥
किशोरी कुछ ऐसा इंतजाम हो जाए।
जुबा पे राधा राधा राधा नाम हो जाए॥
कैसे जीऊं मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही न लगे श्यामा तेरे बिना
मीठे रस से भरी रे, राधा रानी लागे,
मने कारो कारो जमुनाजी रो पानी लागे
हे राम, हे राम, हे राम, हे राम
जग में साचे तेरो नाम । हे राम...
दुनिया का बन कर देख लिया, श्यामा का बन
राधा नाम में कितनी शक्ति है, इस राह पर
कोई कहे गोविंदा कोई गोपाला,
मैं तो कहूँ सांवरिया बांसुरी वाला ।
मेरा आपकी कृपा से,
सब काम हो रहा है
श्यामा प्यारी मेरे साथ हैं,
फिर डरने की क्या बात है
मेरी विनती यही है राधा रानी, कृपा
मुझे तेरा ही सहारा महारानी, चरणों से
अपने दिल का दरवाजा हम खोल के सोते है
सपने में आ जाना मईया,ये बोल के सोते है
राधे राधे बोल, श्याम भागे चले आयंगे।
एक बार आ गए तो कबू नहीं जायेंगे ॥
मुँह फेर जिधर देखु मुझे तू ही नज़र आये
हम छोड़के दर तेरा अब और किधर जाये
श्री राधा हमारी गोरी गोरी, के नवल
यो तो कालो नहीं है मतवारो, जगत उज्य
वृंदावन में हुकुम चले बरसाने वाली का,
कान्हा भी दीवाना है श्री श्यामा
मेरी रसना से राधा राधा नाम निकले,
हर घडी हर पल, हर घडी हर पल।