Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 10.11 Download BG 10.11 as Image

⮪ BG 10.10 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 10.12⮫

Bhagavad Gita Chapter 10 Verse 11

भगवद् गीता अध्याय 10 श्लोक 11

तेषामेवानुकम्पार्थमहमज्ञानजं तमः।
नाशयाम्यात्मभावस्थो ज्ञानदीपेन भास्वता।।10.11।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 10.11)

।।10.11।।उन भक्तोंपर कृपा करनेके लिये ही उनके स्वरूप (होनेपन) में रहनेवाला मैं उनके अज्ञानजन्य अन्धकारको देदीप्यमान ज्ञानरूप दीपकके द्वारा सर्वथा नष्ट कर देता हूँ।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।10.11।। उनके ऊपर अनुग्रह करने के लिए मैं उनके अन्तकरण में स्थित होकर? अज्ञानजनित अन्धकार को प्रकाशमय ज्ञान के दीपक द्वारा नष्ट करता हूँ।।