Share this page on following platforms.

Home Katha Bhaktmal Katha

श्रीभक्तमाल कथा - श्री राजेंद्रदास जी || वृंदावन, 4-10 नवंबर, 2015

LIVE - Shri Bhaktmal Katha by Shri Rajendra Das Ji - 4th Nov 2015 || Day 1

LIVE - Shri Bhaktmal Katha by Shri Rajendra Das Ji - 5th Nov 2015 || Day 2

LIVE - Shri Bhaktmal Katha by Shri Rajendra Das Ji - 6th Nov 2015 || Day 3

LIVE - Shri Bhaktmal Katha by Shri Rajendra Das Ji - 7th Nov 2015 || Day 4

LIVE - Shri Bhaktmal Katha by Shri Rajendra Das Ji - 8th Nov 2015 || Day 5

LIVE - Shri Bhaktmal Katha by Shri Rajendra Das Ji - 9th Nov 2015 || Day 6

LIVE - Shri Bhaktmal Katha by Shri Rajendra Das Ji - 10th Nov 2015 || Day 7

Contents of this list:

LIVE - Shri Bhaktmal Katha by Shri Rajendra Das Ji - 4th Nov 2015 || Day 1
LIVE - Shri Bhaktmal Katha by Shri Rajendra Das Ji - 5th Nov 2015 || Day 2
LIVE - Shri Bhaktmal Katha by Shri Rajendra Das Ji - 6th Nov 2015 || Day 3
LIVE - Shri Bhaktmal Katha by Shri Rajendra Das Ji - 7th Nov 2015 || Day 4
LIVE - Shri Bhaktmal Katha by Shri Rajendra Das Ji - 8th Nov 2015 || Day 5
LIVE - Shri Bhaktmal Katha by Shri Rajendra Das Ji - 9th Nov 2015 || Day 6
LIVE - Shri Bhaktmal Katha by Shri Rajendra Das Ji - 10th Nov 2015 || Day 7

Bhajan Lyrics View All

Ye Saare Khel Tumhare Hai Jag
Kahta Khel Naseebo Ka
तेरी मंद मंद मुस्कनिया पे ,बलिहार
तेरी मंद मंद मुस्कनिया पे ,बलिहार
अच्युतम केशवं राम नारायणं,
कृष्ण दमोधराम वासुदेवं हरिं,
तू कितनी अच्ची है, तू कितनी भोली है,
ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ ।
इक तारा वाजदा जी हर दम गोविन्द
जग ताने देंदा ए, तै मैनु कोई फरक नहीं
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से
गोविन्द नाम लेकर, फिर प्राण तन से
दुनिया से मैं हारा तो आया तेरे द्वार,
यहाँ से गर जो हरा कहाँ जाऊँगा सरकार
बृज के नन्द लाला राधा के सांवरिया
सभी दुख: दूर हुए जब तेरा नाम लिया
नी मैं दूध काहे नाल रिडका चाटी चो
लै गया नन्द किशोर लै गया,
श्यामा तेरे चरणों की गर धूल जो मिल
सच कहता हूँ मेरी तकदीर बदल जाए॥
मेरा यार यशुदा कुंवर हो चूका है
वो दिल हो चूका है जिगर हो चूका है
एक दिन वो भोले भंडारी बन कर के ब्रिज
पारवती भी मना कर ना माने त्रिपुरारी,
कहना कहना आन पड़ी मैं तेरे द्वार ।
मुझे चाकर समझ निहार ॥
राधा नाम की लगाई फुलवारी, के पत्ता
के पत्ता पत्ता श्याम बोलता, के पत्ता
राधा कट दी है गलिआं दे मोड़ आज मेरे
श्याम ने आना घनश्याम ने आना
जय राधे राधे, राधे राधे
जय राधे राधे, राधे राधे
ना मैं मीरा ना मैं राधा,
फिर भी श्याम को पाना है ।
श्याम बुलाये राधा नहीं आये,
आजा मेरी प्यारी राधे बागो में झूला
बहुत बड़ा दरबार तेरो बहुत बड़ा दरबार,
चाकर रखलो राधा रानी तेरा बहुत बड़ा
जग में सुन्दर है दो नाम, चाहे कृष्ण
बोलो राम राम राम, बोलो श्याम श्याम
मुझे चाहिए बस सहारा तुम्हारा,
के नैनों में गोविन्द नज़ारा तुम्हार
तेरे दर पे आके ज़िन्दगी मेरी
यह तो तेरी नज़र का कमाल है,
मुझे रास आ गया है,
तेरे दर पे सर झुकाना
सांवरिया है सेठ ,मेरी राधा जी सेठानी
यह तो सारी दुनिया जाने है
प्रभु कर कृपा पावँरी दीन्हि
सादर भारत शीश धरी लीन्ही
हे राम, हे राम, हे राम, हे राम
जग में साचे तेरो नाम । हे राम...
कैसे जिऊ मैं राधा रानी तेरे बिना
मेरा मन ही ना लागे तुम्हारे बिना
ज़िंदगी मे हज़ारो का मेला जुड़ा
हंस जब जब उड़ा तब अकेला उड़ा
मेरी विनती यही है राधा रानी, कृपा
मुझे तेरा ही सहारा महारानी, चरणों से
बांके बिहारी की देख छटा,
मेरो मन है गयो लटा पटा।