Share this page on following platforms.

Home Gurus Shri Shri Ravishankar ji

Sri Sri Ravi Shankar

Beginnings: The story of Art of Living

& Respect - Sri Sri Ravi Shankar

Private video

Sri Sri Ravi Shankar To RKB Show : I HINDI FILMS

Sri Sri Ravi Shankar

Sahaj Samadhi Meditation - Sri Sri Ravi Shankar

150,000 People Meditate in Argentina with Sri Sri

Sri Sri Ravi Shankar Ji visited Kannur in 2006

One World, One Week: Sri Sri Ravi Shankar at Warwick Universtity - UK

What is ? Extract of a talk by Sri Sri Ravi Shankar

Sri Sri Ravi Shankar - body, mind and spirit in a health balance

H H Sri Sri Ravi Shankar Ji visiting Kannur Central Prisons - 2006

Sri Sri Ravi Shankar - A Voice for Peace and Human Values

Sri Sri Ravi Shankar in Lisboa, 20-6-2012

Private video

Shri Shri Ravi Shankar Talks Jan 210 Part 1 Only On SHRADDHA MH ONE

The Increasing Role of Spiriuality by Sri Sri Ravi Shankar - Haarlem, The Netherlands

Patanjali Yoga Sutras : The Purpose of Yoga Practices - Sri Sri Ravi Shankar

What is Desire? Extract of a talk by Sri Sri Ravi Shankar

Who is Driving? We or the mind? Extract of a talk by Sri Sri Ravi Shankar

Sri Sri Ravi Shankar - A Voice for Peace and Human Values

Why do we need a Guru? Extract of talk by H.H. Sri Sri Ravi Shankar

Meditation with Sri Sri Ravi Shankar - Kannada Language

Contents of this list:

Beginnings: The story of Art of Living
& Respect - Sri Sri Ravi Shankar
Private video
Sri Sri Ravi Shankar To RKB Show : I HINDI FILMS
Sri Sri Ravi Shankar
Sahaj Samadhi Meditation - Sri Sri Ravi Shankar
150,000 People Meditate in Argentina with Sri Sri
Sri Sri Ravi Shankar Ji visited Kannur in 2006
One World, One Week: Sri Sri Ravi Shankar at Warwick Universtity - UK
What is ? Extract of a talk by Sri Sri Ravi Shankar
Sri Sri Ravi Shankar - body, mind and spirit in a health balance
H H Sri Sri Ravi Shankar Ji visiting Kannur Central Prisons - 2006
Sri Sri Ravi Shankar - A Voice for Peace and Human Values
Sri Sri Ravi Shankar in Lisboa, 20-6-2012
Private video
Shri Shri Ravi Shankar Talks Jan 210 Part 1 Only On SHRADDHA MH ONE
The Increasing Role of Spiriuality by Sri Sri Ravi Shankar - Haarlem, The Netherlands
Patanjali Yoga Sutras : The Purpose of Yoga Practices - Sri Sri Ravi Shankar
What is Desire? Extract of a talk by Sri Sri Ravi Shankar
Who is Driving? We or the mind? Extract of a talk by Sri Sri Ravi Shankar
Sri Sri Ravi Shankar - A Voice for Peace and Human Values
Why do we need a Guru? Extract of talk by H.H. Sri Sri Ravi Shankar
Meditation with Sri Sri Ravi Shankar - Kannada Language

Bhajan Lyrics View All

यह मेरी अर्जी है,
मैं वैसी बन जाऊं जो तेरी मर्ज़ी है
तू राधे राधे गा ,
तोहे मिल जाएं सांवरियामिल जाएं
वृदावन जाने को जी चाहता है,
राधे राधे गाने को जी चाहता है,
दाता एक राम, भिखारी सारी दुनिया ।
राम एक देवता, पुजारी सारी दुनिया ॥
दुनिया से मैं हारा तो आया तेरे द्वार,
यहाँ से गर जो हरा कहाँ जाऊँगा सरकार
ज़रा छलके ज़रा छलके वृदावन देखो
ज़रा हटके ज़रा हटके ज़माने से देखो
दिल की हर धड़कन से तेरा नाम निकलता है
तेरे दर्शन को मोहन तेरा दास तरसता है
मेरी विनती यही है राधा रानी, कृपा
मुझे तेरा ही सहारा महारानी, चरणों से
कोई कहे गोविंदा, कोई गोपाला।
मैं तो कहुँ सांवरिया बाँसुरिया वाला॥
साँवरिया ऐसी तान सुना,
ऐसी तान सुना मेरे मोहन, मैं नाचू तू गा
हम हाथ उठाकर कह देंगे हम हो गये राधा
राधा राधा राधा राधा
कोई कहे गोविंदा कोई गोपाला,
मैं तो कहूँ सांवरिया बांसुरी वाला ।
तू कितनी अच्ची है, तू कितनी भोली है,
ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ ।
मेरा आपकी कृपा से,
सब काम हो रहा है
श्यामा प्यारी मेरे साथ हैं,
फिर डरने की क्या बात है
सांवरिया है सेठ ,मेरी राधा जी सेठानी
यह तो सारी दुनिया जाने है
हे राम, हे राम, हे राम, हे राम
जग में साचे तेरो नाम । हे राम...
जीवन खतम हुआ तो जीने का ढंग आया
जब शमा बुझ गयी तो महफ़िल में रंग आया
बोल कान्हा बोल गलत काम कैसे हो गया,
बिना शादी के तू राधे श्याम कैसे हो
ज़िंदगी मे हज़ारो का मेला जुड़ा
हंस जब जब उड़ा तब अकेला उड़ा
बृज के नन्द लाला राधा के सांवरिया
सभी दुख: दूर हुए जब तेरा नाम लिया
प्रभु कर कृपा पावँरी दीन्हि
सादर भारत शीश धरी लीन्ही
मुझे चाहिए बस सहारा तुम्हारा,
के नैनों में गोविन्द नज़ारा तुम्हार
तेरी मंद मंद मुस्कनिया पे ,बलिहार
तेरी मंद मंद मुस्कनिया पे ,बलिहार
कोई पकड़ के मेरा हाथ रे,
मोहे वृन्दावन पहुंच देओ ।
अच्युतम केशवं राम नारायणं,
कृष्ण दमोधराम वासुदेवं हरिं,
वास देदो किशोरी जी बरसाना,
छोडो छोडो जी छोडो जी तरसाना ।
जग में सुन्दर है दो नाम, चाहे कृष्ण
बोलो राम राम राम, बोलो श्याम श्याम
बांके बिहारी की देख छटा,
मेरो मन है गयो लटा पटा।
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से
गोविन्द नाम लेकर, फिर प्राण तन से