Share this page on following platforms.
Download Bhajan as .txt File Download Bhajan as IMAGE File

आदत आदत आदत है,
       जिसको पड़ी जिसकी आदत है।

आदत आदत आदत है,
       जिसको पड़ी जिसकी आदत है।
   हम पर तो श्री जी ने की है कृपा,
       राधे कहने की आदत है।।

​​राधे राधे राधे कहने की आदत सी हो गयी है।
श्री जी के चरनो मे रहने की आदत सी हो गयी है।।

श्यामा द्वारे आ पडी हुं तेरे नाम के सहारे।।

​राधे राधे राधे कहने की आदत सी हो गयी है ॥

. कोई पागल या दिवाना ओर मस्ताना हि कहे ।
ऐसी बातो को अब सहने कि आदत सी हो गयी है ॥

. अब चाहे डूबा दो या बना दो कोई गम भी तो नही ।
हमको तेरे नाम में बहने कि आदत सी हो गई है ॥

. मेरी फ़रियाद पे न तुमने कोई गौर ही किया ।
बीती बातों को दोहराने की आदत सी हो गई है ॥

​राधे राधे राधे  कहने की आदत सी हो गयी है ।
श्री जी के चरनो मे रहने की आदत सी हो गयी है ॥



radhe radhe radhe kehane ki aadat si ho gayi hai



Bhajan Lyrics View All

तू कितनी अच्ची है, तू कितनी भोली है,
ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ ।
Ye Saare Khel Tumhare Hai Jag
Kahta Khel Naseebo Ka
मेरा आपकी कृपा से,
सब काम हो रहा है
तेरे बगैर सांवरिया जिया नही जाये
तुम आके बांह पकड लो तो कोई बात बने‌॥
ना मैं मीरा ना मैं राधा,
फिर भी श्याम को पाना है ।
प्रभु कर कृपा पावँरी दीन्हि
सादर भारत शीश धरी लीन्ही
अच्युतम केशवं राम नारायणं,
कृष्ण दमोधराम वासुदेवं हरिं,
आँखों को इंतज़ार है सरकार आपका
ना जाने होगा कब हमें दीदार आपका
तेरी मुरली की धुन सुनने मैं बरसाने से
मैं बरसाने से आयी हूँ, मैं वृषभानु की
मेरी करुणामयी सरकार, मिला दो ठाकुर से
कृपा करो भानु दुलारी, श्री राधे
हर पल तेरे साथ मैं रहता हूँ,
डरने की क्या बात? जब मैं बैठा हूँ
मेरी रसना से राधा राधा नाम निकले,
हर घडी हर पल, हर घडी हर पल।
मुझे रास आ गया है, तेरे दर पे सर झुकाना
तुझे मिल गया पुजारी, मुझे मिल गया
हो मेरी लाडो का नाम श्री राधा
श्री राधा श्री राधा, श्री राधा श्री
मेरे जीवन की जुड़ गयी डोर, किशोरी तेरे
किशोरी तेरे चरणन में, महारानी तेरे
मन चल वृंदावन धाम, रटेंगे राधे राधे
मिलेंगे कुंज बिहारी, ओढ़ के कांबल
नी मैं दूध काहे नाल रिडका चाटी चो
लै गया नन्द किशोर लै गया,
एक दिन वो भोले भंडारी बन कर के ब्रिज
पारवती भी मना कर ना माने त्रिपुरारी,
दिल की हर धड़कन से तेरा नाम निकलता है
तेरे दर्शन को मोहन तेरा दास तरसता है
मेरी करुणामयी सरकार पता नहीं क्या दे
क्या दे दे भई, क्या दे दे
कोई पकड़ के मेरा हाथ रे,
मोहे वृन्दावन पहुंच देओ ।
राधिका गोरी से ब्रिज की छोरी से ,
मैया करादे मेरो ब्याह,
सांवरियो है सेठ, म्हारी राधा जी
यह तो जाने दुनिया सारी है
वृन्दावन के बांके बिहारी,
हमसे पर्दा करो ना मुरारी ।
तेरे दर पे आके ज़िन्दगी मेरी
यह तो तेरी नज़र का कमाल है,
श्याम बुलाये राधा नहीं आये,
आजा मेरी प्यारी राधे बागो में झूला
बांके बिहारी की देख छटा,
मेरो मन है गयो लटा पटा।
कैसे जीऊं मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही न लगे श्यामा तेरे बिना
तेरे दर की भीख से है,
मेरा आज तक गुज़ारा
हम प्रेम नगर के बंजारिन है
जप ताप और साधन क्या जाने