Share this page on following platforms.

Home More Bhagwad Gita

Secrets of Bhagavad Gita - Brahma Kumaris - BK Usha bhen

Secrets of Bhagavad Gita

Bhagavad Gita - Chapter 1 - Visada Yoga

Bhagavad Gita - Chapter 2 - Nature of soul

Bhagavad Gita - Chapter 3 - Karma Yoga

Bhagavad Gita - Chapter 4 - Jyan yoga

Bhagavad Gita - Chapter 5 - Karma Vairagya Yoga

Bhagavad Gita - Chapter 6 - Abhyasa Yoga

Bhagavad Gita - Chapter 7 - Paramahamsa Vijnana Yoga

Bhagavad Gita - chapter 8 - Aksara-Parabrahman Yoga

Bhagavad Gita - Chapter 9 - Raja-Vidya-Guhya Yoga

Bhagavad Gita - Chapter 10 - Vibhuti-Vistara-Yoga

Bhagavad Gita - Chapter 11 - Visvarupa-Darsana Yoga

Bhagavad Gita - Chapter 12 - Bhakti Yoga

Bhagavad Gita - Chapter 13 - Ksetra-Ksetrajna Vibhaga Yoga

Bhagavad Gita - Chapter 14 - Gunatraya-Vibhaga Yoga

Bhagavad Gita - Chapter 15 - Purusottama Yoga

Bhagavad Gita - Chapter 16 - Daivasura-Sampad-Vibhaga Yoga

Bhagavad Gita - Chapter 17 - Sraddhatraya-Vibhaga Yoga

Bhagavad Gita - Chapter - Moksa-Opadesa Yoga

Contents of this list:

Secrets of Bhagavad Gita
Bhagavad Gita - Chapter 1 - Visada Yoga
Bhagavad Gita - Chapter 2 - Nature of soul
Bhagavad Gita - Chapter 3 - Karma Yoga
Bhagavad Gita - Chapter 4 - Jyan yoga
Bhagavad Gita - Chapter 5 - Karma Vairagya Yoga
Bhagavad Gita - Chapter 6 - Abhyasa Yoga
Bhagavad Gita - Chapter 7 - Paramahamsa Vijnana Yoga
Bhagavad Gita - chapter 8 - Aksara-Parabrahman Yoga
Bhagavad Gita - Chapter 9 - Raja-Vidya-Guhya Yoga
Bhagavad Gita - Chapter 10 - Vibhuti-Vistara-Yoga
Bhagavad Gita - Chapter 11 - Visvarupa-Darsana Yoga
Bhagavad Gita - Chapter 12 - Bhakti Yoga
Bhagavad Gita - Chapter 13 - Ksetra-Ksetrajna Vibhaga Yoga
Bhagavad Gita - Chapter 14 - Gunatraya-Vibhaga Yoga
Bhagavad Gita - Chapter 15 - Purusottama Yoga
Bhagavad Gita - Chapter 16 - Daivasura-Sampad-Vibhaga Yoga
Bhagavad Gita - Chapter 17 - Sraddhatraya-Vibhaga Yoga
Bhagavad Gita - Chapter - Moksa-Opadesa Yoga

Bhajan Lyrics View All

बहुत बड़ा दरबार तेरो बहुत बड़ा दरबार,
चाकर रखलो राधा रानी तेरा बहुत बड़ा
हर पल तेरे साथ मैं रहता हूँ,
डरने की क्या बात? जब मैं बैठा हूँ
तेरे बगैर सांवरिया जिया नही जाये
तुम आके बांह पकड लो तो कोई बात बने‌॥
हम प्रेम नगर के बंजारिन है
जप ताप और साधन क्या जाने
ये तो बतादो बरसानेवाली,मैं कैसे
तेरी कृपा से है यह जीवन है मेरा,कैसे
मेरा आपकी कृपा से,
सब काम हो रहा है
मेरी रसना से राधा राधा नाम निकले,
हर घडी हर पल, हर घडी हर पल।
वृदावन जाने को जी चाहता है,
राधे राधे गाने को जी चाहता है,
कैसे जीऊं मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही न लगे श्यामा तेरे बिना
बोल कान्हा बोल गलत काम कैसे हो गया,
बिना शादी के तू राधे श्याम कैसे हो
तमन्ना यही है के उड के बरसाने आयुं मैं
आके बरसाने में तेरे दिल की हसरतो को
कैसे जिऊ मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही ना लागे तुम्हारे बिना
इक तारा वाजदा जी हर दम गोविन्द
जग ताने देंदा ए, तै मैनु कोई फरक नहीं
राधे तु कितनी प्यारी है ॥
तेरे संग में बांके बिहारी कृष्ण
राधे मोरी बंसी कहा खो गयी,
कोई ना बताये और शाम हो गयी,
तेरी मंद मंद मुस्कनिया पे ,बलिहार
तेरी मंद मंद मुस्कनिया पे ,बलिहार
राधिका गोरी से ब्रिज की छोरी से ,
मैया करादे मेरो ब्याह,
सब के संकट दूर करेगी, यह बरसाने वाली,
बजाओ राधा नाम की ताली ।
मेरा यार यशुदा कुंवर हो चूका है
वो दिल हो चूका है जिगर हो चूका है
यह मेरी अर्जी है,
मैं वैसी बन जाऊं जो तेरी मर्ज़ी है
वृंदावन में हुकुम चले बरसाने वाली का,
कान्हा भी दीवाना है श्री श्यामा
तू राधे राधे गा ,
तोहे मिल जाएं सांवरियामिल जाएं
मुँह फेर जिधर देखु मुझे तू ही नज़र आये
हम छोड़के दर तेरा अब और किधर जाये
प्रभु कर कृपा पावँरी दीन्हि
सादर भारत शीश धरी लीन्ही
प्रीतम बोलो कब आओगे॥
बालम बोलो कब आओगे॥
मीठे रस से भरी रे, राधा रानी लागे,
मने कारो कारो जमुनाजी रो पानी लागे
एक दिन वो भोले भंडारी बन कर के ब्रिज
पारवती भी मना कर ना माने त्रिपुरारी,
एक कोर कृपा की करदो स्वामिनी श्री
दासी की झोली भर दो लाडली श्री राधे॥
मुझे चढ़ गया राधा रंग रंग, मुझे चढ़
श्री राधा नाम का रंग रंग, श्री राधा
कहना कहना आन पड़ी मैं तेरे द्वार ।
मुझे चाकर समझ निहार ॥