Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 6.11 Download BG 6.11 as Image

⮪ BG 6.10 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 6.12⮫

Bhagavad Gita Chapter 6 Verse 11

भगवद् गीता अध्याय 6 श्लोक 11

शुचौ देशे प्रतिष्ठाप्य स्थिरमासनमात्मनः।
नात्युच्छ्रितं नातिनीचं चैलाजिनकुशोत्तरम्।।6.11।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 6.11)

।।6.11।।शुद्ध भूमिपर जिसपर क्रमशः कुश मृगछाला और वस्त्र बिछे हैं जो न अत्यन्त ऊँचा है और न अत्यन्त नीचा ऐसे अपने आसनको स्थिरस्थापन करके

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।6.11।। शुद्ध (स्वच्छ) भूमि में कुश मृगशाला और उस पर वस्त्र रखा हो ऐसे अपने आसन को न अति ऊँचा और न अति नीचा स्थिर स्थापित करके৷৷.।।