Share this page on following platforms.

Home Gurus Gyananand Ji

Bhajan

Ashriri Siddha Bhagwan - Pt Abhaykumar Ji

Prabhuji ab na bhatkenge | Pt Abhaykumar Ji

Rom Rom me Nemikunwar ke | Pt Abhaykumar Ji

Tu Jaag re chetan prani | Pt Abhaykumar JI

Shuddhatma ka Shraddhan hoga | Pt Abhaykumar Ji

Aao re Aao re Gyananand | Pt Abhaykumar Ji

Antar me anand aayo | Pt Abhaykumar Ji

Nirkho ang ang Jinver ke | Pt Abhaykumar Ji

Aao Jinmandir me Aao | Pt Abhaykumar Ji

Rom Rom se Nikle - Pt Abhaykumar ji

Shri Arihant sada Mangalmay - Pt Abhaykumarji

Namokar Mantra - Bhakti Sarovar

Mere kab hai va din ki sudhri - Pt Daulatramji

Aaj me Param padarath paayo - Pt Daulatramji

Sakal Gyey Gyayak tadapi | Dev Stuti - Pt Daulatramji

Aapa nahi jaana tune - Pt Daulatramji

Aatam roop anupam adbhut - Pt Daulatramji

Nirkhat Jin - Pt Daulatramji

Dekho ji Aadishwar Swami - Pt Daulatramji

Apni Sudhi Bhool - Pt Daulatramji

Hum to kabhu na - Pt Daulatramji

Contents of this list:

Ashriri Siddha Bhagwan - Pt Abhaykumar Ji
Prabhuji ab na bhatkenge | Pt Abhaykumar Ji
Rom Rom me Nemikunwar ke | Pt Abhaykumar Ji
Tu Jaag re chetan prani | Pt Abhaykumar JI
Shuddhatma ka Shraddhan hoga | Pt Abhaykumar Ji
Aao re Aao re Gyananand | Pt Abhaykumar Ji
Antar me anand aayo | Pt Abhaykumar Ji
Nirkho ang ang Jinver ke | Pt Abhaykumar Ji
Aao Jinmandir me Aao | Pt Abhaykumar Ji
Rom Rom se Nikle - Pt Abhaykumar ji
Shri Arihant sada Mangalmay - Pt Abhaykumarji
Namokar Mantra - Bhakti Sarovar
Mere kab hai va din ki sudhri - Pt Daulatramji
Aaj me Param padarath paayo - Pt Daulatramji
Sakal Gyey Gyayak tadapi | Dev Stuti - Pt Daulatramji
Aapa nahi jaana tune - Pt Daulatramji
Aatam roop anupam adbhut - Pt Daulatramji
Nirkhat Jin - Pt Daulatramji
Dekho ji Aadishwar Swami - Pt Daulatramji
Apni Sudhi Bhool - Pt Daulatramji
Hum to kabhu na - Pt Daulatramji

Bhajan Lyrics View All

हम हाथ उठाकर कह देंगे हम हो गये राधा
राधा राधा राधा राधा
कैसे जिऊ मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही ना लागे तुम्हारे बिना
कोई पकड़ के मेरा हाथ रे,
मोहे वृन्दावन पहुंच देओ ।
राधे राधे बोल, राधे राधे बोल,
बरसाने मे दोल, के मुख से राधे राधे बोल,
वृदावन जाने को जी चाहता है,
राधे राधे गाने को जी चाहता है,
दाता एक राम, भिखारी सारी दुनिया ।
राम एक देवता, पुजारी सारी दुनिया ॥
दुनिया का बन कर देख लिया, श्यामा का बन
राधा नाम में कितनी शक्ति है, इस राह पर
तीनो लोकन से न्यारी राधा रानी हमारी।
राधा रानी हमारी, राधा रानी हमारी॥
लाली की सुनके मैं आयी
कीरत मैया दे दे बधाई
हम प्रेम दीवानी हैं, वो प्रेम दीवाना।
ऐ उधो हमे ज्ञान की पोथी ना सुनाना॥
कान्हा की दीवानी बन जाउंगी,
दीवानी बन जाउंगी मस्तानी बन जाउंगी,
एक दिन वो भोले भंडारी बन कर के ब्रिज
पारवती भी मना कर ना माने त्रिपुरारी,
यशोमती मैया से बोले नंदलाला,
राधा क्यूँ गोरी, मैं क्यूँ काला
सांवरिया है सेठ ,मेरी राधा जी सेठानी
यह तो सारी दुनिया जाने है
मेरा यार यशुदा कुंवर हो चूका है
वो दिल हो चूका है जिगर हो चूका है
आँखों को इंतज़ार है सरकार आपका
ना जाने होगा कब हमें दीदार आपका
प्रभु कर कृपा पावँरी दीन्हि
सादर भारत शीश धरी लीन्ही
मुँह फेर जिधर देखु मुझे तू ही नज़र आये
हम छोड़के दर तेरा अब और किधर जाये
तेरे दर की भीख से है,
मेरा आज तक गुज़ारा
लाडली अद्बुत नज़ारा तेरे बरसाने में
लाडली अब मन हमारा तेरे बरसाने में है।
सब के संकट दूर करेगी, यह बरसाने वाली,
बजाओ राधा नाम की ताली ।
श्यामा प्यारी मेरे साथ हैं,
फिर डरने की क्या बात है
जग में सुन्दर है दो नाम, चाहे कृष्ण
बोलो राम राम राम, बोलो श्याम श्याम
कहना कहना आन पड़ी मैं तेरे द्वार ।
मुझे चाकर समझ निहार ॥
तू राधे राधे गा ,
तोहे मिल जाएं सांवरियामिल जाएं
बहुत बड़ा दरबार तेरो बहुत बड़ा दरबार,
चाकर रखलो राधा रानी तेरा बहुत बड़ा
ये तो बतादो बरसानेवाली,मैं कैसे
तेरी कृपा से है यह जीवन है मेरा,कैसे
सांवरियो है सेठ, म्हारी राधा जी
यह तो जाने दुनिया सारी है
अच्युतम केशवं राम नारायणं,
कृष्ण दमोधराम वासुदेवं हरिं,
तू कितनी अच्ची है, तू कितनी भोली है,
ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ ।