Share this page on following platforms.

Home Katha Gopi Geet Katha

bhagvat katha

Mangala Aarti(ranchodji Mandir,DAKOR)

BHUPENDRABHAI PANDYA (Geeta Ch-16 Verse-19)

Pujyashree Bhupendrabhai Pandya - Definition of TRUTH

BHUPENDRABHAI PANDYA (GOAL SETTING Part-2)

BHUPENDRABHAI PANDYA (GOAL SETTING Part-1)

BHUPENDRABHAI PANDYA (Geeta Ch-16 Verse-)

BHUPENDRABHAI PANDYA (ShreeRam Katha-Vapi Part-1)

BHUPENDRABHAI PANDYA (Shreemad Bhagavat-Dakor)

BHUPENDRABHAI PANDYA 1

BHUPENDRABHAI PANDYA 3

Private video

Pujyashree Bhupendrabhai Pandya - Definition of TRUTH

BHUPENDRABHAI PANDYA 2

BHUPENDRABHAI PANDYA (ShreeRam Katha-Vapi Part-2)

Gopi geet by Pujyashree Bhupendrabhai Pandya

Contents of this list:

Mangala Aarti(ranchodji Mandir,DAKOR)
BHUPENDRABHAI PANDYA (Geeta Ch-16 Verse-19)
Pujyashree Bhupendrabhai Pandya - Definition of TRUTH
BHUPENDRABHAI PANDYA (GOAL SETTING Part-2)
BHUPENDRABHAI PANDYA (GOAL SETTING Part-1)
BHUPENDRABHAI PANDYA (Geeta Ch-16 Verse-)
BHUPENDRABHAI PANDYA (ShreeRam Katha-Vapi Part-1)
BHUPENDRABHAI PANDYA (Shreemad Bhagavat-Dakor)
BHUPENDRABHAI PANDYA 1
BHUPENDRABHAI PANDYA 3
Private video
Pujyashree Bhupendrabhai Pandya - Definition of TRUTH
BHUPENDRABHAI PANDYA 2
BHUPENDRABHAI PANDYA (ShreeRam Katha-Vapi Part-2)
Gopi geet by Pujyashree Bhupendrabhai Pandya

Bhajan Lyrics View All

हो मेरी लाडो का नाम श्री राधा
श्री राधा श्री राधा, श्री राधा श्री
दुनिया से मैं हारा तो आया तेरे द्वार,
यहाँ से गर जो हरा कहाँ जाऊँगा सरकार
मीठे रस से भरी रे, राधा रानी लागे,
मने कारो कारो जमुनाजी रो पानी लागे
हम राम जी के, राम जी हमारे हैं
वो तो दशरथ राज दुलारे हैं
मन चल वृंदावन धाम, रटेंगे राधे राधे
मिलेंगे कुंज बिहारी, ओढ़ के कांबल
कोई कहे गोविंदा, कोई गोपाला।
मैं तो कहुँ सांवरिया बाँसुरिया वाला॥
मुझे चढ़ गया राधा रंग रंग, मुझे चढ़
श्री राधा नाम का रंग रंग, श्री राधा
साँवरिया ऐसी तान सुना,
ऐसी तान सुना मेरे मोहन, मैं नाचू तू गा
ज़री की पगड़ी बाँधे, सुंदर आँखों वाला,
कितना सुंदर लागे बिहारी कितना लागे
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से
गोविन्द नाम लेकर, फिर प्राण तन से
मेरी करुणामयी सरकार, मिला दो ठाकुर से
कृपा करो भानु दुलारी, श्री राधे
ज़रा छलके ज़रा छलके वृदावन देखो
ज़रा हटके ज़रा हटके ज़माने से देखो
कैसे जीऊं मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही न लगे श्यामा तेरे बिना
वास देदो किशोरी जी बरसाना,
छोडो छोडो जी छोडो जी तरसाना ।
राधे तु कितनी प्यारी है ॥
तेरे संग में बांके बिहारी कृष्ण
लाडली अद्बुत नज़ारा तेरे बरसाने में
लाडली अब मन हमारा तेरे बरसाने में है।
आँखों को इंतज़ार है सरकार आपका
ना जाने होगा कब हमें दीदार आपका
ना मैं मीरा ना मैं राधा,
फिर भी श्याम को पाना है ।
यशोमती मैया से बोले नंदलाला,
राधा क्यूँ गोरी, मैं क्यूँ काला
सब के संकट दूर करेगी, यह बरसाने वाली,
बजाओ राधा नाम की ताली ।
सावरे से मिलने का सत्संग ही बहाना है ।
सारे दुःख दूर हुए, दिल बना दीवाना है ।
मेरी विनती यही है राधा रानी, कृपा
मुझे तेरा ही सहारा महारानी, चरणों से
दिल लूटके ले गया नी सहेलियो मेरा
मैं तक्दी रह गयी नी सहेलियो लगदा
दाता एक राम, भिखारी सारी दुनिया ।
राम एक देवता, पुजारी सारी दुनिया ॥
मुझे रास आ गया है, तेरे दर पे सर झुकाना
तुझे मिल गया पुजारी, मुझे मिल गया
दिल की हर धड़कन से तेरा नाम निकलता है
तेरे दर्शन को मोहन तेरा दास तरसता है
किशोरी कुछ ऐसा इंतजाम हो जाए।
जुबा पे राधा राधा राधा नाम हो जाए॥
श्याम बुलाये राधा नहीं आये,
आजा मेरी प्यारी राधे बागो में झूला
राधा कट दी है गलिआं दे मोड़ आज मेरे
श्याम ने आना घनश्याम ने आना
इक तारा वाजदा जी हर दम गोविन्द
जग ताने देंदा ए, तै मैनु कोई फरक नहीं