Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 9.15 Download BG 9.15 as Image

⮪ BG 9.14 Bhagwad Gita Swami Ramsukhdas Ji BG 9.16⮫

Bhagavad Gita Chapter 9 Verse 15

भगवद् गीता अध्याय 9 श्लोक 15

ज्ञानयज्ञेन चाप्यन्ये यजन्तो मामुपासते।
एकत्वेन पृथक्त्वेन बहुधा विश्वतोमुखम्।।9.15।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 9.15)

।।9.15।।दूसरे साधक ज्ञानयज्ञके द्वारा एकीभावसे (अभेदभावसे) मेरा पूजन करते हुए मेरी उपासना करते हैं और दूसरे कई साधक अपनेको पृथक् मानकर चारों तरफ मुखवाले मेरे विराट्रूपकी अर्थात् संसारको मेरा विराट्रूप मानकर (सेव्यसेवकभावसे) मेरी अनेक प्रकारसे उपासना करते हैं।

हिंदी टीका - स्वामी रामसुख दास जी

।।9.15।। व्याख्या --  [जैसे? भूखे आदमियोंकी भूख एक होती है और भोजन करनेपर सबकी तृप्ति भी एक होती है परन्तु उनकी भोजनके पदार्थोंमें रुचि भिन्नभिन्न होती है। ऐसे ही परिवर्तनशील अनित्य संसारकी तरफ लगे हुए लोग कुछ भी करते हैं? पर उनकी तृप्ति नहीं होती? वे अभावग्रस्त ही रहते हैं। जब वे संसारसे विमुख होकर परमात्माकी तरफ ही चलते हैं? तब परमात्माकी प्राप्ति होनेपर उन सबकी तृप्ति हो जाती है अर्थात् वे कृतकृत्य? ज्ञातज्ञातव्य और प्राप्तप्राप्तव्य हो जाते हैं। परन्तु उनकी रुचि? योग्यता? श्रद्धा? विश्वास आदि भिन्नभिन्न होते हैं। इसलिये उनकी उपासनाएँ भी भिन्नभिन्न होती हैं।]ज्ञानयज्ञेन चाप्यन्ये यजन्तो मामुपासते एकत्वेन -- कई ज्ञानयोगी साधक ज्ञानयज्ञसे अर्थात् विवेकपूर्वक असत्का त्याग करते हुए सर्वत्र व्यापक परमात्मतत्त्वको और अपने वास्तविक स्वरूपको एक मानते हुए मेरे निर्गुणनिराकार स्वरूपकी उपासना करते हैं।इस परिवर्तनशील संसारकी कोई स्वतन्त्र सत्ता नहीं है क्योंकि यह संसार पहले अभावरूपसे था और अब भी अभावमें जा रहा है। अतः यह अभावरूप ही है। जिससे संसार उत्पन्न हुआ है? जिसके आश्रित है और जिससे प्रकाशित होता है? उस परमात्माकी सत्तासे ही इसकी सत्ता प्रतीत हो रही है। उस परमात्माके साथ हमारी एकता है -- इस प्रकार उस परमात्माकी तरफ नित्यनिरन्तर दृष्टि रखना ही एकीभावसे उपासना करना है।यहाँ यजन्तः पदका तात्पर्य है कि उनके भीतर केवल परमात्मतत्त्वका ही आदर है -- यही उनका पूजन है।पृथक्त्वेन बहुधा विश्वतोमुखम् -- ऐसे ही कई कर्मयोगी साधक अपनेको सेवक मानकर और मात्र संसारको भगवान्का विराट्रूप मानकर अपने शरीर? इन्द्रियाँ? मन? बुद्धि आदिकी सम्पूर्ण क्रियाओंको तथा पदार्थोंको संसारकी सेवामें ही लगा देते हैं। इन सबको सुख कैसे हो? सबका दुःख कैसे मिटे? इनकी सेवा कैसे बने -- ऐसी विचारधारासे वे अपने तन? मन? धन आदिसे जनताजनार्दनकी सेवामें ही लगे रहते हैं? भगवत्कृपासे उनको पूर्णताकी प्राप्ति हो जाती है। सम्बन्ध --  जब सभी उपासनाएँ अलगअलग हैं? तो फिर सभी उपासनाएँ आपकी कैसे हुईं इसपर आगेके चार श्लोक कहते हैं।