Share this page on following platforms.
Download Bhajan as .txt File Download Bhajan as IMAGE File

भोले बाबा ने ऐसा वजाया डमरू-॥,
सारा कैलाश परबत मग्न हो गया स ॥

भोले बाबा ने ऐसा वजाया डमरू-॥,
सारा कैलाश परबत मग्न हो गया स ॥

सुन डमरू की आवाज़ ब्रह्मा चले
यहां ब्रह्मा चले वहां विष्णु चले
वहां लक्ष्मी का ॥, मन भी मग्न हो गया-॥,
सारा कैलाश परबत मग्न हो गया

सुन डमरू की आवाज़ गंगा चले
यहां गंगा चले वहां यमुना चले
वहां सरयू का ॥, मन भी मग्न हो गया-॥,
सारा कैलाश परबत मग्न हो गया

सुन डमरू की आवाज़ सूरज चले
यहां सूरज चले वहां चंदा चले
वहां तारों का ॥, मन भी मग्न हो गया-॥,
सारा कैलाश परबत मग्न हो गया

सुन डमरू की आवाज़ कान्हा चले
यहां कान्हा चले वहां राधा भी चले
वहां सखिओं का ॥, मन भी मग्न हो गया-॥,
सारा कैलाश परबत मग्न हो गया

सुन डमरू की आवाज़ गणपत चले
यहां गणपत चले वहां कार्तिक चले
वहां अम्बे का ॥, मन भी मग्न हो गया-॥,
सारा कैलाश परबत मग्न हो गया

रामा ने सुना लक्ष्मण ने सुना
माँ सीता का मन भी मग्न हो गया
भोले बाबा ने ॥, ऐसा वजाया डमरू॥,



bhole baba ne aisa bajaya damru sara kelash parvat mrag ho geya



Bhajan Lyrics View All

मेरी करुणामयी सरकार पता नहीं क्या दे
क्या दे दे भई, क्या दे दे
राधा ढूंढ रही किसी ने मेरा श्याम देखा
श्याम देखा घनश्याम देखा
हम राम जी के, राम जी हमारे हैं
वो तो दशरथ राज दुलारे हैं
हर साँस में हो सुमिरन तेरा,
यूँ बीत जाये जीवन मेरा
तुम रूठे रहो मोहन,
हम तुमको मन लेंगे
ये तो बतादो बरसानेवाली,मैं कैसे
तेरी कृपा से है यह जीवन है मेरा,कैसे
जय राधे राधे, राधे राधे
जय राधे राधे, राधे राधे
लाडली अद्बुत नज़ारा तेरे बरसाने में
लाडली अब मन हमारा तेरे बरसाने में है।
तमन्ना यही है के उड के बरसाने आयुं मैं
आके बरसाने में तेरे दिल की हसरतो को
सावरे से मिलने का सत्संग ही बहाना है ।
सारे दुःख दूर हुए, दिल बना दीवाना है ।
साँवरिया ऐसी तान सुना,
ऐसी तान सुना मेरे मोहन, मैं नाचू तू गा
मुझे रास आ गया है,
तेरे दर पे सर झुकाना
अपनी वाणी में अमृत घोल
अपनी वाणी में अमृत घोल
दुनिया से मैं हारा तो आया तेरे द्वार,
यहाँ से गर जो हरा कहाँ जाऊँगा सरकार
बोल कान्हा बोल गलत काम कैसे हो गया,
बिना शादी के तू राधे श्याम कैसे हो
कैसे जीऊं मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही न लगे श्यामा तेरे बिना
कहना कहना आन पड़ी मैं तेरे द्वार ।
मुझे चाकर समझ निहार ॥
जीवन खतम हुआ तो जीने का ढंग आया
जब शमा बुझ गयी तो महफ़िल में रंग आया
प्रीतम बोलो कब आओगे॥
बालम बोलो कब आओगे॥
राधे तु कितनी प्यारी है ॥
तेरे संग में बांके बिहारी कृष्ण
राधे मोरी बंसी कहा खो गयी,
कोई ना बताये और शाम हो गयी,
तीनो लोकन से न्यारी राधा रानी हमारी।
राधा रानी हमारी, राधा रानी हमारी॥
बहुत बड़ा दरबार तेरो बहुत बड़ा दरबार,
चाकर रखलो राधा रानी तेरा बहुत बड़ा
दिल की हर धड़कन से तेरा नाम निकलता है
तेरे दर्शन को मोहन तेरा दास तरसता है
श्यामा प्यारी मेरे साथ हैं,
फिर डरने की क्या बात है
वृदावन जाने को जी चाहता है,
राधे राधे गाने को जी चाहता है,
हम प्रेम नगर के बंजारिन है
जप ताप और साधन क्या जाने
तू कितनी अच्ची है, तू कितनी भोली है,
ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ ।
मीठे रस से भरी रे, राधा रानी लागे,
मने कारो कारो जमुनाजी रो पानी लागे
मुँह फेर जिधर देखु मुझे तू ही नज़र आये
हम छोड़के दर तेरा अब और किधर जाये