Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 5.9 Download BG 5.9 as Image

⮪ BG 5.8 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 5.10⮫

Bhagavad Gita Chapter 5 Verse 9

भगवद् गीता अध्याय 5 श्लोक 9

प्रलपन्विसृजन्गृह्णन्नुन्मिषन्निमिषन्नपि।
इन्द्रियाणीन्द्रियार्थेषु वर्तन्त इति धारयन्।।5.9।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 5.9)

।।5.8 5.9।।तत्त्वको जाननेवाला सांख्ययोगी देखता सुनता छूता सूँघता खाता चलता ग्रहण करता बोलता त्याग करता सोता श्वास लेता तथा आँखें खोलता और मूँदता हुआ भी सम्पूर्ण इन्द्रियाँ इन्द्रियोंके विषयोंमें बरत रही हैं ऐसा समझकर मैं (स्वयं) कुछ भी नहीं करता हूँ ऐसा माने।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।5.9।। बोलता हुआ त्यागता हुआ ग्रहण करता हुआ तथा आँखों को खोलता और बन्द करता हुआ (वह) निश्चयात्मक रूप से जानता है कि सब इन्द्रियाँ अपनेअपने विषयों में विचरण कर रही हैं।।